ऐसी होती है क्रूज पर जॉब करने वालों की जिंदगी, जान लीजिए सीक्रेट

एक अंग्रेजी कहावत बहुत मशहूर है “Don’t Judge Book By its Cover”, कुछ ऐसा ही हाल है क्रूज में नौकरी करने वाले लोगों का। ज्यादातर लोगों के लिए क्रूज की नौकरी एक सपने की तरह होता है। अच्छी सैलरी और दुनिया घूमने का मौका हर कोई पाना चाहता है, तो ये जॉब सभी को अपनी तरफ आकर्षित करती है। लेकिन क्रूज लाइफ के अपने अजीब से नियम है। जो काफी लोगों को परेशान करते हैं, क्योंकि इसका उन्हें अनुमान नहीं होता है। साथ ही ये काफी भेदभाव वाली इंडस्ट्री भी मानी जाती है, क्योंकि यहां पर आपको ट्रीट आपकी पोजिशन के हिसाब से किया जाता है। क्रूज पर काम करने वालों के लिए कई तरह के सख्त नियम होते हैं। तो चलिए आज ट्रैवल जुनून पर हम आपको बताते हैं कि क्या है क्रूज के कुछ सीक्रेट जो आप लोग नहीं जानते हैं।

स्टाफ और क्रू में होता है फर्क

क्रूज पर 2 तरह के लोग काम करते हैं, एक जो क्रूज पर परफॉर्म करते हैं वो होते हैं स्टाफ के लोग, जबकि दूसरी तरफ जो लोग क्रूज का मैनेजमेंट देखते हैं उन्हें क्रू कहा जाता है। इनमें सीनियर अच्छी सैलरी लेने वाले लोगों से लेकर हेल्पर तक शामिल होते हैं। क्रू मेंबर्स में हम उन लोगों को गिन सकते हैं जो क्रूज पर काम करते हैं जैसे कि कैप्टन, वेटर, बारटेंडर, सफाई वाले। वहीं स्टाफ के अंदर आप उन लोगों को गिन सकते हैं जो कि इवेंट मैनेजर, एंटरटेनमेंट का ध्यान रखते हैं, दुकानदार का काम करते हैं। क्रू मेंबर की हैसियत उसके काम के घंटों और ड्रेस पर निर्भर करती है।

क्रू मेंबर का लोअर स्टाफ जो होता है वो वाटर लाइन के नीचे रहता है, ये 4 लोग एख कमरे में रहते हैं। इन लोगों के कमरे में 4 बेड, एक डेस्क, एक टीवी, एक फोन होता है। वहीं दूसरी तरफ जो अपर स्टाफ होता है, जिसके अंदर आप कैप्टन और ऑफिसर को गिन सकते है।

स्टाफ मेंबर जो होते हैं वो वाटर लाइन से ऊपर रहते हैं। ज्यादातर स्टाफ मेंबर का अपना अलग कमरा होता है औऱ उन्हें पूरी प्राइवेसी दी जाती है। स्टाफ मेंबर के कमरे में ज्यादा सुविधाएं होती है। वहीं जो क्रू मेंबर्स होते हैं वो सबसे आखिरी में खाना खाते हैं, जबकि यात्री और स्टाफ मेंबर्स पहले खाना खा लेते हैं। क्रू के सदस्य ऑफिसर्स के बाद खाना खाते हैं। साथ ही वो अपनी शिफ्ट खत्म होने के बाद ही खाना खा सकते हैं, जबकि स्टाफ मेंबर्स कभी भी खा सकते हैं।

हफ्ते में 100 घंटे करना होता है काम

क्रूज पर आपको हफ्ते में 100 घंटे काम करना होता है। क्रूज पर काम करने के दौरान आपको कोई वीकली ऑफ नहीं मिलता है। अगर आप पहले से 12 घंटे काम कर चुके हैं और मान लो कि 4 घंटें काम करने की जरूरत है तो भी आपको काम करना ही होगा आप मना नहीं कर सकते हैं। मिडनाइट पार्टी के दौरान आपको सर्व करना होता है तो ऐसे में क्रू की नींद पूरी नहीं होती है।

प्यार करना है सजा

क्रूज पर अगर प्यार या रोमांस का कोई भी किस्सा सामने आता है तो कर्मचारी को तुरंत ही नौकरी से निकाल दिया जाता है। उस कर्मचारी को अगले पोर्ट पर उतार दिया जाएगा।

कस्टमर संभालना हो जाता है मुश्किल

कई बार आपका कस्टमर जो होता है वो ज्यादा अढ़ियल हो सकता है, ऐसे में उसे हैंडल करना काफी मुश्किल हो सकता है। ऐसा ज्यादातर एल्कोहोल लेने के बाद अपना कंट्रोल खोने वाले कस्टमर के साथ होता है। ये कस्टमर कर्मचारियों को काफी परेशान करते हैं। कई बार ये जो फीमेल स्टाफ होता है उन्हें काफी परेशान कर देते हैं, ऐसे में आप उनके साथ गलत व्यवहार नहीं कर सकते क्योंकि वो कस्टमर है।

घूमने के कम मौके मिलते हैं

आमतौर पर पैसेंजर तो अलग अलग जगहों पर क्रूज से उतरकर घूम लेते हैं, लेकिन जो क्रू होता है उसे घूमने का मौका बहुत कम मिलता है। क्योंकि स्टाफ और क्रू को शिप पर काम करना होता है। उन्हें घूमने के कम ही मौके मिल पाते हैं। जो कि एक गलत मिथ है। तो ऐसे में आपका मूड खराब होने लगता है और जो मजा सोचकर आप इस फील्ड में आए थे, वो धीरे धीरे सजा बनने लग जाता है। ऐसे में ना तो आपको अच्छे से घूमने को मिलता है और ना ही अच्छे से खाने पीने और आराम करने का मौका मिलता है।

News Reporter
एक लेखक, पत्रकार, वक्ता, कलाकार, जो चाहे बुला लें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: