Bagini Glacier है गढ़वाल की वादियों की शान, ट्रिप को यूं बनाएं यादगार

बगीनी ( Bagini Glacier ) हिमालय में एक सुंदर ग्लेशियर है. ये त्रिशूली और चंगबंग चोटियों के पास से शुरू होता है. ये पूरी ट्रेकिंग के दौरान आप नंदा देवी नेशनल पार्क ( Nanda Devi National Park ) को निहार सकते हैं. आपका पहला पढ़ाव हरिद्वार होगा. जिसके बाद आप गाड़ी या बस के द्वारा जोशीमठ तक पहुंच सकते हैं.

बागिनी ( Bagini Glacier Trek ) ट्रेक की शुरुआत जुम्मा से होती है जो कि द्रोणागिरी गांव के बगीनी गांव, बगीनी बेस पर जाकर खत्म होती है. जोशीमठ ( Joshimath ) एक पवित्र शहर है.. इसके साथ ही आपकी बागिनी ट्रेकिंग ( Bagini Trek ) की शुरुआत यहीं से होती है. बागीनी ग्लेशियर ट्रेक ( Bagini Glacier Trek ) गढ़वाल की वादियों में नन्दा चोटी पर स्थित है.

ये एक बेहद ही रोचक ट्रेकिंग है.. इस ट्रेकिंग के दौरान आप गढ़वाल की खूबसूरती, हरे भरे जंगलों के माध्यम से गुजरेंगे. ट्रेकिंग के दौरान आप बर्फ से ढकी हुई पर्वत मालायों को बखूबी निहार सकते हैं. ये ट्रेकिंग खत्म होने में आठ से नौ दिन का समय लगता है.

ट्रेकर्स दिल्ली से हरिद्वार ट्रेन या बस के द्वारा पहुंच सकते हैं. हरिद्वार आने के बाद कुछ देर आराम करने के बाद ट्रेकर्स ऋषिकेश की ओर प्रस्थान कर सकते हैं. ऋषिकेश पहुंचने के बाद वहां ट्रेकर्स आराम कर सकते हैं और साथ ही ऋषिकेश की आसपास की जगहों को भी घूम सकते हैं. जिसके बाद लोग ऋषिकेश से जोशीमठ के लिए जा सकते हैं. इसमें रास्ते में चमोली, रुद्रप्रयाग, कर्णप्रयाग भी आएगा. जोशीमठ के बाद आप बस से जुम्मा पहुंच सकते हैं.

जुम्मा है बेस कैंप ( Jumma is Base Camp )

जुम्मा ही आपका बेस कैंप होगा. यहां पर पहुंचने के बाद तीन किलोमीटर की ट्रेकिंग की शुरुआत करेंगे जो कि जुम्मा से रोइंग तक की होगी. इसके बाद आप द्रोणागिरी ग्राम की ट्रेकिंग करेंगे. ये ट्रेकिंग तकरीबन 8 किलोमीटर की है. जिसे पूरा करने के बाद ट्रेकर्स द्रोणागिरी ग्राम पहुंच जाएंगे. और यहां से फिर थोड़ा आराम करने के बाद बगिनी बेस की ट्रेकिंग की शुरुआत होती है. आपको बता दें कि द्रोणागिरी ग्राम से बगिनी बेस तक की ये ट्रेकिंग करीब 10 किलोमीटर की है.

बगीनी बेस पहुंचने के बाद ट्रेकर्स आसपास की जगहों को देख सकते हैं और फिर बगिनी ग्लेशियर ( Bagini Glacier ) के लिए रवाना होंगे. ये 12 से 14 किलोमीटर की ट्रेकिंग है. कुछ इसी तरह हम लोग जोशीमठ तक वापिस आते हैं.

( Keep these things with you while Trekking )

ट्रेकिंग के दौरान आपको अपने साथ कई तरह की जरूरी चीजें रखनी चाहिए जैसे कि कॉटन के जुराबें, आरामदायक ट्रेकिंग वाले जूते, बैग पैक, ट्रैक पेंट, टोर्च लाइट, अपने साथ गर्म कपड़े रखना तो बिलकुल भी मत भूलना.

इसके साथ ही कुछ दवाईयां भी रखें ताकि बीमारी की अवस्था में आपके पास सामान होना चाहिए. वहीं अगर आप पहली बार ट्रेकिंग के लिए जा रहे हैं तो अपने साथ एक अनुभवी गाइड भी जरूर रखें ताकि जरूरत पड़ने पर वो आपके काम आ सके और रास्ते को लेकर आपको किसी तरह की परेशानी ना हो.

कैसे पहुंचे ( How to Reach Bagini Glacier )
आप यहां पर बेहद ही आसानी से सड़क, ट्रेन और हवाई मार्ग से पहुंच सकते हैं. दिल्ली से जोशीमठ करीव 500 किलोमीटर दूर है, तो वहीं आप यहां पर ट्रेन से भी पहुंच सकते हैं, हरिद्वार, ऋषिकेश नजदीकी रेलवे स्टेशन है. इसके अलावा देहरादून का जॉली ग्रांट हवाई अड्डा सबसे पास पड़ता है.

Taranjeet Sikka

एक लेखक, पत्रकार, वक्ता, कलाकार, जो चाहे बुला लें।