Mount Abu Hill Station : Mount Abu सनसेट देखने के लिए उमड़ती है सैलानियों की भारी भीड़

Mount Abu Hill Station :  माउंट आबू पर्यटकों के द्वारा बहुत पसंद किया जाता है। यहां का सनसेट देखने के लिए उमड़ती है सैलानियों की भारी भीड़।

कहां स्थित है माउंट आबू ( Where is Mount Abu situated )

माउंट आबू ( Mount Abu ) समुद्र तल से लगभग १२२० मीटर की ऊंचाई पर स्थित आबू पर्वत जोो की राजस्थान का एकमात्र पहाड़ी नगर है। ये अरावली पर्वत का सर्वोच्च शिखर, जैनियों का प्रमुख तीर्थस्थान तथा राज्य का ग्रीष्मकालीन शैलावास है। राजस्थान के सिरोही जिले में स्थित अरावली की पहाड़ियों की सबसे ऊँची चोटी पर बसे माउंट आबू का वातावरण राजस्थान के अन्य शहरों से अलग और मनोरम है।

माउंट आबू के आसपास के पर्यटन स्थल ( Places around Mount Abu )

माउंट आबू ( Mount Abu )के पर्यटन स्थल में नक्की झील सनसेट पॉइंट टोड रॉक, अबू रोड का शहर, गुरू शिखर चोटी और माउंट आबू ( Mount Abu ) वन्य जीवन अभयारण्य मुख्य हैं। माउंट आबू में धार्मिक और ऐतिहासिक महत्व से सम्बंधित भी अनेक स्मारक हैं जिनमें मुख्य रूप से दिलवारा का जैन मंदिर, आधार देवी मंदिर दूध बावडी श्री रघुनाथ जी मंदिर और अचलगढ़ किला अपना विशेष स्थान रखते हैं।

माउंट आबू का सनसेट पॉइंट हैं पर्यटकों के बीच आकर्षण का केंद्र ( Mount Abu Sunset Point )

अगर आप माउंट आबू  ( Mount Abu ) घूमने के लिए आ रहे हैं तो आपकी यात्रा यहां के सन सेट पॉइंट को देखे बिना पूरी नहीं होगी। इस जगह से आपको बेहद हसीन नज़ारा देखने को मिलेगा। जो कि आपने कभी सोचा भी नहीं होगा। माउंट आबू में सूर्यास्त के समय बीहड़ अरावली पर्वतमाला के बाहर सूर्य की किरणों दृश्य पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है। इस जगह की खासियत है यहाँ की जलवायु जो पूरे साल सुखद रहती है। ये जगह प्रकृति प्रेमी और शांत वातावरण के लिए बेहद खास है क्योंकि जब यहां सूर्य डूबता है तो इसकी किरणे लाल और नारंगी रंग के रंगों में अरावली की समृद्ध हरियाली में बहुत खूबसूरत दिखाई देती हैं। सूर्यायस्त का आनंद लेना है तो एक बार ज़रूर जायें माउंट आबू।

 

Ranikhet Hill Station : Ranikhet उत्तराखंड में बसा एक खूबसूरत Hill Station

 

यहां स्थित आबू पर्वत का धार्मिक महत्व

पर्वतराज के नाम से जाना जाने वाला राजस्थान का यह एक मात्र हिल स्टेशन (hill station) अर्बुदांचल, जो कि अरावली की सर्वोच्च पहाड़ियों पर बसा हुआ है। ये राजस्थान की सबसे ऊंची पर्वत चोटी गुरू शिखर के साथ-साथ जैन और हिन्दु धर्म के प्रसिद्ध मंदिरों के लिए प्रसिद्ध है। गुजरात और राजस्थान की सीमा पर बसे गरासिया और अन्य आदिवासियों के लोक देवी-देवताओं सहित उनकी मान्यता के भी कई छोटे-बड़े मंदिर माउंट आबू  ( Mount Abu ) के आस-पास ही स्थित हैं। इस स्थान पर महर्षि वशिष्ठ के प्राचीन आश्रम से लेकर देलवाड़ा (दिलवाड़ा) के विश्व प्रसिद्ध जैन मंदिर स्थित हैं।

कब जायें माउंट आबू ( When to visit Mount Abu )

माउंट आबू  ( Mount Abu ) यूं तो आप पूरे सालभर में कभी भी जा सकते हैं।लेकिन अक्टूबर से दिसंबर यहां जाना ज़्यादा अच्छा माना जाता है।

कैसें पहुंचे माउंट आबू ( How to visit Mount Abu )

ट्रेन द्वारा ( By Train )

ट्रेन से जाने पर अबू रोड सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन है। जो मुख्य शहर से सिर्फ 28 किमी की दूरी पर स्थित है। ये रेलवे मार्गों से नई दिल्ली, अहमदाबाद, जयपुर और मुंबई से बहुत अच्छी तरह जुड़ा हुआ है।

रोड द्वारा ( By Road )

अबू रोड से आप सरकारी परिवहन सहायता या टैक्सी से भी आसानी से जा सकते हैं।

How to Travel in Tajmahal : क्या करना है, क्या नहीं करना है, 1 मिनट में जानें

 

हवाई जहाज़ द्वारा ( By plane )

यहां से सबसे नज़दीकी हवाई अड्डा माउंट अबू से लगभग 185 किमी दूर उदयपुर में स्थित है। यहां से 221 किलोमीटर की दूरी पर अहमदाबाद में बेहतर कनेक्टिविटी और देश के अन्य क्षेत्रों में रोज़मर्रा की उड़ानें हैं। अहमदाबाद और उदयपुर दोनों जगहों से आप टैक्सी की बुकिंग पहले से करा सकते हैं।

दोस्तों, आप भी Travel Junoon के संग जुड़ सकते हैं और अपने लेख हजारों लोगों तक अपनी तस्वीर के साथ पहुंचा सकते हैं. आप अपना लिखा कोई भी Travel Blog, Travel Story हमें भेजें – GoTravelJunoon@gmail.com पर. हम उसे आपकी तस्वीर के साथ वेबसाइट पर अपलोड करेंगे .

 

Anchal Shukla

मैं आँचल शुक्ला कानपुर में पली बढ़ी हूं। AKTU लखनऊ से 2018 में MBA की पढ़ाई पूरी की। लिखना मेरी आदतों में वैसी शामिल है। वैसे तो जीवन के लिए पैसा महत्वपूर्ण है लेकिन खुद्दारी और ईमानदारी से बढ़कर नहीं। वो क्या है किमैं लोगों से मुलाक़ातों के लम्हें याद रखती हूँ,मैं बातें भूल भी जाऊं तो लहज़े याद रखती हूँ,ज़रा सा हट के चलती हूँ ज़माने की रवायत से,जो सहारा देते हैं वो कंधे हमेशा याद रखती हूँ।कुछ पंक्तिया जो दिल के बेहद करीब हैं।"कबीरा जब हम पैदा हुए, जग हँसे हम रोयेऐसी करनी कर चलो, हम हँसे जग रोये"