Monday, October 2, 2023
Interesting Travel FactsTeerth YatraTravel History

Holi in Mathura Vrindavan : वृंदावन में होली मनाएं और दुनिया के सबसे बड़े रंगों के त्योहार का हिस्सा बनें!

Holi in Mathura Vrindavan :  होली, रंगों का त्योहार, भारत में हजारों वर्षों से मनाया जाता रहा है और अब इसे गैर-हिंदू समुदायों सहित दक्षिण एशिया के विभिन्न समुदायों द्वारा भी मनाया जाता है. उत्तर प्रदेश में होली 2023 मंगलवार, 7 मार्च से शुरू होगी और बुधवार, 8 मार्च को समाप्त होगी.

वृंदावन और मथुरा में क्यों मनाई जाती है होली? ||  Why is Holi celebrated in Vrindavan and Mathura?

जहां होली भारत के लगभग हर हिस्से में मनाई जाती है, वहीं ब्रज की होली विशेष रूप से प्रसिद्ध है. ब्रज एक ऐतिहासिक क्षेत्र है जो मथुरा, वृंदावन और आसपास के कुछ क्षेत्रों को कवर करता है. यहां की होली अपने अनोखे रीति-रिवाजों और परंपराओं के कारण दुनिया भर के पर्यटकों और तीर्थयात्रियों को अपनी ओर आकर्षित करती है. मथुरा भगवान कृष्ण का जन्म स्थान है और वृंदावन वह स्थान है जहां वे बड़े हुए थे.

Holi Do’s and Don’ts 2023 : सुरक्षित और रंगीन होली के लिए क्या करें और क्या न करें जानें

जब कृष्ण छोटे थे, तो उन्होंने अपनी माँ को राधा के गोरा होने के बारे में बताया, जबकि कृष्ण स्वयं काले रंग के थे. उनकी माँ (यशोदा) ने उन्हें चंचल तरीके से राधा को रंगों से रंगने का सुझाव दिया. बरसों से कृष्ण अपने गांव नंदगांव से बरसाना (राधा का गांव) में राधा और अन्य गोपियों को रंग लगाने जाते थे. वे उसे भी खेल-खेल में लाठियों से पीटते थे और इसलिए परंपरा विकसित हुई.

बरसाना में होली मनाएं || Celebrate Holi in Barsana

बरसाना होली का उत्सव होली की वास्तविक तिथि से लगभग एक सप्ताह पहले शुरू होता है. बरसाना मथुरा के पास एक गांव है और यह राधा का गांव था. यह अपनी लट्ठमार होली के लिए प्रसिद्ध है जिसमें महिलाएं पुरुषों को (चंचल रूप से) डंडों से पीटती हैं. बरसाना वह स्थान है जहां राधा रहती थीं और कृष्ण राधा को रंग लगाने के लिए इस स्थान पर जाते थे.

नंदगांव में होली || Holi in Nandgaon

बरसाना में समारोह अगले दिन नंदगांव (कृष्ण के गांव) में इसी तरह के समारोह के बाद मनाया जाता है. नंदगांव को धार्मिक ग्रंथों में एक संदर्भ मिला है जहां कृष्ण ने अपने बचपन के अधिकांश दिन बिताए थे. किवदंतियों के अनुसार, कृष्ण के राधा को रंग लगाने के लिए बरसाना जाने के बाद और उनकी सखियां अगले दिन कृष्ण को रंग लगाने के लिए नंदगांव आईं और इसलिए होली का उत्सव बरसाना से नंदगाँव में स्थानांतरित हो जाता है.

Why we celebrate Holi : होली मनाने के पीछे है एक दिल्चस्प कहानी

 वृंदावन की होली || Holi of Vrindavan

वृंदावन में बांके-बिहारी मंदिर उत्सव का आनंद लेने के लिए एक ऐसा स्थान है क्योंकि यह यहां एक सप्ताह तक चलने वाले होली उत्सव का आयोजन करता है. इन दिनों में, बिहारीजी (कृष्ण का दूसरा नाम) की मूर्ति को सफेद रंग के कपड़े पहनाए जाते हैं और होली खेलने के लिए अपने भक्तों के करीब लाया जाता है.

वृंदावन की होली रंगीन पानी और गुलाल से खेली जाती है, जो फूलों और केसर जैसे जैविक पदार्थों का उपयोग करके बनाया गया रंग है. गोस्वामी (मंदिर में पुजारी) बाल्टी, पानी की बंदूक आदि का उपयोग करके सभी पर रंग छिड़कते हैं. भजन के साथ पूरा वातावरण बहुत अच्छा हो जाता  जाता है और लोग रंगों का आनंद लेते हुए धुनों पर नाचते हैं.

वृंदावन होली मनाने के लिए ब्रज में गुलाल-कुंड भी एक और दिलचस्प जगह है. यह गोवर्धन पहाड़ी के पास एक छोटी सी झील है. स्थानीय लोग कृष्ण-लीला नाटक में अभिनय करते हैं और तीर्थयात्रियों के लिए होली के दृश्यों को फिर से बनाते हैं.

 Celebrate Holi in India 2023 : भारत में होली मनाने के लिए ये हैं बेस्ट जगहें

दाऊजी मंदिर में हुरंगा || Huranga at Dauji Temple

दाऊजी मंदिर (मथुरा से 28 किमी दूर स्थित) हुरंगा की मेजबानी करता है जहां पुरुषों को महिलाओं द्वारा पीटा जाता है. यह सदियों पुरानी परंपरा है जो मंदिर की स्थापना के समय शुरू हुई थी. मंदिर बनाने वाले परिवार की महिलाएं मंदिर के प्रांगण में पुरुषों को पीटती हैं और उनके कपड़े फाड़ देती हैं. रस्म के बाद सभी होली खेलने में शामिल होते हैं.

Komal Mishra

मैं हूं कोमल... Travel Junoon पर हम अक्षरों से घुमक्कड़ी का रंग जमाते हैं... यानी घुमक्कड़ी अनलिमिटेड टाइप की... हम कुछ किस्से कहते हैं, थोड़ी कहानियां बताते हैं... Travel Junoon पर हमें पढ़िए भी और Facebook पेज-Youtube चैनल से जुड़िए भी... दोस्तों, फॉलो और सब्सक्राइब जरूर करें...

error: Content is protected !!