कब बंद होगी चारधाम यात्रा? जानें, केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री के कपाट बंद होने की तारीख

Char Dham-उत्तराखंड स्थित भगवान शिव के ग्यारहवें ज्योतिर्लिंग केदारनाथ, भगवान विष्णु के धाम बद्रीनाथ, मां गंगा के गंगोत्री और मां यमुना के धाम यमुनोत्री के कपाट शीतकाल के लिये बन्द करने की तारीख रविवार को घोषित कर दी गईं हैं. इसके साथ ही, उच्च पर्वत श्रंखलाओं पर स्थित बाबा तुंगनाथ और मद्महेश्वर धाम के कपाट बंद होने की भी तिथियां घोषित कर दी गईं.

Char Dham Yatra 2020 – Uttarakhand में शुरू हो गई चार धाम यात्रा, मगर पहले पढ़ें Guidelines

विजयादशमी पर आयोजित सभी मंदिर समितियों की आयोजित बैठकों में आज यह निर्णय लिया गया. गंगोत्री मंदिर समिति की बैठक में धाम के कपाट अन्नकूट के अवसर पर 15 नवंबर को दोपहर 12:15 बजे बंद किए जाएंगे. मंदिर समिति के अध्यक्ष सुरेश सेमवाल ने बताया कि दोपहर 12:30 बजे मां गंगा की डोली मुखबा के लिए रवाना होगी तथा भैया दूज पर 16 नवंबर को मुखबा स्थित गंगा मंदिर में मां गंगा की मूर्ति को स्थापित किया जाएगा. यमुनोत्री धाम के कपाट 16 नवंबर को भैयादूज पर दोपहर सवा बारह बजे अभिजीत लग्न पर शीतकाल के लिए बंद किए जाएंगे.

Char Dham Yatra – क्या है Gangotri, Yamunotri, Kedarnath, Badrinath की पौराणिक कथा!

The dates of closure of the Char Dham

गंगोत्री मंदिर – 15 नवंबर 2020 को दोपहर 12:15 बजे
यमुनोत्री – 16 नवंबर 2020 को दोपहर 12:15 बजे
बदरीनाथ धाम – 19 नवंबर 2020 को अपराह्न तीन बजकर 35
केदारनाथ धाम – 16 नवंबर 2020 को सुबह 5:30 बजे

Char Dham जाएं तो Kedarnath Dham के आसपास यहां जरूर जाएं, ये है Full Travel Guide

मंदिर समिति के प्रवक्ता बागेश्वर उनियाल ने बताया कि इससे पूर्व मां यमुना के मायके खरशाली गांव से शनिदेव की डोली साढ़े सात बजे अपनी बहिन यमुना की डोली को लेने यमुनोत्री धाम के लिए रवाना होगी.

 

Komal Mishra

मैं कोमल... तो चलिए अपनी लेखनी से आपको घुमाती हूं... पहाड़ों की वादियों में और समंदर के किनारे

error: Content is protected !!