Shri Krishna Janmabhoomi: मथुरा में जहां जन्में श्री कृष्ण जानें वहां के बारे में रोचक Facts

Shri Krishna Janmabhoomi: भारत एक ऐसी भूमि है जहां कई खूबसूरत मंदिर हैं. देश भर में कई हिंदू मंदिर हैं, उन्हीं में से एक श्री कृष्ण जन्मस्थान भी है. उत्तर प्रदेश के मथुरा में मंदिर को श्री कृष्ण जन्मभूमि मंदिर के नाम से भी जाना जाता है. यह उस स्थान पर स्थित है जहां भगवान कृष्ण के माता-पिता देवकी और वासुदेव को कैद करके रखा गया था.

इस लेख में, हम आपको श्री कृष्ण जन्मस्थान मंदिर के बारे में सभी महत्वपूर्ण जानकारी देने जा रहे हैं. भगवान कृष्ण एक योद्धा, एक दोस्त, एक संरक्षक, एक दार्शनिक, एक राजा, एक शूरवीर हैं. वह पूरे ब्रह्मांड का प्रतिनिधित्व करते हैं, उन्होंने महाभारत में युद्ध की पूर्व संध्या पर अर्जुन को अपने कर्तव्य को समझने की कोशिश करते हुए एक संपूर्ण ‘भगवद् गीता’ का उपदेश दिया.

भगवान कृष्ण का जन्म उत्तर प्रदेश के एक शहर मथुरा में हुआ था. भगवान कृष्ण के जन्म के समय, उनके मामा अत्याचारी राजा कंस का मथुरा पर शासन था. किवदंती के अनुसार आकाशवाणी ने देवकी के आठवें बच्चे के हाथों कंस की मृत्यु की भविष्यवाणी की थी. भयभीत कंस ने वासुदेव और देवकी को कैद कर लिया और उसके सभी बच्चों की एक- एक करके हत्या कर दी.

हालांकि, देवकी ने आधी रात को भगवान कृष्ण को जन्म दिया और उस रात भगवान विष्णु के चमत्कार के कारण जेल के सभी दरवाजे खुले रह गए. उसी रात, वासुदेव के मित्र और गोप जनजाति के मुखिया नंदराज और उनकी पत्नी यशोदा ने एक बच्ची को जन्म दिया.

वासुदेव ने गुप्त रूप से शिशु कृष्ण को एक टोकरी में ले जाकर यमुना नदी को पार किया. वह नंदराजा के घर गया और बच्चों की अदला- बदली की और बदले हुए बच्चे के साथ जेल वापस आ गया.

भगवान कृष्ण की जन्मस्थली || Birth Place of lord Krishna

भगवान कृष्ण ने उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले के एक ऐतिहासिक शहर वृंदावन में अपना बचपन, किशोरावस्था और जवानी बिताया, जिसे बृजभूमि के रूप में भी जाना जाता है. मथुरा भारत के सबसे पवित्र स्थानों में से एक है, जिसमें कई हिंदू मंदिर हैं. यह यमुना नदी के तट पर स्थित है और अपने इतिहास, पुरातत्व, धार्मिक इतिहास, कला और मूर्तिकला के लिए फेमस है.

मथुरा की प्राथमिक भाषाएं बृजभाषा और हिंदी हैं और होली वहां का सबसे प्रमुख त्योहार है. मथुरा की होली पूरे विश्व में प्रसिद्ध है, और दुनिया भर से लाखों लोग इस रंगारंग कार्यक्रम की खुशी और उत्साह का अनुभव करने के लिए वहां जाते हैं.

श्री कृष्ण जन्मस्थान मंदिर|| Shri Krishna Janmasthan Temple

श्री कृष्ण जन्मभूमि मंदिर जेल की कोठरी पर केंद्रित है जहां भगवान कृष्ण के मामा कंस ने उनके माता-पिता देवकी और वासुदेव को कैद किया था. यह वह स्थान है जहां भगवान कृष्ण ने स्वयं को प्रकट किया था.

6 वीं शताब्दी ईसा पूर्व से इस स्थान का धार्मिक महत्व रहा है, और मुख्य मंदिर और अन्य मंदिरों को पूरे इतिहास में कई बार नष्ट कर दिया गया था, हाल ही में मुगल सम्राट औरंगजेब द्वारा इसे कई बार नष्ट किया गया.

Vrindavan Travel Blog : डिटेल में जानें वृंदावन के बारे में पूरी जानकारी

श्री कृष्ण जन्मस्थान मंदिर के बारे में रोचक तथ्य (Shri Krishna Janmabhoomi Facts)

चंद्रगुप्त विक्रमादित्य के शासनकाल के दौरान लगभग 400 ईस्वी में इसका पुनर्निर्माण किया गया था.

यह कथित तौर पर 1017 ईस्वी में गजनी के आक्रमणकारी महमूद द्वारा नष्ट कर दिया गया था.

मथुरा के सम्राट राजा धुरपेट देव जंजुआ ने 1150 ईस्वी में तीसरी बार मंदिर का निर्माण किया था, लेकिन कथित तौर पर इसे 16 वीं शताब्दी में दिल्ली के सुल्तान सिकंदर लोदी द्वारा फिर से ध्वस्त कर दिया गया था.

125 साल बाद, राजा वीर सिंह बुंदेला ने मुगल सम्राट जहांगीर के शासनकाल के दौरान इसे बहाल किया, लेकिन 1669 ईस्वी में, औरंगजेब ने कथित तौर पर इसे एक बार फिर से ध्वस्त कर दिया.

1815 में, जब अंग्रेजों ने मथुरा पर अधिकार कर लिया, तो मंदिर क्षेत्र की नीलामी की गई.

21 फरवरी, 1951 को पंडित मदन मोहन मालवीय ने ‘श्री कृष्ण जन्मभूमि ट्रस्ट’ की स्थापना कर मंदिर के पुनर्निर्माण की पहल की. कई लोगों के प्रयासों के कारण इमारत का निर्माण किया गया था.

Radhavallabh Mandir in Vrindavan: राधा वल्लभ मंदिर के बारे में जानें ये अनूठा रहस्य

मंदिर परिसर के अंदर की संरचनाएं || Shri Krishna Janmabhoomi Structure

केशवदेव मंदिर || Keshavdev Temple 

इसका निर्माण रामकृष्ण डालमिया ने शाही ईदगाह के दक्षिण में अपनी मां जठिया देवी डालमिया के सम्मान में किया था. इसका निर्माण 29 जून 1957 को शुरू हुआ और 6 सितंबर 1958 को इसे हनुमान प्रसाद पोद्दार ने समर्पित किया.

गर्भ गृह || Shri Krishna Janmabhoomi Garbhgrih

यह वह स्थान है जहां  जेल की कोठरी स्थित थी और जहां भगवान कृष्ण का जन्म हुआ था. साइट पर एक बड़े बरामदे के साथ एक संगमरमर का मंडप और एक भूमिगत जेल कक्ष है. पास में ही आठ भुजाओं वाली देवी योगमाया को समर्पित एक मंदिर है.

भागवत भवन || Bhagwat Bhawan

मंदिर 11 फरवरी, 1965 को बनाया गया था और यह श्रीमद्भागवत को समर्पित है. इसके पांच मंदिर हैं, मुख्य मंदिर में राधा और भगवान कृष्ण की छह फुट ऊंची मूर्तियां हैं, जिसके दाईं ओर बलराम, सुभद्रा और जगन्नाथ का मंदिर है.

बाईं ओर भगवान राम, लक्ष्मण और सीता का मंदिर, जगन्नाथ मंदिर के सामने गरुड़ स्तम्भ और चैतन्य महाप्रभु, और राम मंदिर के सामने हनुमान, दुर्गा मंदिर और शिवलिंग मंदिर है.

असेंबली हॉल की छत, दीवारों और स्तंभों पर चित्र भगवान कृष्ण और उनके शिष्यों को दर्शाते हैं. इसके अलावा, परिक्रमा पथ की दीवारों पर भगवद गीता के छंदों के शिलालेख हैं.

पोतरा कुंड || potra Kund

पोतरा कुंड या पवित्र कुंड जन्मस्थान मंदिर के दक्षिण-पूर्व में स्थित एक विशाल और गहरे पानी की टंकी है. इसे शिशु कृष्ण का पहला स्नान स्थल माना जाता है.

श्री कृष्ण जन्मस्थान मंदिर में महत्वपूर्ण उत्सव || Shri Krishna Janmabhoomi Events

जन्माष्टमी होली बसंत पंचमी दीपावली राधाष्टमी गोपाष्टमी शरद पूर्णिमा मनाया जाता है. श्री कृष्ण जन्मस्थान मंदिर जाने के लिए आपको टिकट खरीदने की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि यह सभी भक्तों के लिए खुला है.

मंदिर में अप्रैल से नवंबर तक का समय सुबह 5 बजे से दोपहर 12 बजे तक और शाम को 4 बजे से 9:30 बजे तक होता है.

गर्भ गृह में जाने का समय सुबह 5 बजे से रात 9:30 बजे तक है.

नवंबर से अप्रैल तक मंदिर में आरती का समय सुबह 5:30 से दोपहर 12 बजे तक और शाम को 3 बजे से 8:30 बजे तक होता है.

गर्भ गृह में जाने का समय सुबह 5:30 बजे से रात 8:30 बजे तक है.

इसके अलावा, कृपया ध्यान दें कि मंगल आरती सुबह 5:30 बजे की जाती है.

Komal Mishra

मैं कोमल... तो चलिए अपनी लेखनी से आपको घुमाती हूं... पहाड़ों की वादियों में और समंदर के किनारे

error: Content is protected !!