चाय के दीवाने हैं तो चले आइये टी सिटी ऑफ इंडिया Dibrugarh Hill Station

Dibrugarh Hill Station : जब भी बात भारत की चाय की होती है, तो हम सबकी जुबां पर सबसे पहला नाम आता है “असम की चाय” का। तो चलिए आज हम आपको बताते हैं असम डिब्रूगढ़ के बारे में। असम स्थित डिब्रूगढ़ को भारत के ‘चाय का शहर’ के नाम से भी जाना जाता है। इस शहर भर में कई चाय के बागान आपको देखने को मिल जायेंगे। जो ब्रिटिश काल से ही यहां पर स्थित हैं। डिब्रूगढ़ अपने प्राकृतिक सौंदर्य, परंपरा और संस्कृति के लिए भी मशहूर है। डिब्रूगढ़ शहर बेहद शांत और खूबसूरत है। जिसके एक तरफ ब्रह्मपुत्र नदी बहती है तो दूसरी ओर शहर के किनारों पर हिमालय की श्रृंखलायें नीचे की ओर जाती हुई दिखाई देती हैं। डिब्रूगढ़ असम के सबसे शानदार शहरों में से एक माना जाता है। यहां आने वाले पर्यटक यहां की हरियाली, चाय कर बागान, शांति, सुंदरता, इतिहास के रंगों को देखकर यही के हो जाते हैं।

डिब्रूगढ़ असम का सबसे शानदार शहर ( Dibrugarh most beautful city of Assam )

बात करें डिब्रूगढ़ ( Dibrugarh ) की तो ये भारत के असम राज्य के डिब्रूगढ़ ज़िले में स्थित एक शहर है। डिब्रूगढ़ गुवाहाटी से लगभग 439 किमी की दूरी पर स्थित भारत के असम के सबसे बड़े शहरों में से एक माना जाता है। डिब्रूगढ़ राज्य का एक प्रमुख शहर होने के साथ ही साथ कई शानदार पर्यटन स्थलों का केंद्र भी है। डिब्रूगढ़ में असम राज्य का एक प्रमुख हवाई अड्डा भी स्थित है। जिससे पर्यटकों को यहां यात्रा के दौरान आने जाने में आसानी रहती है। ये हवाई अड्डा कई शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। डिब्रूगढ़ शहर को अपना नाम डिब्रूमुख शब्द से मिला है जिसमें ‘डिब्रू’ नदी का नाम है और ‘मुख’ का अर्थ मुंह है।

छिन्नमस्तिका देवी ( Chinnmstika Devi) का कहां पर है धाम ? ऐसे पहुंचे यहां पर

डिब्रूगढ़ की पहचान यहां के चाय के बागान ( Dibrugarh famous for it’s Tea )

असम की चाय दुनिया भर में फेमस है। जब बात असम की चाय होती है, तब भला यहाँ के पुराने शहर डिब्रूगढ़ का ज़िक्र करना कैसे भूल सकते हैं। यहाँ की चाय की दीवानगी को देखते हुए ही डिब्रूगढ़ को भारत का ‘चाय का शहर’ भी कहा जाता है। इस शहर में कई चाय के बागान हैं, जो ब्रिटिश के समय से हैं। डिब्रूगढ़ पर्यटन इन चाय के बागानों को देखे बिना अधूरा रहेगा। जब भी डिब्रूगढ़ आयें यहाँ के चाय के बागानों की सैर ज़रूर करें।

डिब्रूगढ़ के आसपास स्थित घूमने-फ़िरने के स्थल ( Place to visit around Dibrugarh )

डिब्रूगढ़ शहर और इसके आसपास भी बड़ी संख्या में पर्यटन स्थल आपको देखने को मिल जायेंगें। डिब्रूगढ़ घूमने के लिहाज से बहुत पसंद किया जाता है। ये एक महत्वपूर्ण पर्यटन स्थल होने के साथ-साथ भारत और विदेशी पर्यटकों के लिए भी खास माना जाता है। यहां की पर्यटन लिस्ट में शामिल हैं – डिब्रूगढ़ – रोइंग – मयूडिया – अनिनी टूरिस्ट सर्किट।
डिब्रूगढ़ – गुवाहाटी रिवर क्रूज़ के अलावा पर्यटकों के लिए ‘टी टूरिज्म’ भी है, जो पर्यटक हिल स्टेशन पसंद करते हैं।

Puducherry Travel Guide : India में देखना चाहते हैं French Culture, तो निकल चलिए Pondicherry

कैसा रहता है डिब्रूगढ़ का मौसम ( Weather of Dibrugarh  Hill Station )

डिब्रूगढ़ में साल भर ही सुखद मौसम रहता है। यहीं कारण है कि यहां पर्यटक साल भर में कभी भी घूमने आ सकते हैं। डिब्रूगढ़ का सुहावना मौसम यहां आने वाले पर्यटकों के लिए काफी खास माना जाता है।

कैसे करें डिब्रूगढ़ की यात्रा ( How to visit Dibrugarh Hill Station )

हवाई जहाज द्वारा कैसे जायें ( By Plane )

अगर आप हवाई जहाज़ से जाने की सोच रहें हैं तो यहां डिब्रूगढ़ का अपना एक हवाई अड्डा है, जो मुंबई, दिल्ली और कोलकाता से विभिन्न उड़ानों को समायोजित करता है। हवाई अड्डे से टैक्सी लेकर आप यहां आसानी से पहुंच सकते हैं।

ट्रेन द्वारा कैसे जायें ( By Train )

डिब्रूगढ़ का अपना रेलवे स्टेशन भी है, जो अन्य बड़े राज्यों से जुड़ा हुआ है। पर्यटक यहां रेलवे स्टेशन से टैक्सी लेकर डिब्रूगढ़ की सैर कर सकते हैं।

सड़क द्वारा कैसे जायें ( By Road )

सड़क के रस्ते से भी डिब्रूगढ़ आसानी से पहुंचा जा सकता है। डिब्रूगढ़ के लिए पर्यटक गुवाहटी, इटानगर जैसी जगहों से भी बस पकड़ सकते हैं।

दोस्तों, आप भी Travel Junoon के संग जुड़ सकते हैं और अपने लेख हजारों लोगों तक अपनी तस्वीर के साथ पहुंचा सकते हैं. आप अपना लिखा कोई भी Travel Blog, Travel Story हमें भेजें – GoTravelJunoon@gmail.com पर. हम उसे आपकी तस्वीर के साथ वेबसाइट पर अपलोड करेंगे .

Anchal Shukla

मैं आँचल शुक्ला कानपुर में पली बढ़ी हूं। AKTU लखनऊ से 2018 में MBA की पढ़ाई पूरी की। लिखना मेरी आदतों में वैसी शामिल है। वैसे तो जीवन के लिए पैसा महत्वपूर्ण है लेकिन खुद्दारी और ईमानदारी से बढ़कर नहीं। वो क्या है किमैं लोगों से मुलाक़ातों के लम्हें याद रखती हूँ,मैं बातें भूल भी जाऊं तो लहज़े याद रखती हूँ,ज़रा सा हट के चलती हूँ ज़माने की रवायत से,जो सहारा देते हैं वो कंधे हमेशा याद रखती हूँ।कुछ पंक्तिया जो दिल के बेहद करीब हैं।"कबीरा जब हम पैदा हुए, जग हँसे हम रोयेऐसी करनी कर चलो, हम हँसे जग रोये"