Uttarkashi Famous Tourist Places : उत्तरकाशी में घूमने के लिए ये है फेमस जगहें

Uttarkashi Famous Tourist Places : उत्तरकाशी समुद्र तल से 1158 मीटर की ऊंचाई पर बसा एक खूबसूरत जिला है. उत्तराखंड के इस जिले का गठन 24 फरवरी, 1960 को हुआ था. इसके उत्तर में हिमाचल प्रदेश और तिब्बत हैं, जबकि पूर्व में चमोली जिला स्थित है.

यह स्थान हिंदुओं के लिए अत्यधिक धार्मिक महत्व रखता है और इसे उत्तर की काशी के साथ-साथ मंदिरों के शहर के रूप में जाना जाता है. आइए जानते हैं कि उत्तरकाशी के आसपास कौन कौन सी जगहें हैं जहां पर्यटक घूमने के लिए जा सकते हैं (Uttarkashi Famous Tourist Places )…

उत्तरकाशी और उसके आसपास के पर्यटन स्थल || Uttarkashi Famous Tourist Places

उत्तरकाशी का पवित्र शहर गंगा नदी के तट पर स्थित है और ऋषिकेश से 172 किमी की दूरी पर है. यह स्थान लोकप्रिय धार्मिक स्थलों गंगोत्री और यमुनोत्री के पास स्थित है.

इस क्षेत्र में मुख्य रूप से उत्तरा कौरव, खास, किरात, कुनिदास, तांगाना और प्रतांग जनजाति निवास करते हैं.

उत्तरकाशी अपने खूबसूरत मंदिरों के लिए जाना जाता है और हर साल बड़ी संख्या में भक्त इस पवित्र स्थान पर आते हैं. इस क्षेत्र के कुछ प्रसिद्ध मंदिर विश्वनाथ मंदिर, पोखू देवता मंदिर, भैरव मंदिर, कुटेटी देवी मंदिर, कर्ण देवता मंदिर, गंगोत्री मंदिर, यमुनोत्री मंदिर और शनि मंदिर हैं.

Ranikhet Tour Guide: रानीखेत में झूला देवी से लेकर रानी झील तक… वीकेंड में घूमने के लिए है बेस्ट

हिंदू भगवान शिव को समर्पित विश्वनाथ मंदिर पर्यटकों के बीच काफी लोकप्रिय है. यह प्रसिद्ध मंदिर उत्तरकाशी के स्थानीय बस स्टैंड से मात्र 300 मीटर की दूरी पर है.

मणिकर्णिका घाट इस क्षेत्र का एक अन्य महत्वपूर्ण धार्मिक केंद्र है. एक पौराणिक कथा के अनुसार, उत्तरकाशी वही स्थान है जहां महान ऋषि जड़ भरत ने पश्चाताप किया था. गंतव्य का उल्लेख हिंदू धार्मिक ग्रंथ स्कंद पुराण के केदार खंड में भी मिलता है.

गंगोत्री से 6 किमी की दूरी पर स्थित नंदनवन तपोवन शिवलिंग, थलय सागर, भागीरथी, केदार डोम और सुदर्शन जैसे विभिन्न पर्वत चोटियों के सुंदर दृश्य प्रस्तुत करता है.

उत्तरकाशी-गंगोत्री मार्ग पर स्थित दयारा बुग्याल में भी बड़ी संख्या में पर्यटक आते हैं. यह स्थान 3048 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है और स्कीइंग के लिए एक लोकप्रिय जगह है.

भैरव मंदिर || Bairav Mandir Uttarkashi

भैरव मंदिर उत्तरकाशी के चौक क्षेत्र में स्थित है, जहां एक पौराणिक कथा के अनुसार लगभग 365 मंदिर पाए गए थे. ह्वेनसांग नाम के एक चीनी यात्री ने 629 ईस्वी में भारत का दौरा किया और इस स्थान का नाम ब्रह्मपुरा रखा. हिंदू ग्रंथ स्कंद पुराण में, इस स्थान का उल्लेख वरुणवत के रूप में मिलता है.

कुटेटी देवी मंदिर || Kuteti Devi Mandir Uttarkashi

कुटेटी देवी मंदिर उत्तरकाशी में स्थित एक प्राचीन मंदिर है. मंदिर का पुजारी पुजारियों की 14वीं पीढ़ी का प्रतिनिधित्व करता है.

ये भी पढ़ें-  Best Places To Visit in Haridwar: हरिद्वार जा रहे हैं घूमने तो इन जगहों को करें अपने लिस्ट में शामिल

यमुनोत्री || Yamunotri

यमुनोत्री पवित्र नदी यमुना का उद्गम स्थल है और बंदर पुंछ पर्वत पर समुद्र तल से 3293 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है. यमुना नदी समुद्र तल से 4421 मीटर की ऊंचाई पर स्थित चंपासर ग्लेशियर से निकलती है.यह ग्लेशियर यमुनोत्री के पवित्र मंदिर से लगभग 1 किमी की दूरी पर स्थित है, जहां तक ​​पहुंचना काफी मुश्किल है.

यह जगह भारत-चीन सीमा के करीब स्थित है. यमुनोत्री तक ट्रेकिंग के लिए एक दिन की आवश्यकता होती है और मार्ग घने जंगलों और असमान इलाके से होकर गुजरता है. भक्त मंदिर तक पहुंचने के लिए घोड़ों और खच्चरों को भी किराए पर ले सकते हैं.

विश्वनाथ मंदिर || Vishwanath Mandir Uttarkashi

विश्वनाथ मंदिर उत्तरकाशी के प्रमुख धार्मिक स्थलों में से एक है और बस स्टैंड के करीब स्थित है. मंदिर हिंदू भगवान शिव को समर्पित है, और भक्त हर समय मंत्रों का पाठ सुन सकते हैं. इस मंदिर को राजा ज्ञानेश्वर ने बनवाया था, जबकि भगवान शिव के त्रिशूल को गुह ने बनवाया था.

इस त्रिशूल का आधार 8 फीट और 9 इंच है, और इसकी ऊंचाई लगभग 26 फीट है. एक अन्य लोकप्रिय धार्मिक स्थल, शक्ति मंदिर (हिंदू देवी सती को समर्पित), विश्वनाथ मंदिर के सामने स्थित है.

Nainital Tour Guide: नैनीताल घूमने के लिए ये हैं 8 Best जगहें

हर की दून || Har ki Doon Uttarkashi

हर की दून समुद्र तल से 3556 मीटर की ऊंचाई पर स्थित एक खूबसूरत घाटी है. इसे गढ़वाल हिमालय के सबसे लोकप्रिय ट्रेक में से एक माना जाता है और यह सुंदर देवदार के जंगलों और विशाल पर्वत चोटियों से घिरा हुआ है.

यह जगह प्रकृति प्रेमियों और पक्षी देखने वालों के लिए एक परफेक्ट स्थान है. इसके अलावा, नेतवार से ओसला से हर की दून तक का ट्रेक पर्यटकों के बीच काफी फेमस है. इस क्षेत्र के प्रमुख जगहों में से एक रुइनसारा झील है, जो ओसला से 8 किमी की दूरी पर स्थित है.

शक्ति मंदिर || Shakti Mandir Uttarkashi

शक्ति मंदिर एक प्रसिद्ध धार्मिक केंद्र है, जो विश्वनाथ मंदिर के करीब स्थित है. यह मंदिर अपने त्रिशूल (त्रिशूल) के लिए जाना जाता है, जो 6 मीटर ऊंचा है. त्रिशूल की परिधि तल पर लगभग 90 सेमी है.

ऐसा माना जाता है कि त्रिशूल का ऊपरी और निचला हिस्सा लोहे और तांबे से बना होता है. पौराणिक कथाओं के अनुसार, इस त्रिशूल का उपयोग हिंदू देवी दुर्गा ने राक्षसों को मारने के लिए किया था. पास के कुछ अन्य प्रसिद्ध मंदिर मार्कंडेय ऋषि मंदिर, साक्षी गोपाल मंदिर, कुटेटी देवी मंदिर, गणेश मंदिर, गोपेश्वर महादेव मंदिर और कोटेश्वर महादेव मंदिर हैं.

डोडीताल झील || Dodital Lake Uttarkashi

समुद्र तल से 3024 मीटर की ऊंचाई पर स्थित डोडीताल मीठे पानी की झील है. यह खूबसूरत पर्यटन स्थल हरी-भरी हरियाली से घिरा हुआ है. यह झील हिमालयी ट्राउट के लिए प्रसिद्ध है और उत्तरकाशी से ट्रेकिंग करके यहां पहुंचा जा सकता है. उत्तरकाशी के संभागीय वनाधिकारी की अनुमति से झील में मत्स्य पालन का आनंद लिया जा सकता है.

पर्यटक अंगोडा से 16 किमी की पैदल यात्रा करके भी झील तक पहुंच सकते हैं. यात्री यहां से ट्रेकिंग कर यमुनोत्री और हनुमान चट्टी भी पहुंच सकते हैं.

उत्तरकाशी कैसे पहुंचें || How to reach Uttarkashi

उत्तरकाशी का नजदीकी हवाई अड्डा देहरादून का जॉली ग्रांट हवाई अड्डा है, जो 183 किमी की दूरी पर स्थित है. ऋषिकेश रेलवे स्टेशन उत्तरकाशी के लिए नजदीकी रेलवे स्टेशन है. यात्री पास के शहरों जैसे देहरादून, हरिद्वार, ऋषिकेश और मसूरी से भी उत्तरकाशी के लिए बसे भी हर समय मिलती हैं.

उत्तरकाशी घूमने का सबसे अच्छा समय || Best time to visit Uttarkashi

उत्तरकाशी अपने सुहावने मौसम की वजह से साल भर घूमने वाला स्थान है. हालांकि, इस पवित्र स्थान पर जाने के लिए गर्मी और मानसून बेस्ट माना जाता है. क्योंकि इन मौसमों के दौरान कई फेस्टिवल मनाए जाते हैं.

Komal Mishra

मैं कोमल... तो चलिए अपनी लेखनी से आपको घुमाती हूं... पहाड़ों की वादियों में और समंदर के किनारे

error: Content is protected !!