Gaumukh Glacier : Trek पर जाने से पहले जान लें काम के TIPS

Gaumukh Glacier : Trek पर जाने से पहले जान लें काम के TIPS

On

उत्तराखंड (Uttarakhand) के गढ़वाल (Garhwal) क्षेत्र में गौमुख-तपोवन-नंदनवन सबसे मशहूर और पसंद किए जाने वाला ट्रेक है। ये इस पूरे सर्किट में सबसे लोकप्रिय ट्रेक हैं

बनाएं Brand की शान, Hindi में लिख डालें पहचान- Best Travel Blog in Hindi

बनाएं Brand की शान, Hindi में लिख डालें पहचान- Best Travel Blog in Hindi

On

बना डालिए अपने ब्रैंड की शान, लिख डालिए हिंदी में अपनी पहचान, वो भी ट्रैवल जुनून के साथ. हम वादा करते हैं, हिंदी की घुमक्कड़ी में हमसे बेहतर आपको कोई दोस्त नहीं मिलेगा. हम आपके ब्रैंड, प्रॉपर्टी, टूर पैकेज, डेस्टिनेशन के बारे में हिंदी में लिखेंगे.

डेरा बाबा नानक : जहां आए थे गुरु नानक जी, आज भी है वो पवित्र कुआं

डेरा बाबा नानक : जहां आए थे गुरु नानक जी, आज भी है वो पवित्र कुआं

On

सिखों के पहले गुरु, गुरु नानक देव जी का जीवनकाल यात्राओं से भरा हुआ था. वह जहां भी गए, वहां रुके और लोगों की मदद की. गुरुनानक देव जी जहां भी गए वहां पर आज हम गुरुद्वारों को देख सकते हैं. गुरुजी की ऐसी ही यात्रा से जुड़ा गुरुद्वारा है गुरुद्वारा डेरा बाबा नानक. एक तरफ बॉर्डर के उस पार पाकिस्तान में गुरुद्वारा करतारपुर साहिब है तो वहीं बॉर्डर के इस पार हिंदुस्तान में गुरुद्वारा डेरा बाबा नानक है

Maa Vaishno Devi Yatra : वैष्णो देवी यात्रा कैसे करें पूरी, जरूरी Information

Maa Vaishno Devi Yatra : वैष्णो देवी यात्रा कैसे करें पूरी, जरूरी Information

On

वैष्णो देवी (Maa Vaishno Devi) की यात्रा भारत में एक तीर्थ की तरह है. देवी देवताओं के दर्शनीय स्थलों का नाम लेते ही, वैष्णों देवी का जिक्र जहन में केदारनाथ, बदरीनाथ, यमुनोत्री, गंगोत्री, बालाजी जैसे धामों के साथ ही सबसे पहले आता है.

Surkanda Devi Mandir : यहां देवी सती का गिरा था सिर, जानें Uttarakhand के पवित्र मंदिर को

Surkanda Devi Mandir : यहां देवी सती का गिरा था सिर, जानें Uttarakhand के पवित्र मंदिर को

On

सुरकण्डा देवी मंदिर (Surkanda Devi Mandir) उत्तराखंज के टिहरी गढ़वाल जिले में जौनपुर के सुरकुट पर्वत पर स्थित एक प्रमुख हिंदू मंदिर है. यह मंदिर धनौल्टी और कानातल के बीच स्थित है. चंबा-मसूरी मार्ग पर कद्दूखाल कस्बे से डेढ़ किमी पैदल चढ़ाई चढ़कर आप सुरकण्डा देवी मंदिर (Surkanda Devi Mandir) पहुंच सकते हैं.

घुमक्कड़ी और सिनेमा का संगम- Woodpecker International Film Festival

घुमक्कड़ी और सिनेमा का संगम- Woodpecker International Film Festival

On

घुमक्कड़ी करते हैं और फिल्मों का भी शौक रखते हैं तो दिल्ली की एक महफिल आपका इंतजार कर रही है. दिल्ली के दिल में आपके लिए एक इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल का आयोजन किया गया है. अहम बात तो ये है कि इसकी एंट्री बिल्कुल फ्री है.

Kartarpur Sahib Yatra : क्या वो ISI की नजरें थी, जो मुझे घूर रही थीं ?

Kartarpur Sahib Yatra : क्या वो ISI की नजरें थी, जो मुझे घूर रही थीं ?

On

करतारपुर कॉरिडोर (Kartarpur Corridor) की मेरी यात्रा अब तक की सबसे बेहतरीन और यादगार यात्रा रही है. मैं पहली बार किसी दूसरे मुल्क में गया, वो भी पाकिस्तान (Pakistan) में… मैं कदमों से चलकर इस देश में गया, कदमों से सीमाएं पार की, और हर नजारे को

Kartarpur Corridor Journey : कैसे पहुंचे करतारपुर साहिब , Tips to Know

Kartarpur Corridor Journey : कैसे पहुंचे करतारपुर साहिब , Tips to Know

On

करतारपुर कॉरिडोर ( Kartarpur Corridor ) की यात्रा मेरी लाइफ में अब तक की सबसे यादगार यात्रा बनी. इस यात्रा ने मुझे ऐसे अनुभव दिए जो जीवनभर मेरे साथ चलेंगे. मैं इस यात्रा से जुड़ी हर बातें आपसे शेयर करूंगा. मेरे लेख अलग अलग हिस्से में आएंगे.

Chhath Pooja : वो नदी, जिसे आज ‘छठ’ का इंतजार है…!

Chhath Pooja : वो नदी, जिसे आज ‘छठ’ का इंतजार है…!

On

हमारे देश में नदियों का जुड़ाव त्योहारों से बरसों से रहा है. नदीं और जल से जुड़ाव का ही एक पावन पर्व है छठ (Chhath). हर साल देश में करोड़ों लोग इस पावन पर्व को मनाते हैं. इस पर्व के लिए नदी, घाट या छोटा टैंक का खासा महत्व है. लेकिन तब क्या हो जब एक नदी का जुड़ाव इससे होकर भी खत्म होता सा हो.

Nainital-Mukteshwar Journey: मैंने दोस्त से कहा- पहाड़ छोड़कर तुमने बड़ी गलती की!

Nainital-Mukteshwar Journey: मैंने दोस्त से कहा- पहाड़ छोड़कर तुमने बड़ी गलती की!

On

मुक्तेश्वर (Mukteshwar) और मैं… नैनीताल (Nainital) की इस छोटी सी जगह के बारे में मैंने पहले काफी सुना हुआ था, खासतौर से अपने दोस्त अमित से, जिनका बचपन मुक्तेश्वर (Mukteshwar) में ही बीता था. उनके पिता आईवीआरआई में जॉब करते थे. उन्होंने मुझे मुक्तेश्वर (Mukteshwar) में बिताए अपने बचपन से जुड़ी कई बातों को साझा किया था.

Ghalib ki Haveli: गालिब की हवेली में मैंने क्या देखा?

Ghalib ki Haveli: गालिब की हवेली में मैंने क्या देखा?

On

गालिब की हवेली (Ghalib ki Haveli) में मैंने क्या देखा? ये एक ऐसा सवाल है जिसे मैंने अपने आपसे पूछा, वो भी तब जब गालिब की हवेली गए हुए मुझे 3 दिन बीत चुके थे. मुझे याद आया मैं चांदनी चौक की सड़क पर चलते हुए बल्लीमारान पहुंचा था. जूतियों की एक दुकान पर हवेली का रास्ता मैंने पूछा था. 

सेठ चुन्नामल हवेली (Chunnamal Haveli): दीवार पर आज भी 1864 वाली उर्दू लिखी है!

सेठ चुन्नामल हवेली (Chunnamal Haveli): दीवार पर आज भी 1864 वाली उर्दू लिखी है!

On

हवेली को दूर से देखकर ही मैं समझ गया था कि यही चुन्नामल हवेली (Chunnamal Haveli) होगी. पास गया तो मुख्य दरवाजे के पास संतोष सिंह नाम के शख्स मिले जो हवेली के दरवाजे पर ही थे. मैंने उनसे अंदर जाने की अनुमति मांगी तो उन्होंने कहा कि आप हवेली के मालिकों से पहले बात कर लीजिए…

Chandigarh, A Delightful Visit To The Green City Of India 

Chandigarh, A Delightful Visit To The Green City Of India 

On

India is one of the most famous travel destinations in the world. With so much to offer, this place is like a paradise for every interest. The rich history of the country attracts millions of travelers every year. It’s not only the history of India but, so much more you can experience here.

<font color=”#DC143C”>PROMOTION:</font> अपनों से बांटे प्यार, दीजिए ये BEST GIFTS

PROMOTION: अपनों से बांटे प्यार, दीजिए ये BEST GIFTS

On

आज कल की इस भाग दौड़ भरी ज़िन्दगी मे जहाँ हमारे पास खुद के लिए भी वक़्त नहीं हैं, ऐसे मे अपने चाहने वालों को स्पेशल फील करवाने के लिए उन्हें समय देना और बिना किसी मौके के गिफ्ट देना बहुत ज़रूरी हैं.

साउथ अमेरिका में इस भारतीय ने लहराया तिरंगा, तस्वीरें देख आत्मा खुश हो जाएगी

साउथ अमेरिका में इस भारतीय ने लहराया तिरंगा, तस्वीरें देख आत्मा खुश हो जाएगी

On

अभिषेक त्रिपाठी एक भारतीय हैं लेकिन दुनिया कदमों से नाप लेना उनका जुनून है. अभिषेक के इस जुनून ने उन्हें पहुंचाया धरती की बेहद खूबसूरत जगह साउथ अमेरिका में. इससे पहले अभिषेक अर्जेंटीना और चिलियन पेटागोनिया जा चुके थे. साउथ अमेरिका के Andes Mountains इस धरा की बेहद ही आश्चर्य कर देने वाली खूबसूरती से भरे हुए हैं. आप खुद देखें तस्वीरें. इन्हें देख आप वाह, नहीं वाह अभिषेक कहेंगे

इस मंदिर की नकल कर अंग्रेजों ने बनाया था संसद भवन, जानें कहानी

इस मंदिर की नकल कर अंग्रेजों ने बनाया था संसद भवन, जानें कहानी

On

देश के संविधान का सबसे बड़ा मंदिर – संसद, असल में एक मंदिर के रूप में ही तैयार किया गया है, इसकी वास्तुकला एक मंदिर से ही प्रेरित है। जी हां संसद को देखने के लिए विदेशों से लोग आते हैं वो इस बात से वाकिफ नहीं है कि संसद मध्य प्रदेश के एक मंदिर के डिजाइन से प्रेरित है।

<font color=”#DC143C”>PROMOTION:</font> गोवा, हनीमून के लिए भारत का सबसे लोकप्रिय पर्यटक स्थल

PROMOTION: गोवा, हनीमून के लिए भारत का सबसे लोकप्रिय पर्यटक स्थल

On

गोवा निश्चित रूप से भारत में सबसे रोमानी और अनोखी जगह है, इसलिए यह हनीमून के लिए सबसे लोकप्रिय पर्यटक स्थल भी है। भारत के पश्चिमी तट पर अरब सागर से सटा हुआ ये राज्य केवल ३७०२ (3702) वर्ग किलोमीटर के क्षेत्रफल के साथ, गोवा भारत का सबसे छोटा राज्य है ।

फॉरवर्ड प्रेस हिंदी के संपादक नवल किशोर कुमार की एक यात्रा

फॉरवर्ड प्रेस हिंदी के संपादक नवल किशोर कुमार की एक यात्रा

On

2016 में फारवर्ड प्रेस के प्रबंध संपादक प्रमोद रंजन के साथ मैंने छोटानागपुर की यात्रा की थी। उस यात्रा के दौरान हमदोनों गुमला जिले के बिशुनपुर प्रखंड के कई असुर समुदाय बहुल गांवों में गए थे। वहां अनिल असुर, सुषमा असुर जैसे मित्र मिले जो आज भी हमारे साथी हैं।

उत्तराखंडः पहाड़ की गोद में बसा है ये गांव, सफर पर खर्च होंगे सिर्फ 3850/-

उत्तराखंडः पहाड़ की गोद में बसा है ये गांव, सफर पर खर्च होंगे सिर्फ 3850/-

On

पहाड़ का सफर कौन नहीं करना चाहता? और वो भी मई जून की भीषण गर्मियों में…! दिल्ली की उमस भरी गर्मी और ऑफिस की थकान दूर करने के लिए पहाड़ से बेहतर ठिकाना हो ही नहीं सकता है. आपकी इसी जरूरत को समझते हुए ट्रैवल जुनून लेकर आया है एक ट्रैवल प्लान, जो पहाड़ में होने जा रहा है. ये सफर दिल्ली से शुरू होगा और इसकी मंजिल होगी, ऋषिकेश से 30 किलोमीटर से ज्यादा दूरी पर स्थित कोटी गांव.

फ्लाइनेस 1 जुलाई से रियाद और नई दिल्ली के बीच सीधी उड़ानें शुरू करेगा

फ्लाइनेस 1 जुलाई से रियाद और नई दिल्ली के बीच सीधी उड़ानें शुरू करेगा

On

रियाद, सउदी अरब. सऊदी अरब की राष्ट्रीय विमान कंपनी और मध्य पूर्व की कम बजट की एयरलाइन कंपनी, “फ्लाइनेस” ने सउदी अरब की राजधानी रियाद और भारत की राजधानी नई देल्ही के बीच 1 जुलाई से सीधी विमान सेवा की घोषणा की है.

RISHIKESH में RIVERSIDE CAMPING, ट्रिप का पूरा खर्च 1500 रुपये

RISHIKESH में RIVERSIDE CAMPING, ट्रिप का पूरा खर्च 1500 रुपये

On

ऋिषेकेश एक आध्यात्मिक नगरी है. यहां आश्रम, आरतियां, मां गंगा का स्वरूप तो है ही लेकिन साथ में एडवेंचर टूरिज्म का भी ये एक बेहतरीन स्पॉट हैं.

क्या सचमुच छोटा GOA बनता जा रहा है RISHIKESH, या मुझे ही लग रहा है!

क्या सचमुच छोटा GOA बनता जा रहा है RISHIKESH, या मुझे ही लग रहा है!

On

ऋषिकेश से हमेशा से ही मेरा एक जुड़ाव रहा है. पहाड़ का ये पहला शहर था जहां मैं कॉलेज में रहते हुए स्टडी टूर पर गया था. मां गंगा, आरतियां और पर्वतों की चोटी सब कुछ तो है इस जगह पर. पोस्ट ग्रेजुएशन में डिप्लोमा करते हुए मैं भारतीय विद्या भवन के स्टडी टूर पर पहली बार इस शहर में आया था.

Old Goa Church: इसपर क्यों नहीं टिका कोई भी क्रॉस, ड्राइवर ने सुनाया हैरत भरा इतिहास

Old Goa Church: इसपर क्यों नहीं टिका कोई भी क्रॉस, ड्राइवर ने सुनाया हैरत भरा इतिहास

On

गोवा की राजधानी पणजी में एक चर्च है जिसका नाम ‘बेसिलिका ऑफ बॉम जीसस’ है। यहां पर सेंट फ्रांसिस जेवियर का शरीर 450 साल से सुरक्षित रूप से रखा गया है। ऐसा कहते हैं कि फ्रांसिस जेवियर की डेड बॉडी में आज भी दिव्य शक्तियां मौजूद हैं, जिस वजह से ये आज तक खराब नहीं हुई है।

बाबा काशी विश्वनाथ के दर्शन का अद्भुत Travel Blog

बाबा काशी विश्वनाथ के दर्शन का अद्भुत Travel Blog

On

मंदिरों में वीआईपी सिस्टम (खासकर पैसे देकर दर्शन करना) का हमेशा से विरोधी रहा हूँ। आज से लगभग 2 साल पहले उज्जैन के महाकाल ज्योतिर्लिंग में सौगंध ली थी कि जिस मंदिर में पैसे देकर इंसान उसके सामने ‘वीआईपी’ बन जाता हो, जिसने उसे बनाया है, वहां कभी नहीं जाऊंगा।

केरल का वह कॉम्युनिस्ट नाविक कांग्रेसी भी है और भाजपाई भी

केरल का वह कॉम्युनिस्ट नाविक कांग्रेसी भी है और भाजपाई भी

On

हम नाव पर बैठे ही थे कि नाविक ने सवाल किया, ‘आपने ब्रेकफ़ास्ट किया?’ सवाल जायज़ था और ज़रूरी भी क्योंकि दिन के साढ़े नौ बज रहे थे और अगले दो घंटे हमें पानी के बीच ही रहना था जहाँ हमें कुछ नहीं मिलना था। हमने कहा, ‘हाँ, खाकर आए हैँ।’

पतंजलि नर्सरी में वह बुजुर्ग

पतंजलि नर्सरी में वह बुजुर्ग

On

हरिद्वार के पास पतंजलि हर्बल गार्डन। शाम के 6 बजे हैं। अंधेरा होने को है। गार्डन के औषधीय पौधों, झरने, गुफा, तालाब, बर्ड हाउस और ट्री हाउस का आनंद लेने के बाद हम वहाँ की नर्सरी में थे।

केरल का जटायु पर्वतः कभी सुना है इस जगह के बारे में

केरल का जटायु पर्वतः कभी सुना है इस जगह के बारे में

On

फुर्सत मिले तो केरल जटायु अर्थ सेंटर घूमने चला जाए। कोई फिल्मकार ही जटायु को इस तरह याद कर सकता है।

क्या आपने प्राकृतिक स्वास्थ्यवर्धक पेय- नीरा पीया है?

क्या आपने प्राकृतिक स्वास्थ्यवर्धक पेय- नीरा पीया है?

On

देशभर के गांधी आश्रमों में कभी अलसुबह नीरा मिल जाया करता था। अब मिलता है या नहीं? नीरा तोडी के पेड़ से निकाला जाता है, प्राकृतिक तरीके से।

1200 किमी का सफ़र अपनी बुलेट के साथ (दिल्ली से गया)

1200 किमी का सफ़र अपनी बुलेट के साथ (दिल्ली से गया)

On

हमेशा की तरह इस बार भी होली में घर नहीं जा सका. मलाल तो था, मगर मज़बूरी थी. ख़ैर, इस बार चुनाव के कारण रामनवमी में घर जाना भी असंभव लग रहा था.

केरल के मुन्नार में हमारा हनीमून- बाढ़ में जैसे मृत्यु नाच रही थी

केरल के मुन्नार में हमारा हनीमून- बाढ़ में जैसे मृत्यु नाच रही थी

On

बात 25 नवंबर 2015 की है. शादी के बाद मैं और हाना इसी दिन हनीमून के लिए दिल्ली से केरल (Munnar) निकले थे. दिल्ली के एयरपोर्ट से उड़ान भरने के लिए बाद फ्लाइट सीधा केरल के कोच्चि पहुंची.

%d bloggers like this: