Sunday, October 1, 2023
Travel BlogTravel History

Rohtasgarh Fort Tour Guide : रोहतासगढ़ किले के बारे में जानें सबकुछ

Rohtasgarh Fort Guide  : रोहतासगढ़ किला भारत के प्राचीन किलों में से एक है. इसका निर्माण सोन नदी के तट पर रोहतास शहर में किया गया था. इस वक्त किला जीर्ण शीर्ण हो गया है और अब नक्सली गतिविधियों के कारण आसानी से यहां पहुंचा नहीं जा सकता है. किला जिस पहाड़ी पर स्थित है उसकी ऊंचाई 1500 मीटर है. किले के गेट तक पहुंचने के लिए पर्यटकों को सीढ़ियां चढ़नी पड़ती हैं जो काफी थका देने वाला रास्ता है.

रोहतास || Rohtas

रोहतास जिला तब बनाया गया था जब शाहबाद जिले को 1972 में भोजीपुरा और रोहतास में विभाजित किया गया था. जिला 3850 किमी के क्षेत्र को कवर करता है और पटना डिवीजन के अंतर्गत आता है. पर्यटक यहां सासाराम और डेहरी से सोन शहरों तक पहुंच सकते हैं जो सड़क और रेलवे से जुड़े हुए हैं.

किला नक्सली क्षेत्र में स्थित है हालांकि अब यहां नक्सल प्रभाव कम हो गया है. दिन के समय और बड़े ग्रुप को किले में जाने की अनुमति है. पर्यटकों को किले के अंदरूनी हिस्सों में जाने की अनुमति नहीं है.

टिकट || Ticket

किले की यात्रा के लिए कोई प्रवेश शुल्क नहीं है और लोग किसी भी समय किले का दौरा कर सकते हैं.

Teli Ka Mandir, Gwalior Fort : अंग्रेज़ों ने करवाया था इस मंदिर का जीर्णोद्धार, सिंधिया स्टेट का भी था सहयोग

जाने का सबसे अच्छा समय ||  Best time to go

रोहतास ऐसे क्षेत्र में स्थित है जहां गर्मी में मौसम बहुत गर्म होता है और सर्दी बहुत ठंडी होती है. किले की यात्रा का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मार्च तक है क्योंकि इन महीनों के दौरान मौसम बहुत ही अच्छा होता है. वैसे तो जनवरी बहुत सर्द होती है लेकिन फिर भी लोग किले में घूमने का मजा उठा सकते हैं. अगर पर्यटक झरने का आनंद लेना चाहते हैं तो वे मानसून में आ सकते हैं हालांकि इस समय क्लाइमेट बहुत गर्म होती है.

कहां ठहरें || where to stay

रोहतास जिले में कोई होटल नहीं है. सासाराम और डेहरी आन सोन से लोग रोहतासगढ़ किला देखने आ सकते हैं. लोग सासाराम या डेहरी आन सोन के होटलों में ठहर सकते हैं.

रोहतासगढ़ किले का प्राचीन इतिहास || Ancient History of Rohtasgarh Fort

कुछ इतिहासकारों का कहना है कि किले का निर्माण राजा हरिश्चंद्र ने करवाया था जो सौर वंश से ताल्लुक रखते थे. उन्होंने किले का नाम अपने बेटे के नाम पर रोहिताश्व रखा था.

खैरावाला राजवंश के तहत रोहतासगढ़ किला || Rohtasgarh Fort under Khairawala Dynasty

1223 के दौरान रोहतासगढ़ किला  प्रताप के शासन में था. किले में एक शिलालेख मिला है जो बताता है कि प्रताप ने यवन सेना को हराकर किले पर कब्जा कर लिया था. शिलालेख के अनुसार इतिहासकारों ने निष्कर्ष निकाला कि प्रताप खैरावाला वंश के थे.

Junagadh Fort दिखने में बेहद आकर्षक और बड़ा, पर्यटकों को करता है अपनी ओर आकर्षित

खैरावाला राजवंश के उत्तराधिकारी हिंदू राजाओं ने किले के लिए एक सड़क का निर्माण किया और चार घाटों पर चार द्वार बनाए. एक द्वार राजा घाट पर और दूसरा कठौठिया घाट पर देखा जा सकता है. अन्य शिलालेखों में कहा गया है कि किला शेर शाह सूरी का था.

शेर शाह सूरी के तहत रोहतासगढ़ का किला || Rohtasgarh Fort under Sher Shah Suri

1539 में शेर शाह सूरी ने किले पर कब्जा कर लिया और उसने ऐसा इसलिए किया क्योंकि हुमायूं के साथ युद्ध के दौरान उसने चुनार का किला खो दिया था. शेर शाह ने रोहतास के शासक राजा हरि कृष्ण राय से कहा कि वह अपने खजाने और महिलाओं को किले की सुरक्षा में रखना चाहते हैं. वह अपनी महिलाओं और बच्चों को पालकी में ले आया लेकिन बाद में जो पालकी पहुंची, उसके अंदर अफगान सैनिक थे जिन्होंने किले पर कब्जा कर लिया था.

रोहतास का राजा राज्य से भाग गया. शेर शाह सूरी के शासनकाल के दौरान, 1543 में हैबत खान द्वारा जामी मस्जिद का निर्माण किया गया था. मस्जिद में तीन गुंबद हैं और पूरी मस्जिद सफेद बलुआ पत्थर से बनी है.

राजा मान सिंह के अधीन रोहतासगढ़ का किला || Rohtasgarh Fort under Raja Man Singh

राजा मान सिंह सम्राट अकबर के एक सेनापति थे जिन्होंने 1558 से रोहतास पर शासन किया था.  रोहतासगढ़ किला दुर्गम था और बंगाल और बिहार की आसानी से देखभाल करने का स्थान भी था. अतः उन स्थानों का राज्यपाल होने के कारण मान सिंह ने किले को अपना मुख्यालय बना लिया. उसने किले में सुधार किया और अपने लिए एक महल बनवाया.

मुगलों के अधीन रोहतासगढ़ किला ||Rohtasgarh Fort under the Mughals

रोहतास के शासक रहते हुए राजा मान सिंह की मृत्यु हो गई और इस वजह से किला सम्राट अकबर के एक वजीर के शासन में आ गया. राजकुमार खुर्रम, जिन्होंने बाद में अपना नाम बदलकर शाहजहां रख लिया, ने दो बार किले में शरण ली.

एक बार जब उसने अपने पिता जहांगीर के खिलाफ विद्रोह किया और दूसरी बार जब वह अवध पर कब्जा करने के लिए कंपत की लड़ाई हार गयां शाहजहां के पुत्र मुराद और औरंगजेब के भाई का जन्म यहीं हुआ था. औरंगजेब के शासनकाल के दौरान किले का इस्तेमाल जेल के रूप में किया जाता था.

अंग्रेजों के अधीन रोहतासगढ़ का किला || Rohtasgarh Fort under British

किला अंग्रेजों के शासन में आ गया जब उन्होंने बंगाल के नवाब मीर कासिम को हराया. नवाब किले में शरण लेने आया लेकिन छिप नहीं सका. किले के दीवान शाहमल ने ब्रिटिश कप्तान गोडार्ड को चाबी दी थी जिन्होंने किले में कई संरचनाओं को नष्ट कर दिया था.

उसने दो महीने बाद किले को छोड़ दिया और किले की रखवाली के लिए दो पहरेदारों को लगा दिया. पहरेदारों ने भी एक साल बाद किले को छोड़ दिया. 1857 के युद्ध के दौरान अमर सिंह ने किले में शरण ली थी. उसके और अंग्रेजों के बीच कई संघर्ष हुए.

रोहतासगढ़ किला – वास्तुकला || Rohtasgarh Fort – Architecture

किले की यात्रा के दौरान पर्यटक कई संरचनाएं देख सकते हैं. इन संरचनाओं में द्वार, मंदिर, मस्जिद, महल और कई अन्य शामिल हैं. इनमें से कुछ संरचनाएं इस प्रकार हैं –

हाथिया पोली

हथिया पोल या हाथी द्वार किले के सबसे बड़े द्वारों में से एक है जिसे 1597 में बनाया गया था. गेट का नाम ऐसा इसलिए रखा गया था क्योंकि प्रवेश द्वार पर हाथियों की कई आकृतियां पाई जा सकती हैं. यह द्वार किले का मुख्य प्रवेश द्वार है.

आइना महली

किले के मध्य में स्थित आइना महल का निर्माण राजा मान सिंह ने करवाया था. महल में चार मंजिल हैं जिसके शीर्ष पर एक गुंबद है. दूसरी मंजिल पर असेंबली हॉल बनाया गया था. तीसरी मंजिल में महिला क्वार्टर हैं और पर्यटक एक छोटे से गुंबद के माध्यम से वहां प्रवेश कर सकते हैं. पहली मंजिल में मान सिंह का आवासीय क्वार्टर है और बारादरी नामक एक गेट है जो इसे महिला कमरों से जोड़ता है.

जामा मस्जिद

जामा मस्जिद और हब्श खान मकबरा खूबसूरत संरचनाएं हैं जिन्हें प्लास्टर शैली के माध्यम से बनाया गया था. इमारतों की वास्तुकला राजपूताना शैली की है क्योंकि खंभों पर गुंबद हैं.

गणेश मंदिर

गणेश मंदिर मान सिंह महल के पश्चिम में स्थित है. मंदिर की वास्तुकला भी राजपूताना शैली पर आधारित है और डिजाइन जोधपुर और चित्तौड़गढ़ में निर्मित मंदिरों पर आधारित है.

हैंगिंग हाउस

गणेश मंदिर के पश्चिम में एक संरचना है जिसे स्थानीय लोग हैंगिंग हाउस कहते हैं. लोगों के कहना है कि एक फकीर था जिसे तीन बार हाथ-पैर बांधकर नीचे फेंका गया था लेकिन उसे कुछ नहीं हुआ इसलिए उसे यहीं जिंदा दफना दिया गया.

रोहतासन और देवी मंदिर

रोहतासन और देवी मंदिर उत्तर पूर्व दिशा में स्थित हैं. रोहतासन एक शिव मंदिर था जिसकी छत और मुख्य मंडप नष्ट हो गए हैं. शिवलिंग को रखने के लिए मंडप का इस्तेमाल किया जाता था.

रोहतासन देवी मंदिर

मंदिर का निर्माण राजा हरिश्चंद्र द्वारा किया गया था जिसमें 84 सीढ़ियां हैं जो मंदिर की ओर ले जाती हैं. 84 सीढ़ियों की उपस्थिति के कारण मंदिर को चौरासन सिद्धि के नाम से भी जाना जाता है. देवी मंदिर भी एक खंडहर मंदिर है और मंदिर के अंदर के देवता गायब हैं.

सिंह द्वारी

सिंह द्वार किले का एक और प्रवेश द्वार है और पर्यटक यहां आने के लिए जीप का इस्तेमाल कर सकते हैं. पास में एक घाट है, जिसे कठौठिया घाट कहा जाता है जो एक कंटेनर जैसा दिखता है. सड़क बहुत संकरी है और दोनों तरफ खाई है.

रोहतासगढ़ किले तक कैसे पहुंचे? ||How to reach Rohtasgarh Fort?

रोहतासगढ़ किला सासाराम से लगभग 82 किमी दूर है जो सड़क और रेल परिवहन के माध्यम से विभिन्न शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है. सासाराम में कोई हवाई अड्डा नहीं है लेकिन गया पास का हवाई अड्डा है जहां से पर्यटक बस या ट्रेन पकड़ सकते हैं या सासाराम के लिए टैक्सी किराए पर ले सकते हैं.

हवाईजहाज से रोहतासगढ़ किले तक कैसे पहुंचे || How to reach Rohtasgarh Fort By Air

सासाराम में हवाई अड्डा नहीं है लेकिन गया हवाई अड्डा पास में है जो लगभग 177 किमी दूर है. गया हवाईअड्डा एक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा है जहां से डोमेस्टिक के साथ-साथ  इंटरनेशनल उड़ानें भी पकड़ी जा सकती हैं. गया से पर्यटक सासाराम पहुंचने के लिए बस या ट्रेन पकड़ सकते हैं या टैक्सी किराए पर ले सकते हैं.

ट्रेन से रोहतासगढ़ किले तक कैसे पहुंचे || How to reach Rohtasgarh Fort By Train

सासाराम कई शहरों से रेल मार्ग से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है. यहां कोई राजधानी और शताब्दी का रुकती नहीं है लेकिन गरीब रथ, सुपरफास्ट और फास्ट ट्रेनों का यहां रुकती है.इनके अलावा, कई यात्री ट्रेनें भी शहर से गुजरती हैं.

सड़क द्वारा से रोहतासगढ़ किले तक कैसे पहुंचे || How to reach Rohtasgarh Fort By Road

सासाराम कई शहरों से सड़क मार्ग से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है. ग्रांड ट्रंक रोड का निर्माण शेर शाह सूरी के शासनकाल के दौरान किया गया था और बाद में कई सड़क नेटवर्क ने शहर को विभिन्न शहरों से जोड़ा.

राष्ट्रीय राजमार्ग 30 सासाराम को पटना से जोड़ता है जबकि राष्ट्रीय राजमार्ग 2 इसे कोलकाता और दिल्ली से जोड़ता है.

स्टेट हाईवे 2 सासाराम को आरा से जोड़ता है. बीएसआरटीसी कई जगहों पर बसों का संचालन करती है. इसके अलावा निजी बस संचालक भी सासाराम से बसों का संचालन करते हैं.

स्थानीय परिवहन || local transport

सासाराम में घूमने का सबसे अच्छा तरीका ऑटो रिक्शा हैं. पर्यटक या तो ऑटो आरक्षित कर सकते हैं या साझा करके जा सकते हैं. ऑटो के अलावा, हाथ से खींचे जाने वाले रिक्शा और तांगे भी परिवहन का एक अच्छा साधन हैं.

Komal Mishra

मैं हूं कोमल... Travel Junoon पर हम अक्षरों से घुमक्कड़ी का रंग जमाते हैं... यानी घुमक्कड़ी अनलिमिटेड टाइप की... हम कुछ किस्से कहते हैं, थोड़ी कहानियां बताते हैं... Travel Junoon पर हमें पढ़िए भी और Facebook पेज-Youtube चैनल से जुड़िए भी... दोस्तों, फॉलो और सब्सक्राइब जरूर करें...

error: Content is protected !!