Agastyamuni है Agastya Rishi का घर, यहां सालों की थी उन्होंने तपस्या

अगस्त्यमुनि ( Agastyamuni ) 1000 मीटर की ऊंचाई पर मन्दाकिनी नदी ( Mandakini River ) के तट पर स्थित है. ये स्थान प्रसिद्ध हिन्दू मुनि अगस्त्य ऋषि ( Agastya Rishi ) का घर माना जाता है

Read more

GauriKund है आध्यात्मिकता और मोक्ष का प्रवेश द्वार, पार्वती से जुड़ा है नाम

गौरीकुंड ( Gaurikund ) मंदाकिनी नदी ( Mandakini River ) के तट पर स्थित है और इसे आध्यात्मिकता और मोक्ष का प्रवेश द्वार माना जाता है. ये असीम सुंदरता, लुभावने नजारें और अपार भक्ति का स्थान है, ये सभी कुछ इस एक ही स्थान में समाया हुआ है.

Read more

Rudranath Trek and Rudranath Temple की Full Information , आसपास कहां घूमें ये भी जानें

रुद्रनाथ ( Rudranath ) उत्तराखंड के चमोली ( Chamoli ) जिले का एक जाना माना गांव है. ये स्थान समुद्र तल से 2286 मीटर की ऊंचाई पर है और बर्फ से ढकी हुई हिमालय की चोटियों का अद्भुत द्रश्य प्रदान करता है.

Read more

Shri Hemkund Gurudwara Sahib Gurudwara की पूरी जानकारी, इतिहास, ऐसा होता है प्रसाद

हेमकुंड साहिब (Gurudwara Shri Hemkund Sahib) सिखों का प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है, जो कि उत्तराखंड के चमोली (Chamoli) जिले में स्थित है. हेमकुंड एक बर्फ की झील है, जो कि सात विशाल पर्वतों से घिरी हुई है, जिन्हें हेमकुंड पर्वत (Hemkund Parvat) भी कहा जाता है…

Read more

KarnaPrayag Travel Guide : घूमने के लिए बहुत कुछ, कर्ण से भी है रिश्ता

कर्णप्रयाग (Karnaprayag) उत्तराखंड के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में से एक है। ये उत्तराखंड राज्य के चमोली जिले में एक शहर और नगरपालिका बोर्ड है।

Read more

Tungnath Mandir in Uttarakhand : मंदिर की जानकारी, महत्व, क्या क्या है खास

पंच केदारों में से एक तुंगनाथ मंदिर (Tungnath Mandir) को दुनिया का सबसे उच्चतम ऊंचाई पर स्थित शिव मंदिर (Shiva Temple) कहा जाता है और इसके लिए ये पूरे विश्व में प्रसिद्ध है।

Read more

Amarnath Yatra 2020 : हेल्थ चेकअप कहां कराएं, किस बैंक से मिलेगी मदद, यात्रा पर्ची, Full Information

(Amarnath Yatra 2020) अमरनाथ यात्रा की पावन घड़ी नजदीक है. इस बार ये यात्रा 42 दिनों के लिए होगी. इसकी शुरुआत 23 जून से हो रही है. इस यात्रा का समापन 3 अगस्त को होगा. पिछली बार अमरनाथ यात्रा 40 दिनों की थी जिसे बढ़ाकर इस बार 42 दिनों के लिए कर दिया गया है.

Read more

डेरा बाबा नानक : जहां आए थे गुरु नानक जी, आज भी है वो पवित्र कुआं

सिखों के पहले गुरु, गुरु नानक देव जी का जीवनकाल यात्राओं से भरा हुआ था. वह जहां भी गए, वहां रुके और लोगों की मदद की. गुरुनानक देव जी जहां भी गए वहां पर आज हम गुरुद्वारों को देख सकते हैं. गुरुजी की ऐसी ही यात्रा से जुड़ा गुरुद्वारा है गुरुद्वारा डेरा बाबा नानक. एक तरफ बॉर्डर के उस पार पाकिस्तान में गुरुद्वारा करतारपुर साहिब है तो वहीं बॉर्डर के इस पार हिंदुस्तान में गुरुद्वारा डेरा बाबा नानक है

Read more

Maa Vaishno Devi Yatra : वैष्णो देवी यात्रा कैसे करें पूरी, जरूरी Information

वैष्णो देवी (Maa Vaishno Devi) की यात्रा भारत में एक तीर्थ की तरह है. देवी देवताओं के दर्शनीय स्थलों का नाम लेते ही, वैष्णों देवी का जिक्र जहन में केदारनाथ, बदरीनाथ, यमुनोत्री, गंगोत्री, बालाजी जैसे धामों के साथ ही सबसे पहले आता है.

Read more

इन लज़ीज पारंपरिक ज़ायकों के बिना अधूरा है असम का बिहू फेस्टिवल

असम का सबसे महत्वपूर्ण त्योहार बिहू है। पूरे राज्य में इस त्योहार के साथ ही नए साल की भी शुरुआत हो जाती है। इस दिन सूर्य मेष में गोचर करता है, इसलिए इसे नए सौर कैलेंडर की शुरुआत माना जाता है। बैसाखी की तरह ही बिहू भी किसानों का ही त्योहार होता है।

Read more