भारतीयों के बारे में क्या सोचते हैं Thailand के लोग?

आप ( Thailand ) थाईलैंड की सैर करने के लिए जाते हैं, खूब मौज-मस्ती करते हैं, बाजार से लेकर मंदिरों तक में घूमते हैं, सेल्फी भी लेते हैं, खरीददारी करते हैं, लेकिन क्या आपको पता है थाई यानी की ( Thailand ) थाईलैंड में रहने वाले लोग भारत और भारतीयों के बारे में क्या सोचते हैं ? आइए इस लेख के जरिए जानने की कोशिश करते है।

भारत और भारतीयों के बारे में ( Thailand ) थाईलैंड के लोग क्या सोचते हैं ये बातें वहीं बता सकता है जो वहां रहकर आया है, या वहां रहता है। हमने भी ऐसे लोगों को सर्च किया तो हमें QUORA के जरिए वहां के लोगों की सोच पता लगी, जिन्हें हमने आपके सामने रखने की कोशिश की है।

थाईलैंड में 4 महीने रहकर Internship करने वाले रिषभ कपूर ने QUORA पर थाईलैंड के लोगों की बातों का लब्बोलुआब पेश किया है। उन्होंने Bangkok & Pattaya में रहने वाले लोगों से मन की बात की।

रिषभ कपूर ने बताया कि भारतीयों को थाईलैंड में Khairks कहा जाता है, जिसका अर्थ अतिथि होता है। थाईलैंड के लोगों को भारत उनका पैतृक घर लगता है। रिषभ कपूर ने रजनीश कुमार का जिक्र करते हुए बताया की भारत से रामायण का प्रभाव यहां पर बहुत ज्यादा है। यहां के प्राचीन शहर का नाम अयुत्या और अयोध्या शहर से मिलता- जुलता है। ये ही नहीं यहां सड़क का नाम अशोक और राम के नाम पर रखे गए हैं। उन्होंने थाईलैंड के लोगों की तारीफ करते हुए उन्हें सभ्य और शालीन बताय,  जो भारतीयों का आदर करते हैं।

पढ़ें: THAILAND का नाम सुनते ही क्यों क्रेजी हो जाते हैं भारतीय?

मेहनती होते हैं भारतीय: थाई के लोगों का मानना है कि भारतीय स्मार्ट और मेहनती होते हैं। हालांकि कुछ ऐसी बातें भी है जो थाईलैंड के लोगों को पसंद नहीं है। जैसे भारतीय पुरुष से आने वाली Sweat smell,  उनका ऐसा मानना है कि यहां के ज्यादातर लोग perfume का उपयोग नहीं करते हैं।

कम हो रहा है भारतीयों का सम्मान: रिषभ कपूर ने बताया कि हमारी संस्कृति और लोगों के लिए यहां पर सम्मान और प्यार धीरे-धीरे कम हो रहा है। उन्होंने कहा कि मैं उनकी मदद नहीं कर सकता, लेकिन उनके साथ सहमत हूं, क्योंकि कई बार हम जो कुछ करते हैं, वह अश्लील और घृणित होता है।

खरीददारी के वक्त ज्यादा मोलभाव करते हैं: रिषभ कपूर को थाई लोगों ने बताया कि जब भारतीय शॉपिंग के लिए जाते हैं, तो ज्यादा मोलभाव करते हैं। उन्होंने इसके लिए खुद का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि Bargaining ठीक है, लेकिन जिस तरह से भारतीय उन लोगों पर चिल्लाते हैं, सामान उठाकर चल देते हैं, सहमति से कम भुगतान करते है ये सही नहीं है।

Bargaining से डरते हैं दुकानदार: रिषभ कपूर ने बताया कि थाईलैंड में भारतीयों का आना 5 से 7 साल पहले शुरू हुआ था (जैसा की उन्हें थाई मित्रों ने बताया)। उन्होंने बताया कि जब मेरे जैसे लोग किसी दुकान पर खरीददारी करने जाते हैं तो दुकानदार bargaining इसलिए नहीं करते, क्योंकि हम भारतीय है। उनकी शिकायत रहती है कि भारतीय कम पैसा देते हैं ।

रजनीश कुमार ने भी थाई लोगों से मिली जानकारी QUORA के साथ साझा किया है।

पढ़ें: पार्टनर संग Hangout के लिए Hauz Khas Village के ये Bar-Pubs हैं Best

थाई संस्कृति पर भारत का गहरा प्रभाव: रजनीश कुमार ने बताया कि थाई लोगों के मन में भारतीयों को लेकर बहुत सम्मान है। उनका मानना है कि भारत और थाईलैंड सांस्कृतिक रूप से जुड़े हुए हैं। थाई संस्कृति पर भारत का गहरा प्रभाव रहा है। थाई में कई ऐसे शब्द है जो भारत की संस्कृत भाषा से लिए गए हैं। वहीं, पाली, जो मगध (बिहार) की भाषा थी और थेरवाद (बौद्ध धर्म की एक शाखा) का माध्यम है, वो थाई शब्दावली की महत्वपूर्ण जड़ है। थाई लोगों का मानना है कि उनके बौद्ध धर्म की उत्पत्ति भारत से ही हुई है। इसके अलावा रामायण की हिंदू कहानी पूरे थाईलैंड में रामकियेन के नाम से जानी जाती है।

शैलेश कुमार सिंह You tuber हैं। इन्होंने ने भी भारत और भारतीयों को लेकर थाई महिलाओं से विचार जाने। क्या कुछ उनके सामने आया आइए जानते हैं ।

भारतीय लड़कों को पसंद नहीं करती थाई लड़कियां !: जी हां आपने सही पढ़ा 90 प्रतिशत थाई लड़कियां भारतीय लड़कों को पसंद नहीं करती है। क्योंकि भारत के बारे में उनका नजरिया अच्छा नहीं है। थाई लोग सोचते है की भारत एक गरीब देश है। और वहां के लोग रोजी- रोटी की तलाश में थाईलैंड आते हैं । इसके अलावा थाई लोग भारतीयों को मुसलमान मानते हैं। और सोचते हैं कि ये लोग चार- चार शादी कर सकते है, और पहले से ही शादीशुदा हैं ।

भारतीयों का रहन-सहन रास नहीं आता: थाई महिलाओं के मुताबिक भारतीय लोग साफ- सफाई पर ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं, उनसे बदबू आती है। इसके अलावा भारत में होने वाले महिलाओं पर अत्याचार, रेप भी एक कारण है, जिसके कारण भारतीय लोग थाईलैंड में पसंद नहीं किये जाते है।

भारतीयों की आदतें बुरी बनाती है: हमारी कुछ आदतें भी हमें यहां बुरा बनाती है जैसे जोर-जोर से बातें करना, महिलाओं को सीट नहीं देना, दूसरो को घूरना, हर जगह मोलभाव करना। हालांकि ये अपवाद है, जिनकी वजह से भारतीय थाई लोगों की नजरों में अच्छे नहीं है।

सभी भारतीय खराब हो ऐसा नहीं है, कई थाई लड़कियों के इंडियन BOY FRIEND और HUSBAND जिनके साथ वो अपनी जिंदगी अच्छे से बीता रही है। शैलेश का कहना है कि जब वे भारतीयों के संपर्क में आती है, तब उन्हें अच्छी आदतों के बारे में पता चलता है, और वे पसंद करने लगती है। उनके मुताबिक कई थाई लड़कियां है, जो भारत से प्यार करती है, और इंडियन लोगों को LIKE करती है, थाई लड़कियों को भारतीय लड़कों के नाक और आंखें बहुत पसंद आती है।

Sandeep Jain

पत्रकार की नजर से.....चलो घूम आते हैं