Kalika Temple Gujarat : महमूद बेगड़ा जिसने ध्वस्त कर दिया था कालिका मंदिर का शिखर, अब मोदी ने फहराया ध्वज!

Kalika Temple Gujarat :  पीएम मोदी ने शनिवार को गुजरात के पावागढ़ में कालिका मंदिर पर झंडा फहराया  और पुनर्विकसित मंदिर का उद्घाटन किया. मंदिर के शिखर पर यह ध्वज फहराया गया. 15वीं शताब्दी में महमूद बेगड़ा ने यहां शिखर को ध्वस्त करके दरगाह बना डाली थी. पीएम मोदी ने ध्वज फहराने के मौके पर कहा कि जब सपना संकल्प बन जाए और जब संकल्प हकीकत बन जाए तो खुशी की कल्पना की जा सकती है. उन्होंने कहा कि यह पल उनके दिल को खास खुशी से भर देता है.

उन्होंने कहा आगे कहा क्या आप कल्पना कर सकते हैं कि पांच शताब्दियों के बाद  और आजादी के 75 साल बाद  पांच शताब्दियों के बाद कालिका के शिखर पर किसी ने झंडा फहराया है. कालिका मंदिर (Kalika Temple Gujarat) में अब से कुछ ही दिन बाद ‘गुप्त नवरात्रि’ शुरू होगी और फेस्टिवल से ठीक पहले महाकाली का शक्तिपीठ अब अपने पूरे वैभव के साथ हमारे सामने है.

Dhai Din Ka Jhopra: मुहम्मद गौरी के आदेश पर अढ़ाई दिन में बनी थी मस्जिद, पहले था जैन स्थल

महमूद बेगड़ा ने शिखर तोड़कर उस पर बना दी थी दरगाह

11वीं या 12वीं सदी में बना कालिका मंदिर सबसे पुराने मंदिरों में से एक है. 15 वीं शताब्दी में गुजरात सल्तनत की स्थापना करने वाले प्रमुख आक्रमणकारियों में से एक महमूद बेगड़ा ने पावागढ़ पर कब्जा कर लिया और मंदिर को नष्ट कर दिया था.

मंदिर के ऊपर दरगाह की वजह से कोई झंडा नहीं लग सकता था

बेगड़ा ने शिखर को पूरी तरह से नष्ट कर दिया था और फिर हिंदुओं का अपमान करने के लिए, जहां गर्भगृह (गर्भगृह) में शिखर था, एक सदनशाह पीर की दरगाह का निर्माण किया गया . हमले के बाद 500 से अधिक वर्षों तक, मंदिर में कोई ध्वज नहीं फहराया गया.

हिंदू धर्म में नष्ट किए गए शिखर पर झंडा फहराना अशुभ माना जाता है. इसलिए, 500 से अधिक वर्षों तक, माँ अपने ही मंदिर में एक दरगाह के नीचे फंसी रही. दरगाह को मुस्लिम समुदाय से बातचीत करके पास में दूसरी जगह शिफ्ट कर दिया गया.

Gyanvapi Mosque in Varanasi: अंदर मौजूद कुएं का नाम है ज्ञानवापी, क्या है Vishweshwar Mandir का दावा?

महमूद बेगड़ा खाने में रोज खाता था जहर

दुनिया भर में खाने के शौकीनों की कोई कमी नहीं है, लेकिन हर दिन लगभग 35 किलो खाना कोई आम बात नहीं है. आमतौर पर ऐसा माना जाता है कि पहलवान ही यह सेवन कर सकते हैं, लेकिन एक दिन में शायद ही कोई बादशाह 35 किलो खा सकता है. आज हम आपको एक ऐसे राजा के बारे में बताने जा रहे हैं, जो इतना खाना आराम से खा लेता था और पचा भी लेता था. आपको जानकर हैरानी होगी कि यह राजा हर दिन जहर का सेवन करता था.

इस बादशाह का नाम महमूद बेगड़ा है, जो गुजरात का छठा सुल्तान था.  वह मात्र 13 वर्ष की आयु में गद्दी पर बैठा और 52 वर्षों तक सफलतापूर्वक गुजरात पर शासन किया. उसे अपने वंश का सबसे शक्तिशाली शासक माना जाता था.महमूद बेगड़ा का नाम महमूद शाह था.  ‘गिरनार’ जूनागढ़ और चंपानेर के किलों को जीतने पर उसे ‘बेगड़ा’ की उपाधि दी गई. यह भी कहा जाता है कि गिरनार किले के सशक्त होने के बाद यहां के राजा ने इस्लाम धर्म स्वीकार कर लिया, जिसके बाद उनकी सेना को सुल्तान की सेना में शामिल कर लिया गया.

Char Dham Yatra: उत्तराखंड में कैसे करें चार धाम यात्रा, यहां मिलेगी पूरी जानकारी

महमूद बेगड़ा के आकर्षक व्यक्तित्व की आज भी चर्चा है.  यह भी कहा जाता है कि उनकी दाढ़ी इतनी बड़ी थी कि वे कमर तक पहुंच जाते थे.  उनकी मूंछें भी काफी लंबी थीं. वह उन्हें अपने सिर के ऊपर बांधता था. महमूद बेगड़ा के बारे में सबसे लोकप्रिय बात यह है कि वह एक दिन में कम से कम 35 किलो खाना खाता था.

कहा जाता है कि वह नाश्ते में एक कटोरी शहद, एक कटोरी मक्खन और 100-150 केले खाता था.  इतना ही नहीं रात में उनके तकिये के दोनों तरफ खाना भी रखा था ताकि अगर उन्हें कभी भूख लगे तो तुरंत खा सकें. यह भी कहा जाता है कि सुल्तान बेगड़ा बचपन से ही किसी जहर का सेवन कर चुके थे, जिसके बाद वे प्रतिदिन भोजन के साथ कुछ विष लेता था.

सुल्तान के शरीर में इतना जहर था कि अगर एक मक्खी भी उसके हाथ पर बैठ जाती तो वह भी पल भर में मर जाती थी. इतना ही नहीं किसी ने उसके द्वारा इस्तेमाल किए गए कपड़ों को छुआ तक नहीं, बल्कि उन्हें सीधे जला दिया जाता था, क्योंकि सुल्तान के पहनने के बाद वे जहरीले हो जाते थे.

How to Reach Kalika Mandir, Pavagadh

By Road

चंपानेर वडोदरा से 45 किमी दूर है, जहां बस या प्राइवेट गाड़ियों से पहुंचा जा सकता है. चंपानेर-पावागढ़ तक ड्राइव करने के लिए वडोदरा में कार किराए पर ली जा सकती है, जो कि सबसे अच्छा ऑपशन है.

By Train

यह शहर व्यस्त मुंबई-दिल्ली पश्चिमी रेलवे मेन लाइन पर स्थित है और शताब्दी व राजधानी जैसी प्रीमियम ट्रेनों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है.

By Air

भारत के प्रमुख शहरों से आप प्लेन से वडोदरा प्लेन आ सकते  हैं. नजदीकी हवाई अड्डा वडोदरा ही है.

Komal Mishra

मैं कोमल... तो चलिए अपनी लेखनी से आपको घुमाती हूं... पहाड़ों की वादियों में और समंदर के किनारे

error: Content is protected !!