https://business.facebook.com/settings/security/business_verification?business_id=361906945015389

Uttarakhand Local Food – ये हैं गढ़वाल और कुमाऊं की Best 5 Dishes

Uttarakhand Local Food and Uttarakhand Cuisine – भारतीय व्यंजन और मसाले मुंह में पानी भरने वाले जायके के लिए दुनिया भर में फेमस हैं. हमारे देश के स्वादिष्ट जायके पूरी दुनिया के लोगों को आकर्षित करते हैं. ऐसे  स्वाद का अनुभव करने के लिए लोग अक्सर भारत आते हैं. महाराष्ट्र, केरल, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, असम, मेघालय, पश्चिम बंगाल, बिहार, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, पंजाब, राजस्थान… भारत के हर राज्य में स्वाद के अनोखे रंग सिमटे हुए है. लोकल फूड का यही रंग है जो घुमक्कड़ी में घुला मिला हुआ है. भारत के इन्हीं राज्यों में से एक राज्य उत्तराखंड का भी है. उत्तराखंड भारत का एक ऐसा राज्य है, जो आपको स्वादिष्ट भोजन परोसता है.  उत्तराखंड पंच फूल या पांच मसालों और अन्य मसालों की किस्मों के सही उपयोग के लिए प्रसिद्ध है. उत्तराखंड भोजन अपने सुगंधित स्वादों के साथ तीखे मसालों का अत्यधिक लुभावना मिश्रण को पसंद करता है. उत्तराखंड के प्रसिद्ध हिल स्टेशनों की एक मजेदार यात्रा करते हुए, आप प्रसिद्ध व्यंजनों का स्वाद जरूर चखें. आज हम आपको उत्तराखंड के पांच सबसे स्वादिष्ट खाने के बारे में बताएंगे.

Bhang Ki Chutni

पहाड़ी खान-पान की बात ही अलग है. ये जायकेदार है, साथ ही पौष्टिक भी. बात अगर पारंपरिक पहाड़ी खान-पान की हो, तो एक तीखी चटनी का जिक्र जरूर आता है, जिसे हम भांग की चटनी के रूप में जानते हैं.  आमतौर पर भांग नशे के लिए बदनाम है, लेकिन ये भांग है बड़े काम की चीज. इसके पौधे का हर हिस्सा उपयोगी है. भांग से निकलने वाले तेल में कई औषधीय गुण हैं. ताजी सुगंध और तीखी इमली का स्वाद आपकी जीभ पर काफी लंबे समय तक इसका स्वाद  रहेगा. गांजे के बीज से बना एक सुगंधित सुगंध, जीरा, लहसुन के पत्ते, इमली और नमक मिलाकर बनाई जाती है. जो खाने में बहुत ही स्वादिष्ट होती है.

Ant Chutney in Bastar : यहां बुखार आने पर Paracetamol नहीं, लाल चीटिंयों की खुराक दी जाती है

Dubuk

डबूक भी कुमाऊं के पहाड़ों में अक्सर खाई जाने वाली डिश है. असल में यह दाल ही है, लेकिन इसमें दाल को दड़दड़ा पीसकर बनाया जाता है, लेकिन यह ‘मास के चैस’ से अलग है. डबूक पहाड़ी दाल भट और गहत आदि की दाल से बनाया जाता है. लंच के समय चावल के साथ डबूक का सेवन किया जाता है. यदि आपको उत्तराखंड के सभी स्वादिष्ट व्यंजनों और उत्तम राजकीय भोजन में से स्वादिष्ट भोजन चुनना है, तो डबूक को आजमाएं. उत्तराखंड के इस सबसे लोकप्रिय भोजन में से एक का आनंद लेते हुए डबूक आपके पेट के लिए मददगार है. इसे चावल और भांग की चटनी के साथ परोसा जाता है. इसे तैयार करने के लिए, भट्ट की दाल या अरहर की दाल को एक कढ़ाही में धीमी गति से पकाने के बाद बारीक पेस्ट में बदल दिया जाता है. यह सराहनीय है, खासकर सर्दियों के दौरान ज्यादा खाया जाता है. डबूक प्रेमी पूरे साल भर इसके स्वादिष्ट स्वाद का लाभ उठाते हैं

5

 

Jhangore ki Kheer

झिंगोरा या झुंअर एक अनाज है और यह उत्तराखंड के पहाड़ों में उगता है. यह मैदानों में व्रत के दिन खाए जाने वाले व्रत के चावल की तरह ही होता है. झुंअर के चावलों की खीर यहां का एक स्वादिष्ट व्यंजन है. दूध, चीनी और ड्राइ-फ्रूट्स के साथ बनाई गई झिंगोरा की खीर एक आलौकिक स्वाद देती है. भारतीय वर्ग के भोजन के बाद कुछ मीठा होने की आदत है और गढ़वाली व्यंजन भी उस परंपरा का पालन करते हैं. झंगोरा की खीर नाम की क्षेत्रीय मीठी और स्वादिष्ट मिठाई जिसका स्वाद लाजवाब है. राज्य का एक प्रसिद्ध नुस्खा, इसका मुख्य घटक बाजरा इसे अलग बनाता है.

Singodi

आपने कई तरह की मिठाईयां खायी होंगी लेकिन हम आपको यहां ऐसी मिठाई के बारे में बता रहे हैं जो जिसका स्वाद बहुत ही लाजबाव है. इस मिठाई को कुमाऊंनी सिंगोड़ी मिठाई के नाम से जाना जाता है. इसे आसानी से घर पर बनाया जा सकता है. यह मिठाई मावे से तैयार की जाती है. इन्हें मालू के पत्ते में लपेटकर रखा जाता है जिससे इसका स्वाद और भी बढ़ जाता है. आपको बता दें कि मालू के पत्ते आसानी से बाजार में मिल जाते हैं. खोये (कंडेस्ड मिल्क) से बनी यह मिठाई और फिर मोलू के पत्ते में लिपटा हुआ आइकॉनिक होता है. मोलू के पत्ते की ताज़ी महक और इलायची और नारियल के साथ गाढ़े दूध के स्वाद का स्वाद आपको और माँगने पर छोड़ देगा. उत्तराखंड में सिंगोली को आज़माने के लिए अल्मोड़ा सबसे प्रसिद्ध जगह है.

Bal Mithai

बाल मिठाई एक भूरी चॉकलेट की तरह का फज है, जो भुने हुए खोए के साथ बनाया जाता है, सफेद चीनी गेंदों के साथ लेपित होता है, और भारत में उत्तराखंड के हिमालयी राज्य से एक लोकप्रिय मिठाई है, विशेष रूप से अल्मोड़ा के आसपास के क्षेत्रों में. बाल मिठाई लंबे समय से अल्मोड़ा जिले और पड़ोसी कुमाऊं पहाड़ियों की विशेषता रही है.

Komal Mishra

मैं कोमल... तो चलिए अपनी लेखनी से आपको घुमाती हूं... पहाड़ों की वादियों में और समंदर के किनारे