Travel Blog

Assam Tea Garden : असम के ये चाय बगान है पूरी दुनिया में मशहूर, पीएम मोदी ने भी की तारीफ

Assam Tea Garden : असम के हरे-भरे चाय बागान दुनियाभर में मशहूर हैं. सालाना, असम लगभग 700 मिलियन किलोग्राम चाय का योगदान देता है, जो भारत के कुल चाय उत्पादन का लगभग आधा हिस्सा है. असम में चाय लैंडस्केप में एक महत्वपूर्ण परिवर्तन देखा गया है, जिसमें कई छोटे पैमाने के किसान धान की खेती से चाय बागानों की ओर स्थानांतरित हो रहे हैं. इस बदलाव ने चाय उद्योग में नई जान फूंक दी है, क्योंकि बेरोजगार युवाओं ने एक एक बिजनेस के रूप में चाय की खेती में शामिल होने के अवसर का लाभ उठाया है. कई व्यक्तियों ने अपने घर की पीछे ही चाय की खेती शुरू कर दी है, जबकि अन्य ने उद्यमशीलता की यात्रा शुरू कर दी है, और अपनी अनूठी चाय की कहानियां बुनने के लिए चाय स्टार्टअप की स्थापना की है.

हाल ही में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी असम की अपनी दो दिवसीय यात्रा पर अपने व्यस्त कार्यक्रम से छुट्टी लेकर असम के हाथीकुली टी एस्टेट गए. अपने अनुभव को अपने सोशल मीडिया हैंडल पर साझा करते हुए, उन्होंने पर्यटकों को राज्य की अपनी यात्राओं के दौरान असम के शानदार चाय बागानों का पता लगाने के लिए प्रोत्साहित किया.

उन्होंने लिखा, “असम अपने शानदार चाय बागानों के लिए जाना जाता है और असम चाय ने पूरी दुनिया में अपनी जगह बना ली है,

मैं उल्लेखनीय चाय बागान समुदाय की सराहना करना चाहूंगा, जो कड़ी मेहनत कर रहा है और दुनिया भर में असम की प्रतिष्ठा बढ़ा रहा है.

मैं पर्यटकों से राज्य के दौरे के दौरान इन चाय बागानों का दौरा करने का भी आग्रह करता हूं.

जबकि हाथीकुली टी एस्टेट अपनी प्राकृतिक सुंदरता और हाई क्वालिटी वाले चाय उत्पादन के लिए जाना जाता है, असम कई अन्य चाय बागानों का घर है जो टूरिस्ट को एक संपूर्ण अनुभव प्रदान करते हैं. यहां देखने लायक राज्य के कुछ लोकप्रिय चाय बागान हैं:

नोनोई टी एस्टेट || Nonoi Tea Estate Assam

“नोनोई टी एस्टेट” असम के नांगाओ जिले में कार्बी रेंज की तलहटी स्थित है, जिसे स्थानीय रूप से रंगमती के रूप में जाना जाता है. 959.17 हेक्टेयर क्षेत्र में फैला, नोनोई टी एस्टेट समुद्र तल से 225 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है जहाँ से प्रकृति के मनोरम दृश्यों का मजा लिया जा सकता है.

इस टी एस्टेट का नाम एक नाम झरने से लिया गया है जिसे ब्रिटिश भाषा में नोइ-नोई कहा जाता था, इसलिए इसका नाम “ननोई” पड़ गया यह। वर्तमान में यह टी गार्डन चाय के उत्पादन के साथ साथ पर्यटन के झेत्र में भी, असम के प्रमुख चाय बागान (Assam Tea Garden In Hindi) में से एक है जहाँ हर साल हजारों की संख्या में पर्यटकों की उपस्थिति दर्ज की जाती है.

Best Time to Visit India’s Beautiful Ooty for the Most Enjoyable Trip

मोनाबारी टी एस्टेट || Monabarie Tea Estate Assam

असम के बिश्वनाथ चाराली जिले में स्थित, “मोनाबारी टी एस्टेट” असम के प्रसिद्ध चाय बागान (Assam Tea Garden) में से एक है। यह टी एस्टेट असम और पूरे एशिया में सबसे बड़ी चाय की संपत्ति है, जिसे दुनिया के सबसे बड़े चाय बागान में से एक रूप में भी स्थान दिया गया है. जिससे आप इस चाय के बागान की प्रसिद्धी का अंदाजा लगा सकते है।. 1158 हेक्टेयर के क्षेत्र में फैले मोनाबारी टी एस्टेट का स्वामित्व मैकलियोड रसेल इंडिया लिमिटेड के पास है जो विलियमसन मैगर ग्रुप का एक हिस्सा है.

यदि आप अपने फ्रेंड्स या फैमली के साथ घूमने के लिए असम के बेस्ट टी गार्डन्स (Best Tea Garden In Assam) सर्च कर रहे है तो मोनाबारी टी एस्टेट आपके लिए परफेक्ट जगह है. जब भी आप यहाँ आएंगे तो असम के साथ साथ देश के बिभिन्न हिस्सो से आये हुए पर्यटकों को यहाँ देखेगें.

मोनाबारी टी एस्टेट की लोकेशन : जिला बिश्वनाथ चाराली असम

हल्मारी टी एस्टेट || Halmari Tea Estate Assam

374 हेक्टेयर क्षेत्र में फैला, “हल्मारी टी एस्टेट” असम के मोरन जिले में स्थित है। हल्मारी टी एस्टेट पिछले 100 वर्षों से की जा रही चाय की बेहतरीन गुणवत्ता के लिए पूरे भारत में जाना जाता है। हाल्मरी टी एस्टेट प्रबंधन का दावा है उनकी चाय जैसा टेस्ट भारत की अन्य किसी चाय में नही मिल सकता है, जिस वजह से उनकी चाय असम सबसे अधिक कीमत पाने में भी कामयाब होती है. हल्मारी टी एस्टेट चाय उत्पादन के साथ साथ राज्य के पर्यटन में भी काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है जो हर साल हजारों की संख्या में पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करती है.

हाल्मरी टी एस्टेट की लोकेशन : डिब्रूगढ़ (जिला मोरन) असम

कॉर्मोर टी एस्टेट असम || Corramore Tea Estate Assam

“कॉर्मोर टी एस्टेट” असम के प्रमुख चाय के बागान में से एक है, जिसकी स्थापना वर्ष 1860 में स्कॉटलैंड के रॉबर्ट लोगान द्वारा की गई थी. असम के द्रंग जिले के हाटीगढ़ में बसे इस हेरिटेज टी एस्टेट का मालिकाना हक अब विलियमसन चाय के पास है.

480 हेक्टेयर भूमि के क्षेत्र में फैला हुए कॉर्मोर टी एस्टेट में कैमेलिया प्रजाति की चाय का उत्पादन किया जाता है। यदि आप अपने फ्रेंड्स के साथ घूमने के लिए असम के प्रसिद्ध चाय के बागान को सर्च कर रहे है तो आप अपनी ट्रिप के लिए कॉर्मोर टी एस्टेट को पिक कर सकते है। जब भी आप यहाँ आयेंगे तो यकीन माने इन चाय के बागानों की सुन्दरता देखकर मंत्रमुग्ध हो जायेगें।

तेलोजी टी एस्टेट असम || Teloijan Tea Estate Assam

“तेलोजी टी एस्टेट” असम एक और प्रसिद्ध टी गार्डन है जो 1922 से अस्तित्व में आया है. यह चाय का बागान लोगों को स्वस्थ और उच्च गुणवत्ता वाली चाय का अनुभव दिलाने के लिए जाना जाता है.यदि आप एक चाय प्रेमी है तो निश्चित रूप से आपको असम के प्रसिद्ध चाय के बागानमें से एक तेलोजी टी एस्टेट घूमने जरूर आना चाहिये।

तेलोजी टी एस्टेट की लोकेशन : मोरनाहाट, डिब्रूगढ़-असम

बेसाकोप्पी टी एस्टेट असम ||  Beesakopie Tea Estate Assam

तिनसुकिया जिले में बर्मा की सीमा के करीब स्थित, बेसाकोप्पी टी एस्टेट भारत का तीसरा सबसे बड़ा चाय का बगान है. जबकि स्थानीय रूप से भी यह चाय का बगान सबसे बड़े चाय बागान में से एक है। जब भी आप यहाँ आएंगे तो इस चाय संपदा में निर्मित माल्टी असम की चाय का यादगार का अनुभव ले सकते है.

बेसाकोप्पी टी एस्टेट की लोकेशन : तिनसुकिया जिला असम

जोरहाट टी बंगला असम || Jorhat Tea Bungalows, Assam

घाटी के मध्य भाग में बसे, जोरहाट को अक्सर ‘विश्व की चाय राजधानी’ के रूप में भी जाना जाता है जिससे इसकी प्रसिद्धी का अंदाजा लगाया जा सकता है. जोरहाट टी बंगला चाय के बागानों के साथ साथ पर्यटकों के ठहरने के लिए आवास के ऑप्शन भी प्रदान करता है, यहां के बंगले औपनिवेशिक काल के हैं जो आपको प्राकृतिक सुन्दरता से भरपूर इन चाय के बागानों के बीचो बीच में एक अलग ही अनुभव प्रदान करते हैं. इसी वजह में यहां हर साल लाखों टूरिस्ट वेकेशन एन्जॉय करने और हनीमून मनाने के लिए यहां आना पसंद करते है.

गटोंगा टी एस्टेट असम || Gatoonga Tea Estate, Assam

देश में सबसे बड़ा चाय उत्पादक क्षेत्र होने के नाते असम अपने चाय के टेस्ट और चमकीले रंग के लिए जानी जाती है. यदि आप असम में हैं, तो आपको जोरहाट के पास गटोंगा टी एस्टेट पर बरगद ग्रोव में अवश्य रहना चाहिये. 100 से अधिक वर्षों के इतिहास के साथ, यह औपनिवेशिक विरासत बंगला चाय के बागानों को देखने के लिए सबसे अच्छी जगह है. यहां से आप मैनीक्योर चाय बागानों के सुंदर दृश्यों को देख सकेगें जो निश्चित ही आपको मंत्रमुग्ध कर देगें.

गटोंगा टी एस्टेट लोकेशन : धोलाजान ग्रांट, असम

मंगलम टी एस्टेट असम ||  Mangalam Tea Estate Assam

“मंगलम टी एस्टेट” एक सरकारी आरक्षित वन के बगल में स्थित है। यह चाय का बागान 117.99 हेक्टेयर क्षेत्र में फैला हुआ है, जिसे 1955 में जयश्री चाय उद्योगों द्वारा शुरू किया गया था. तौकोक नदी के पार स्थित मंगलम टी एस्टेट ने पूरे वर्ष अच्छी क्वालिटी वाली चाय परोसी है और अब सीटीसी और रूढ़िवादी चाय के उत्पादन में प्रवेश किया है. यह टी एस्टेट चाय उत्पादन के साथ साथ पर्यटकों को भी काफी आकर्षित करता है, जहां हर साल हजारों पर्यटकों की उपस्थिति दर्ज की जाती है.

मंगलम टी एस्टेट के लोकेशन : टोवकोक ग्रांट नं.2, असम

वाइल्ड मशीर टी एस्टेट असम || Wild Mahseer Tea Estate Assam

तेजपुर के बाहरी इलाके में स्थित, वाइल्ड मशीर टी एस्टेट भोरोली नदी से 40 मिनट की दूरी पर स्थित है. ब्रिटिश असम चाय कंपनी द्वारा 1864 में निर्मित, यह रिसॉर्ट वास्तुकला में एक सुंदर मिश्रण दिखाता है जिसमें एक औपनिवेशिक और असमिया स्पर्श है. 22 एकड़ के क्षेत्र को कवर करते हुए, यह चाय संपदा रिसॉर्ट राज-युग के चाय बागानों की जीवन शैली की अद्भुद झलक प्रदान करता है जो पर्यटकों को बेहद आकर्षित करती है. यदि आपने इस बार वेकेशन के लिए असम के प्रसिद्ध चाय के बागान को सिलेक्ट किया है तो आपको असम में इस हेरिटेज चाय एस्टेट रिसॉर्ट में रहते हुए प्राकृतिक सुन्दरता के साथ शाही एहसास फील जरूर करना चाहिए.

वाइल्ड मशीर टी एस्टेट की लोकेशन : बालीपारा डिवीजन अडाबेरी टी एस्टेट, सोनितपुर जिला, बंद राष्ट्रीय राजमार्ग 52, बालीपारा, असम

Komal Mishra

मैं हूं कोमल... Travel Junoon पर हम अक्षरों से घुमक्कड़ी का रंग जमाते हैं... यानी घुमक्कड़ी अनलिमिटेड टाइप की... हम कुछ किस्से कहते हैं, थोड़ी कहानियां बताते हैं... Travel Junoon पर हमें पढ़िए भी और Facebook पेज-Youtube चैनल से जुड़िए भी... दोस्तों, फॉलो और सब्सक्राइब जरूर करें...

error: Content is protected !!