Places To Visit In Kausani :  कौसानी में एक से एक जगह है घूमने के लिए बेस्ट

Places To Visit In Kausani:  कौसानी उत्तराखंड राज्य में समुद्र तल से लगभग 6075 फीट की ऊंचाई पर स्थित एक खूबसूरत पहाड़ी शहर है. शक्तिशाली हिमालय के साथ-साथ नंदाकोट, त्रिशूल और नाडा देवी जैसे पहाड़ यहां से आसानी से दिखाई देते हैं. इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि कौसानी में घूमने के लिए कौन कौन सी जगहें सबसे अच्छी (Places To Visit In Kausani) हैं…

यह पहाड़ी शहर घने देवदार के पेड़ों के बीच एक रिज की चोटी पर स्थित है और सोमेश्वर, गरूर और बैजनाथ कत्यूरी की खूबसूरत घाटियां दिखई देते हैं. पहले के समय में यह शहर वलना के नाम से जाना जाता था और अल्मोड़ा जिले का एक हिस्सा था. उस समय, जिला कत्यूरी राजा बाइचलदेव के प्रबंधन में था.

बाद में, राजा ने एक गुजराती ब्राह्मण चंद तिवारी को भूमि का एक महत्वपूर्ण हिस्सा दे दिया.  इस जगह की भव्यता से चकित होकर, महान भारतीय स्वतंत्रता सेनानी, महात्मा गांधी ने इस पहाड़ी शहर को ‘भारत का स्विट्जरलैंड’ कहा. कौसानी एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है जहां हर साल दुनिया भर से बड़ी संख्या में यात्री आते हैं.

कौसानी और उसके आसपास के पर्यटन स्थल || Places To Visit In Kausani

खूबसूरत पहाड़ियों और पहाड़ों के अलावा, यह अपने आश्रमों, मंदिरों और चाय बागानों के लिए भी जाना जाता है. यहां के लोकप्रिय आश्रमों में से एक अनाशक्ति आश्रम है, जहां महात्मा गांधी कुछ दिनों के लिए रुके थे. यह अब एक रिसर्च केंद्र है, जहां रहने और रसोई की सुविधा भी प्रदान की जाती है. एक अन्य प्रसिद्ध आश्रम लक्ष्मी आश्रम है, जिसे सरला आश्रम के नाम से भी जाना जाता है.

Paltan Bazaar Guwahati: गुवाहाटी की ये मार्केट क्यों है खास, जान लीजिए

आश्रम की स्थापना 1948 में महात्मा गांधी के एक प्रशंसक कैथरीन हिलमैन ने की थी. पिन्नाथ मंदिर, शिव मंदिर, रुद्रहरि महादेव मंदिर, कोट भ्रामरी मंदिर और बैजनाथ मंदिर कौसानी के कुछ लोकप्रिय धार्मिक स्थल हैं.

पिन्नाथ मंदिर हिंदू देवता भैरों को समर्पित है और समुद्र तल से 2750 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है. शिव मंदिर सोमेश्वर शहर में स्थित है, जो कौसानी से 11 किमी दूर स्थित है.यह मंदिर हिंदू भगवान शिव को समर्पित है और इसका निर्माण चंद राजवंश के संस्थापक राजा सोम चंद ने किया था.

इसके अलावा, कौसानी प्रसिद्ध समकालीन हिंदी कवियों में से एक सुमित्रा नंदन पंत का जन्मस्थान भी है. उन्हें समर्पित एक म्यूजियम है, जिसे सुमित्रा नंदन पंत गैलरी के नाम से जाना जाता है. म्यूजियम  में उनकी कविताओं और अन्य साहित्यिक कार्यों के साथ-साथ उन्हें प्राप्त पुरस्कारों की पांडुलिपियां और ड्राफ्ट शामिल हैं.

म्यूजियम में उनकी जयंती मनाई जाती है और उनके सम्मान में हर साल एक सम्मेलन भी आयोजित किया जाता है. कौसानी आने वाले टूरिस्ट  ट्रेकिंग और रॉक क्लाइम्बिंग जैसी एक्टिवीटी का मजा ले सकते हैं. इस जगह में देश के कुछ बेहतरीन ट्रेकिंग मार्ग हैं.  कुछ लोकप्रिय हैं सुंदर धुंगा ट्रेक, पिंडारी ग्लेशियर ट्रेक और मिलम ग्लेशियर ट्रेक.

अनाशक्ति आश्रम

अनाशक्ति आश्रम, जिसे गांधी आश्रम के नाम से जाना जाता है, का निर्माण महात्मा गांधी के सम्मान में किया गया था. 1929 में ‘राष्ट्रपिता’ महात्मा गांधी ने इस आश्रम का दौरा किया था. उन्होंने इस स्थान पर अनाशक्ति, जिसका अर्थ है टुकड़ी योग पर अपनी कमेंट लिखी थी. आश्रम में उनके जीवन से जुड़ी कई किताबें और तस्वीरें मौजूद हैं. यहां रहने और रसोई की सुविधा उपलब्ध है. एक प्रार्थना कक्ष है जहां हर सुबह और शाम प्रार्थना की जाती है.

लक्ष्मी आश्रम

लक्ष्मी आश्रम, जिसे सरला आश्रम के नाम से भी जाना जाता है. इसकी स्थापना 1948 में महात्मा गांधी की शिष्या कैथरीन हिलमैन ने की थी. गांधी की एक बड़ी फैन कैथरीन ने 1931 में लंदन छोड़ दिया और स्वतंत्रता के लिए उनके संघर्ष में गांधी के साथ शामिल हो गईं. बाद में उन्होंने सरलाबेन नाम अपनाया और हिमालय क्षेत्र में रहने वाली लड़कियों को शिक्षित करने के लिए इस आश्रम की स्थापना की. इस आश्रम में लड़कियों को खाना बनाना, सब्जियां उगाना और साफ-सफाई जैसे विभिन्न कौशल सिखाए जाते हैं यह आश्रम कई अनाथ लड़कियों और महिलाओं का घर है.

Shillong Travel Guide: मेघालय की राजधानी में कहां कहां घूमें? पूरी जानकारी लें

रुद्रहरि महादेव

रुद्रहरि महादेव मंदिर कौसानी से लगभग 8 किमी की दूरी पर कोसी नदी के तट पर स्थित है. यह एक प्राचीन गुफा मंदिर है जहां ऋषि कौशिक के नाम से जाने जाने वाले एक तपस्वी ने लंबे समय तक ध्यान किया था.

कोट भ्रामरी मंदिर

कोट भ्रामरी मंदिर, जिसे भ्रामरी देवी मंदिर और कोटे-के-माई के नाम से भी जाना जाता है. कौसानी से 5 किमी दूर एक पहाड़ी की चोटी पर स्थित है.  एक लोकप्रिय कहानी के अनुसार यह माना जाता है कि महान भारतीय गुरु, आदि गुरु शंकराचार्य, गढ़वाल क्षेत्र की यात्रा के दौरान इस स्थान पर रुके थे. हर साल अगस्त में एक मेला, जिसे नंदा अष्टमी या नंदा राज जाट के नाम से जाना जाता है. यहां एक बड़ा जुलूस निकाला जाता है.

बैजनाथ मंदिर

बैजनाथ मंदिर कौसानी से लगभग 16 किमी दूर बैजनाथ शहर में स्थित एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है. 12वीं शताब्दी के दौरान बने इस मंदिर का हिंदुओं के बीच बहुत धार्मिक और ऐतिहासिक महत्व है.  एक पौराणिक कथा के अनुसार, हिंदू देवताओं शिव और पार्वती का विवाह गोमती नदी और गरूर गंगा के संगम पर हुआ था. बैजनाथ शहर, जिसे पहले कार्तिक्यपुर के नाम से जाना जाता था, 12वीं और 13वीं शताब्दी के दौरान कत्यूरी राजवंश की राजधानी के रूप में कार्य करता था.

Krem Liat Prah Cave: जोखिम से भरा है मेघालय की इस गुफा का सफर, बिल्कुल न जाएं

पिन्नाथ गोपालकोट

पिन्नाथ गोपालकोट चोटी के तल पर स्थित एक गांव है और अपने पिन्नाथ मंदिर के लिए लोकप्रिय है. चौकोर आकार का यह मंदिर हिंदू देवता भैरों को समर्पित है और इसके पांच दरवाजे दक्षिण की ओर हैं. मंदिर की दीवारों को हिंदू देवताओं महादेव और देवी की छवियों से सजाया गया है. यह स्थान हर साल अक्टूबर के महीने में मेले की मेजबानी के लिए भी जाना जाता है. यह खूबसूरत गांव समुद्र तल से 2750 मीटर की ऊंचाई पर बसा हुआ है और कौसानी से लगभग 5 किमी ट्रेकिंग द्वारा पहुंचा जा सकता है.

सोमेश्वर

कौसानी से लगभग 11 किमी की दूरी पर स्थित सोमेश्वर एक प्रसिद्ध शहर है. यह स्थान हिंदू भगवान शिव को समर्पित शिव मंदिर के लिए जाना जाता है. इस लोकप्रिय मंदिर का निर्माण चंद साम्राज्य के संस्थापक राजा सोम चंद ने करवाया था.  मंदिर का नाम राजा सोम और भगवान महेश्वर के नामों का मेल है.

कैसे पहुंचें कौसानी || How to reach Kausani

देश के विभिन्न हिस्सों से हवाई, रेल और सड़क मार्ग से आसानी से पहुंचा जा सकता है. कौसानी के लिए नजदीकी हवाई अड्डा पंतनगर हवाई अड्डा है. यह नियमित उड़ानों द्वारा अन्य भारतीय शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है.

काठगोदाम रेलवे स्टेशन नजदीकी  रेलवे स्टेशन है, जो हावड़ा और लखनऊ सहित प्रमुख भारतीय गंतव्यों के लिए ट्रेनों द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है. कौसानी बस स्टेशन सार्वजनिक और निजी बसों द्वारा विभिन्न जगहों से जुड़ा हुआ है.

कौसानी जाने का सबसे अच्छा समय || Best Time to visit Kausani

ज्यादातर यात्री अप्रैल और जून के बीच कौसानी की यात्रा करना पसंद करते हैं जब मौसम सुहावना रहता है.

Komal Mishra

मैं कोमल... तो चलिए अपनी लेखनी से आपको घुमाती हूं... पहाड़ों की वादियों में और समंदर के किनारे

error: Content is protected !!