5 Tibetan Rites – राज कपूर की ऐक्ट्रेस मंदाकिनी सिखा रही हैं तिबतन योग, जानें क्या होता है ये

5 Tibetan Rites – Five Tibetan Rites एक प्राचीन योग प्रैक्टिस है. इसमें दिन में 21 बार किए जाने वाली 5 exercise का क्रम होता है. Practitioners बताते हैं कि इस program के कई शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक फायदे हैं. इन प्रभावों को किसी व्यक्ति की जीवन शक्ति और शक्ति को बहाल करने के लिए माना जाता है. इन फायदों की वजह से, 5 तिब्बती संस्कार परंपरागत रूप से “Fountain of Youth” के रूप में जाने जाते हैं. आइए देखें कि 5 संस्कार क्या हैं, उन्हें कैसे परफॉर्म करें, और इस प्रैक्टिस के फायदे क्या हैं.

Five Tibetan Rites, 2500 साल से ज़्यादा पुराने माने जाते हैं. वे कथित तौर पर तिब्बती लामाओं (भिक्षुओं), या तिब्बती बौद्ध धर्म के प्रमुखों द्वारा बनाए गए थे. 1985 में, पीटर केल्डर ने “Ancient Secret of the Fountain of Youth” पुस्तक में पश्चिमी संस्कृति में पहली बार rites पेश किए गए थे. यह पुस्तक, जो कार्यक्रम को “youthing” के रूप में पारिभाषित करती है, एक्सर्साइज़ के बारे में विस्तार से बताती है.

इन एक्सर्साइजेस की प्रैक्टिस शरीर की ऊर्जा पर आधारित है. चिकित्सकों के अनुसार, शरीर में सात ऊर्जा क्षेत्र, या चक्राकार होते हैं. इन क्षेत्रों को हिंदू धर्म में चक्र कहा जाता है. यह कहा गया है कि ये क्षेत्र, वाहिनीहीन तंत्र के कुछ हिस्सों, ग्रंथियों और अंगों के एक नेटवर्क को नियंत्रित करते हैं जो उम्र बढ़ने की प्रक्रिया सहित शरीर के कई कार्यों को नियंत्रित करते हैं.

चिकित्सकों का कहना है कि जब ये ऊर्जा क्षेत्र समान दर पर स्पिन करते हैं तो युवावस्था और जोश हासिल किया जा सकता है. इसी को पाने के लिए लोग 5 Tibetan Rites का अभ्यास करते हैं.

इस प्रैक्टिस के फायदों पर सीमित रिसर्च है. सामान्य तौर पर, वे Five Tibetan Rites के चिकित्सकों द्वारा किए गए किस्से संबंधी रिपोर्ट और चिकित्सा पेशेवरों और योग विशेषज्ञों की राय पर आधारित होते हैं.

Reported benefits include:

relief from joint pain and stiffness
improved strength and coordination
better circulation
reduced anxiety
better sleep
improved energy
a youthful appearance

 

स्टेप 1: द स्पिन

ये हमारे शरीर में 7 ऊर्जा क्षेत्रों को एक्टिव करने, भावनाओं को बैलेंस करने, ऊर्जा केंद्रों को आपस में कनेक्ट करने और मांसपेशियों को बनाने में मदद करता है. इसे आप इस तरह से करें-

जितना हो सके पीठ के बल अपने पैरों पर खड़े हो जाएं. हथेलियों के साथ फर्श के समानांतर, अपनी भुजाओं को बाहर की ओर फैलाएं.

एक ही स्थान पर रहकर, धीरे-धीरे अपने शरीर को घड़ी की दिशा में स्पिन करना शुरू करें. अपने सिर को आगे या पीछे न झुकें. आगे की ओर देखते हुए अपनी आँखें खुली और स्थिर रखें.

 

स्टेप 2: पैर उठाना

यह पेट को मजबूत बनाता है और आपके शरीर के ऊर्जा केंद्र को उत्तेजित करता है. आप अपने घुटनों को मोड़कर इस अभ्यास को आजमा सकते हैं-

अपनी पीठ के बल सपाट लेटकर अपनी भुजाओं पर टिके हुए हथेलियों को फर्श पर सपाट फैलाएं.

एक गहरी सांस लें और अपने सिर को ऊपर उठाने की कोशिश करें, साथ ही अपनी ठुड्डी को अपनी छाती की ओर ले जाएं.

अपने घुटनों को सीधा रखते हुए अपने पैरों को सीधा ऊपर उठाएं. जब तक आप कर सकते हैं तब तक उस स्थिति को बनाए रखें और फिर साँस छोड़ें और धीरे-धीरे अपने सिर और पैरों को फर्श पर आराम से रखें.

 

स्टेप-3: घुटने टेकना

ये आपके सौर जालिका (तंत्रिकाओं) को खोलने के लिए किया जाता है. साथ ही, ये आपके हृदय और गले को बेहतर तरीके से काम करने में मदद करता है. यह आपके हार्मोन को भी संतुलित करता है. इस अभ्यास को करते समय अपनी आँखें बंद करने का प्रयास करें और अपनी साँसों पर ध्यान केंद्रित करने की कोशिश करें. फिर ऐसा करें-

फर्श पर घुटने पर बैठ जाएं.

अपनी हथेलियों को अपनी जांघों के पीछे, अपने नितंबों के ऊपर या नीचे रखें.

श्वास लें और अपनी रीढ़ और सिर को पीछे करें, इससे आपकी छाती खुल जाएगी.

जैसे ही आप साँस छोड़ते हैं, धीरे-धीरे अपने सिर को आगे की तरफ छोड़ें.

 

स्टेप- 4 : टेबलटॉप

टेबलटॉप के लाभों में जांघ की मांसपेशियों को मजबूत करना और श्वास लेने की क्षमता में सुधार करना शामिल है. इसके लिए-

अपने पैरों के साथ फर्श पर सीधे सीधे आगे बढ़े और कंधों को फैला लें.

अपनी हथेलियों को फर्श पर स्ट्रेट रखें.

श्वास लें और धीरे से अपने सिर को पीछे मोड़े.

साथ ही साथ अपने कूल्हों को उठाएं और अपने घुटनों को मोड़कर टेबलटॉप की तरह बना लें.

जब तक आप कर सकते हैं तब तक इसे ऐसे ही रखें। फिर धीरे-धीरे सांस छोड़ें और नॉर्मल हो जाएं.

 

स्टेप- 5 : पेंडुलम

ये आपकी आत्मा को पुनर्जीवित करने में मदद करता है, ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर बनाता है और आपके हाथ और पैर की मांसपेशियों को मजबूत करता है. फिर-

अपने पैरों से जमीन को छूते हुए जमीन पर खड़े रहें.

अपनी बाहों को ऊपर की ओर बढ़ाएं और फिर अपने हाथों से फर्श को छूते हुए झुकें.

अपने पैरों को फैलाएँ.

जमीन पर लेटकर अपने पैरों के ऊपर रखें, बाहों को सीधा करें और अपनी रीढ़ से आर्क बनाएं.

फिर, अपने शरीर को नीचे की ओर ‘U’आकार में घुमाते हुए अपने कूल्हों को अंदर-बाहर करें. अपनी ठोड़ी को ऊपर की ओर ले जाएं.

फिर अंत में साँस छोड़ते हुए ‘V’ आकार में उल्टा हो जाएं.

 

मंदाकिनी, पति संग चलाती हैं योगा और मेडिसिन सेंटर

 जानकारी के मुताबिक मंदाकिनी अब तिबतन योगा क्लास चलाती हैं और अपने पति के साथ तिबतन मेडिसिन सेंटर चलाती हैं जो तिबतन हर्बल सेंटर के नाम से जाना जाता है. 

 टाइम्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए मंदाकिनी ने बताया था कि उन्होंने फिल्म इंडस्ट्री की कठोरता से एकांत पानी की चाहत में अपने पति से ही तिबतन योगा सीखा था.

मंदाकिनी की आखिरी फिल्म जोरदार साल 1996 में रिलीज हुई थी जिसमें उनके अलावा गोविंदा, आदित्य पंचोली और नीलम कोठारी थीं. इसके बाद वो फिल्मों में नजर नहीं आईं.

साभार : ओनली माय हेल्थ

For any Travel Queries, kindly connect to us on gotraveljunoon@gmail.com