KarwaChauth Vrat – जानें, इस बार क्या है पूजा का शुभ मुहूर्त, व्रत तोड़ने का समय

Karwa chauth करवा चौथ का व्रत कार्तिक के हिंदू महीने में कृष्ण पक्ष चतुर्थी के दौरान किया जाता है और गुजरात, महाराष्ट्र और दक्षिणी भारत में अमांता कैलेंडर के अनुसार यह आश्विन माह है जो करवा चौथ के दौरान चालू होता है. हालांकि, यह सिर्फ उस महीने का नाम है जो अलग है और सभी राज्यों में करवा चौथ एक ही दिन मनाया जाता है.

करवा चौथ संकष्टी चतुर्थी के दिन भगवान गणेश के लिए मनाया जाने वाला व्रत है. करवा चौथ का व्रत और उसके अनुष्ठान विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए मनाती हैं. विवाहित महिलाएं भगवान गणेश सहित भगवान शिव और उनके परिवार की पूजा करती हैं और चंद्रमा को अर्घ्य देने और दर्शन करने के बाद ही उपवास तोड़ती हैं. करवा चौथ का व्रत रात में चंद्रमा के दर्शन तक सूर्योदय के बाद बिना कोई भोजन या पानी की एक बूंद भी ग्रहण करने सख्त मना होता है.

मोरक्को का अल हनाउत है टेस्ट का बादशाह, 20 से ज्यादा मसालों से किया जाता है तैयार

करवा चौथ के दिन को करक चतुर्थी (करक चतुर्थी) के नाम से भी जाना जाता है. करवा या करक मिट्टी के बर्तन को संदर्भित करता है जिसके माध्यम से पानी की पेशकश, जिसे अरघा (अर्ग) के रूप में जाना जाता है, चंद्रमा को बनाया जाता है. पूजा के दौरान करवा बहुत महत्वपूर्ण होता है और इसे ब्राह्मण या किसी योग्य महिला को दान के रूप में भी दिया जाता है.

चांद की करना चाहते हैं सैर, तो एक बार जरूर जाएं कश्मीर के मूनलैंड

दक्षिण भारतीय राज्यों की तुलना में, करवा चौथ उत्तर भारतीय राज्यों में अधिक लोकप्रिय है. करवा चौथ के चार दिनों के बाद, अहोई अष्टमी व्रत पुत्रों के कल्याण के लिए मनाया जाता है.

माउंट आबू जाएं तो Dilwara Jain Temple जरूर घूमें, इसकी बनावट है बहुत भव्य

पूजा और चांद निकलने का समय

हिन्दी पंचाग के अनुसार, इस साल 04 नवंबर को तड़के 03 बजकर 24 मिनट पर कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि का प्रारंभ होगा. वहीं इसका समापन गुरुवार 05 नवंबर को प्रातःकाल 05 बजकर 14 मिनट पर होगा. इसलिए इस वर्ष करवाचैथ का व्रत बुधवार यानि 4 नवंबर को रखा जाएगा. पूजा का शुभ मुहूर्त इस दिन शाम में 1 घंटा 18 मिनट के लिए होगा. यह समय है शाम 5:34 से 6:52 तक. इसके बीच महिलाओं को पूजा कर लेना चाहिए. चांद निकलने का समय- रात्रि 08:16 बजे चांद निकलेगा.

Work from home वालों के लिए इस राज्य ने अपनाया नया घूमने का नया तरीका, पर्यटकों को कर रहा है अट्रैक्ट

व्रत का समय

बुधवार 4 नवंबर को महिलाएं सुबह 6:35 बजे से रात 8:12 बजे तक करवाचैथ का व्रत रखेगी. यानी व्रत के लिए 13 घंटे 37 मिनट का समय है.

Komal Mishra

मैं कोमल... तो चलिए अपनी लेखनी से आपको घुमाती हूं... पहाड़ों की वादियों में और समंदर के किनारे