Penis Park – एक ऐसा पार्क जहां हर जगह दिखती है पुरुषों के प्राइवेट पार्ट की मूर्ति

Penis Park- दुनियाभर में दक्षिण कोरिया अपनी टेक्नॉलजी के साथ ही के-पॉप म्यूजिक के लिए पहचाना जाता है. लेकिन इस देश में एक ऐसा भी पार्क है जो पुरुषों के प्राइवेट पार्ट यानी पेनिस की मूर्तियों से भरा पड़ा है. इस पार्क को एक मृत वर्जिन लड़की को खुश करने के लिए बनाया गया था. यह पार्क कोरिया के गैंगवॉन प्रांत में स्थित शहर सैमचॉक में है. इस पार्क को Haesindang पार्क और पेनिस पार्क कहा जाता है

What a story

कहानी के मुताबिक, एक लड़का समुद्र से सीवीड इकट्ठा करने के लिए नौका लेकर निकला. इस दौरान उसके साथ उसकी मंगेतर भी थी. उसने अपनी मंगेतर को एक चट्टान पर उतारते हुए जल्द वापस आने और उसे लेकर घर जाने का वादा किया. लड़का लौटता, उससे पहले ही समुद्र की लहरें बड़ी होने लगी और तेज हवाएं चलने लगी. चट्टान पर खड़ी लड़की इसकी चपेट में आ गई और वह डूब गई.

Fish disappeared

इस घटना के बाद उस इलाके में मछली मानो गायब सी हो गई, जिससे मछुआरों को परेशानी होने लगी. गांववालों को लगा कि जरूर इसके पीछे उस लड़की की आत्मा है जिसकी वहां मौत हुई थी.

दुनिया में कहां- कहां पर हैं Penis Temple, क्या है मान्यताएं ?

This is how the idol started becoming

एक दिन एक मछुआरा समुद्र में पेशाब करता है और उसके बाद वह मछली पकड़ने में कामयाब हो जाता है. गांव के लोग यह निष्कर्ष निकालते हैं कि कुंवारी लड़की को खुश करने के लिए पेनिस की आकृति की मूर्तियां बनाई जाएं.

The idol is made every year

मूर्तियां बनाने का सिलसिला आज भी जारी है. लोग छोटी से लेकर बड़ी मूर्तियां बनाते हैं और इस पार्क में लगाते हैं. अब यह पार्क दुनियाभर में आकर्षण का केंद्र बन चुका है.

Entry timing

इस पार्क में इन मूर्तियों के अलावा प्रकृति के खूबसूरत नजारे दिल मोह लेते हैं. यह मार्च से लेकर अक्टूबर में सुबह 9 बजे से शाम के 6 बजे तक खुला रहता है वहीं नवंबर से फरवरी में यह शाम को पांच बजे बंद हो जाता है.

दिल्ली के 5 Bar जहां दोस्तों के साथ कम पैसे में कर सकते हैं Chill

Ticket price

यहां जाने के लिए टिकट लेना होता है. अडल्ट टूरिस्ट के लि ए टिकट की कीमत 3000 वॉन यानी 184.76 रुपये है. इस पार्क में बच्चों की भी एंट्री होती है.

Komal Mishra

मैं कोमल... तो चलिए अपनी लेखनी से आपको घुमाती हूं... पहाड़ों की वादियों में और समंदर के किनारे

error: Content is protected !!