Bageshwar Dham Sarkar Chhatarpur : बागेश्वर धाम के बारे में जानें सबकुछ विस्तार से

Bageshwar Dham Sarkar Chhatarpur :  बागेश्वर धाम सरकार (Bageshwar Dham Sarkar Chhatarpur) एक लोकप्रिय स्थल है. ऐसा कहा जाता है कि बागेश्वर धाम में जो भी भक्त आता है उसकी मनोकामना पूर्ण होती है. माना जाता है कि अपना आवेदन डालने से आपको जो भी समस्याएं हैं, वे सभी समस्याएं आसानी से हल हो जाती हैं. अगर आप बागेश्वर धाम (Bageshwar Dham Sarkar Chhatarpur) जाना चाहते हैं तो हम आपको बागेश्वर धाम सरकार बालाजी के बारे में पूरी जानकारी देने जा रहे हैं.

बागेश्वर धाम सरकार छतरपुर (Bageshwar Dham Sarkar Chhatarpur)

बागेश्वर धाम भक्तों के लिए अटूट आस्था और भरोसे का प्रतीक है. यह बेहद पावन धार्मिक स्थलों में से एक है. यह बेहद ही पवित्र धार्मिक स्थलों में से एक हैं. यहां के दर्शन के लिए श्रद्धालु सैंकड़ों किलोमीटर का सफर तय करके पहुंचते हैं. ऐसा माना जाता है कि इस जगह पर हनुमान जी के स्वरूप वास करते हैं और इन्हें श्री बागेश्वर बालाजी महाराज के नाम से जाना जाता है.

यहां महाराज श्री धर्मेंद्र कृष्ण जी श्रद्धालुओं को प्रवचन देते हैं, उनकी समस्या को सुनते हैं और समाधान भी करते हैं. यहां से जुड़े श्रद्धालुओं के लिए ऑनलाइन राम कथा का Live प्रसारण किया जाता है. इसे श्रद्धालु घर से भी ऑनलाइन देख या सुन सकते हैं.

बागेश्वर धाम का मोबाइल नंबर क्या है? (Bageshwar Dham Sarkar ka Mobile Number)

बागेश्वर धाम सरकार मंदिर के कार्यालय का मोबाइल हेल्पलाइन नंबर 8120592371 है.

बागेश्वर धाम किस जिले में स्थित है? (Bageshwar Dham Kis Jile Mein Hai)

बागेश्वर धाम मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में स्थित है. यह मंदिर हनुमान जी और भगवान शिव को समर्पित है. छतरपुर जिले में स्थित धाम की छतरपुर जिला मुख्यालय से दूरी लगभग 17 किलोमीटर की है. ऐतिहासिक शहर खजुराहो से लगभग 44 किलोमीटर की दूरी पर यह मंदिर स्थित है.

ये भी पढ़ें- Shri Krishna Janmabhoomi: मथुरा में जहां जन्में श्री कृष्ण जानें वहां के बारे में रोचक Facts

बागेश्वर धाम का दरबार कब लगता है? (Bageshwar Dham ka Darbar kab Lagta Hai)

बजरंग बली जी की असीम अनुकंपा से यह चमत्कारी दरबार हर रोज लगता है लेकिन हफ्ते में मंगलवार और शनिवार को इसकी विशेषता बढ़ जाती है. इन दोनों दिनों में हनुमान जी की कृपा असीम होती है.

बागेश्वर धाम के पंडित जी का क्या नाम है? (Bageshwar Dham Sarkar Ke Pandit Kaun Hain)

बागेश्वर धाम के पंडित का नाम धीरेंद्र कृष्ण गर्ग है. आजकल बागेश्वर धाम के पंडित धीरेंद्र कृष्ण गर्ग बेहद चर्चा में रहते हैं. मीडिया में अपने बयान चर्चित होने के बाद आजकल उनके रील्स भी खूब देखे जा रहे हैं. पंडित धीरेन्द्र जी का जन्म 4 जुलाई 1996 को छतरपुर जिले के छोटे से गांव ग्राम गड़ा में हुआ था.

नाम- धीरेंद्र कृष्ण गर्ग
अर्जी का दिन- मंगलवार और शनिवार
पता- गंज, गढ़ा गांव, छतरपुर, मध्य प्रदेश
PIN Code- 471105
Youtube- Bageshwar Dham Sarkar

बागेश्वर धाम सरकार से संपर्क कैसे करें? (Bageshwar Dham Sarkar Se Sampark Kaise Karen)

श्री बालाजी बागेश्वर धाम का वॉट्सऐप नंबर 8120592371 है. वैसे तो बागेश्वर धाम के लिए मोबाइल नंबर इसलिए जारी किया गया था ताकि लोगों को बागेश्वर धाम की जानकारी मिल सके लेकिन अब इन नंबरों के इस्तेमाल से ऑनलाइन टोकन भी लिया जा सकता है.

छतरपुर स्टेशन और खजुराहो स्टेशन से कितना दूर है बागेश्वर धाम? (Chhatarpur Station aur Khajuraho Se bageshwar dham ki doori)

बागेश्वर धाम सरकार मध्यप्रदेश के छतरपुर रेलवे स्टेशन से लगभग 24 किलोमीटर दूर है. बागेश्वर धाम सरकार मंदिर के सबसे नजदीकी एयरपोर्ट खजुराहो एयरपोर्ट है.

बागेश्वर धाम में अर्जी कैसे लगाएं (Bageshwar Dham Sarkar mein Arzi Kaise Lagayen)

बागेश्वर धाम सरकार में पहुंचने के बाद आपको सबसे पहले लाल वस्त्र और नारियल लेकर अर्जी को बांधना होत है. इसके बाद आपको टोकन लेना होता है. बागेश्वर धाम में टोकन लेने के बाद महाराज के सेवक आपको मोबाइल फोन के जरिए सूचना देंगे कि अर्जी किस दिन लग जाएगी.

अगर तय दिन ज्यादा टोकन की वजह से आपकी अर्जी नहीं लग पाती है तो आइए जानते हैं कि आप घर बैठे कैसे अर्जी लगवा सकते हैं?

बागेश्वर धाम में घर बैठे अर्जी कैसे लगाएं? (Bageshwar Dham Mein Ghar Baithe Arzi Kaise Lagayen)

अगर ज्यादा टोकन की वजह से आपकी अर्जी नहीं लग पाती है तो आप अपने घर से भी बागेश्वर धाम में अर्जी लगा सकते हैं. ऐसा करने के लिए आपको मंगलवार के दिन अपने घर में लाल वस्त्र में नारियल बांधना है और अर्जी को पूजा स्थल यानि की मंदिर में रख देना है. इसके बाद आपको “ॐ बगेश्वराय नमः” की एक एक माला का जप करना है.

बागेश्वर धाम सरकार में भोजन की मुफ्त सुविधा (Bageshwar Dham Sarkar Mein Bhojan)

बागेश्वर धाम में नि:शुल्क भोजन की व्यवस्था है. बागेश्वर धाम में अन्नपूर्णा रसोई चलती है और इसी के जरिए प्रसाद के रूप में भोजन श्रद्धालुओं को उपलब्ध कराया जाता है.

कैसे पहुंचे बागेश्वर धाम || How to reach Bageshwar Dham

एक बार जब आप बागेश्वर बालाजी की यात्रा करने की योजना बनाते हैं तो आपको वहां पहुंचने के लिए अपना सुविधाजनक रास्ता देखना होगा. यह स्थान भारत के मध्य प्रदेश राज्य के छतरपुर ज़िले में स्थित है.  छतरपुर रेल, सड़क और हवाई मार्ग से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है. ट्रेन दिल्ली से सीधे छतरपुर जाती है. सड़क मार्ग से भी यह राजमार्ग से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है.

हवाई मार्ग से आपको खजुराहो और फिर सड़क मार्ग से धाम जाना होगा. दरअसल बागेश्वर धाम छतरपुर और खजुराहो के बीच में स्थित है.

फ्लाइट से कैसे पहुंचे बागेश्वर धाम || How to reach Bageshwar Dham by flight

नजदीकी हवाई अड्डा खजुराहो है. एयरपोर्ट से बागेश्वर धाम की दूरी लगभग 58 किलोमीटर की है. दिल्ली से खजुराहो के लिए उड़ानें संचालित होती हैं. खजुराहो हवाई अड्डे पर उतरने के बाद आपको धाम के लिए टैक्सी या ऑटो लेना होगा. गंज से दाएं मुड़ें और गढ़ पहुंचें जहां धाम स्थित है.

ये भी पढ़ें- Radhavallabh Mandir in Vrindavan: राधा वल्लभ मंदिर के बारे में जानें ये अनूठा रहस्य

ट्रेन से कैसे पहुंचे बागेश्वर धाम || How to reach Bageshwar Dham by Train

अगर आप ट्रेन से जा रहे हैं तो आपको सबसे पहले छतरपुर जाना होगा. यहां झांसी, भोपाल, इंदौर और उज्जैन से सीधी ट्रेनें हैं. देश के अलग अलग हिस्सों से भी छतरपुर के लिए ट्रेन आती हैं. नजदीकी रेलवे स्टेशन खजुराहो (59 किमी), ललितपुर जंक्शन रेलवे स्टेशन (166 किमी), झांसी (150 किमी) हैं.

दिल्ली से केवल दो ट्रेनें सीधे वहां जाती हैं. भोपाल की ओर से 4 से 5 ट्रेनें छतरपुर के लिए चलती हैं. इन ट्रेनों की मदद से आपको छतरपुर पहुंचना होता है. छतरपुर से आपको बस/टैक्सी/ऑटो की मदद लेनी होगी.

सड़क के रास्ते  कैसे पहुंचे बागेश्वर धाम || How to reach Bageshwar Dham by Road

अगर आप बस से बागेश्वर धाम जाना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले छतरपुर जाना होगा. भोपाल और इंदौर से 24 घंटे बसें उपलब्ध हैं.आपको पता करना चाहिए कि आपके शहर से छतरपुर के लिए कोई बस चलती है या नहीं. छतरपुर के बाद आपको टैक्सी या ऑटो लेना होगा.

Komal Mishra

मैं कोमल... तो चलिए अपनी लेखनी से आपको घुमाती हूं... पहाड़ों की वादियों में और समंदर के किनारे

error: Content is protected !!