Singapore Diary-8: जब ड्राइवर ने की तारीफ, दिल को छू गए शब्द

आज सिंगापोर में चौथे दिन ही मुझे भारत की याद सताने लगी थी। बाजार से होटल लौटते वक्त सोचा कि टैक्सी कर ली जाये। सिंगापोर में टैक्सी सहज ही उपलब्ध है।

Read more