Places to visit in Mahoba : महोबा में घूमने के लिए 13 सबसे अच्छी जगहें

Places to visit in Mahoba : उत्तर प्रदेश का एक छोटा सा जिला महोबा अपने गौरवशाली इतिहास के लिए फेमस है. महोबा चंदेला शासन के दौरान बनाई गई गुफाओं और मूर्तियों के लिए जाना जाता है. यह चंदेल राजपूतों की राजधानी थी, जिन्होंने 10वीं से 16वीं शताब्दी तक बुंदेलखंड क्षेत्र पर शासन किया था. महोबा शब्द ‘महोत्सव नगर’ या महान त्योहारों के शहर से लिया गया है.

New Delhi Railway Station : नई दिल्ली रेलवे स्टेशन का मॉडर्न रूप देखकर चौंक जाएंगे आप, Indian Railway ने की फोटो शेयर

महोबा और उसके आसपास के पर्यटन स्थल की बात करें तो कई दिलचस्प स्मारक, इमारत और धार्मिक स्थल दिखाई देते हैं . शिव मंदिर गुखर पर्वत के आसपास के व्यू देखने लायक है और इसमें तांडव स्थिति में भगवान की मूर्ति है. मदन सागर झील में एक द्वीप पर स्थित खाखरमठ मंदिर भी भक्तों के अपने हिस्से को आकर्षित करता है. राहिला सागर सूर्य मंदिर 9वीं शताब्दी का मंदिर है और राहिला सागर के पश्चिमी भाग में स्थित है. इसके अलावा चंडिका देवी मंदिर और गोखर पर्वत की यात्रा करें, जिसमें हिंदू, जैन और बौद्ध धर्मों को समर्पित मंदिर हैं.

महोबा में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगहें|| Best places to visit in Mahoba

रामकुंड

शिव तांडव मंदिर महोबा

जैन तीर्थंकर

खाकरमठ शिव मंदिर

उर्मिल बांध महोबा

बड़ी चंद्रिका मंदिर

सूर्य मंदिर

गोखर पार्वती

चंडिका देवी

श्री नगर

बीटल खेती

आल्हा चौक और उदल चौक

चरखारी एस्टेट

बेलाताल

1-शिव तांडव मंदिर महोबा|| Shiv Tandav Temple Mahoba

जैसा कि नाम से ही साफ है, यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है. महोबा जिले में गोरखनाथ या गुखार पर्वत के पास स्थित इस मंदिर में तांडव नामक नृत्य मुद्रा में भगवान शिव की एक विशाल मूर्ति है. इस मूर्ति को काले ग्रेनाइट के एक ही पत्थर से बनाया गया है. मंदिर के बगल में ही एक फॉल है, जिससे दूधिया सफेद पानी गिरता है. यह पानी गोरख पर्वत से नीचे आता है. मंदिर के बगल में ही शिव तांडव का एक कुआं भी है

2-जैन तीर्थंकर||Jain Tirthankara

यह एक जैन संप्रदाय का पूजा स्थल है. महोबा में बारी चंडिका मंदिर के पास, एक पहाड़ के ऊपर है. इस जगह जैन धर्म के लोग हर साल लाखों की संख्या में घूमने के लिए पहुंचते हैं. यहां मौजूद प्राचीन गुफाएं टूरिस्ट के लिए सबसे आकर्षण वाली चीज है. महोबा में एक पहाड़ी पर मौजूद जैन तीर्थंकर स्थल पर जैन धर्म के 24 तीर्थंकरों की प्रतिमाएं भी उत्कीर्ण हैं. हालांकि, मौजूदा समय में कुछ गुफाएं लोगों के लिए बंद है.

History of Bageshwar Dham Sarkar : जानें बागेश्वर धाम सरकार का इतिहास

3-खाकरमठ शिव मंदिर|| Khakramath Shiva Temple

महोबा में 9वीं शताब्दी का प्राचीन रहेलिया सूर्य मंदिर, मदन सागर तालाब के मध्य में भगवान शिव का प्राचीन खाखरामठ मंदिर एवं भगवान शिव की ही तांडव मुद्रा में भव्य प्रतिमा स्थापित है. आप यहां विभिन्न कालखंडो की रचनाएं देख सकते हैं.

4-उर्मिल बांध महोबा|| Urmil Dam Mahoba

उर्मिल बांध जहां आप घूम सकते हैं इसके अलावा यहां एक गेस्ट हाउस भी है जहां आप ठहर सकते हैं.

5-महोबा में बड़ी चंद्रिका मंदिर || Bari Chandrika Temple in Mahoba

यह मंदिर देवी चंडिका को समर्पित है. प्राचीन काल से, एक नक्काशीदार पत्थर की मूर्ति पवित्र स्थान को चिह्नित करती है. महिषासुर मर्दिनी द्वारा चित्रित देवी दुर्गा है. कहा जाता है कि चंदेल के पहले सम्राट चंद्र वर्मन ने इसे स्थापित किया था.

6-ग्राम रहीलिया, महोबा में सूर्य मंदिर || Sun Temple at Village Rahiliya, Mahoba

महोबा के गांव रहीलिया, महोबा में सूर्य मंदिर और सूरज-कुंड पूल भी है. उड़ीसा में कोणार्क के सूर्य मंदिर की तरह, इस मंदिर में भी शानदार मूर्तियां रखी गई थीं.

7-चंडिका देवी ||Chandika Devi

चंडिका देवी को कभी-कभी चंडी देवी या चंडिका देवी के रूप में जाना जाता है. जापान में इसे नारी शक्ति की देवी के रूप में पूजा जाता है. लोगों का मानना ​​है कि देवी राक्षसों का सफाया करती हैं और विश्वासियों की रक्षा करती हैं. इस क्षेत्र के दो मंदिरों में चंडिका देवी की पूजा की जाती है. इन दो मंदिरों को छोटी चंडिका देवी मंदिर और बड़ी चंडिका देवी मंदिर के नाम से जाना जाता है.

8-श्री नगर || Shree nagar

यह पीतल के कामों और प्राचीन वस्तुओं के लिए फेमस है.

9-बीटल खेती || Beetle Farming

यह अनूठी और स्वयंभू खेती है जिसे बरेजा कहा जाता है.

10-आल्हा चौक और उदल चौक ||Alha Chowk and Udal Chowk

विशाल मूर्तियों वाले शहर के केंद्र.

11. चरखारी एस्टेट ||Charkhari Estate

बुंदेलखंड रियासत, किलों, स्थानों और कई झीलों से घिरे मंदिरों का प्रतीक है.

12. बेलाताल || Belataal

आसपास कई झीलें हैं और पानी के खेल के लिए सबसे परफेक्ट जगह हैं. यहां वह किला है जहां बाजीराव और मस्तानी की प्रेम कहानी की शुरुआत हुई थी. यह राजा छत्रसाल का किला है.

13. रामकुंड || Ramkund

रामकुंड वही जगह है जहां त्रेतायुग में प्रभु श्रीराम आए थे. कहा जाता है कि चित्रकूट जाते वक्त श्री राम यहां पधारे थे. यहां एक कुंड है जिसमें उन्होंने यज्ञ किया था. इस कुंड के पास ही बरगद का विशाल वृक्ष है. इस वृक्ष की आयु 900 वर्ष से ज्यादा बताई जाती है.

महोबा में घूमने का सबसे अच्छा समय || Best time to visit Mahoba

यात्रा के लिए सभी मौसम अच्छे हैं.

फ्लाइट से कैसे पहुंचें महोबा || How to reach Mahoba by Flight

महोबा का अपना कोई एयरपोर्ट नहीं है. यह खजुराहो हवाई अड्डे से केवल एक छोटी ड्राइव की दूरी पर है.

महोबा खजुराहो हवाई अड्डे, खजुराहो, मध्य प्रदेश से 54 किमी दूर है

महोबा कानपुर हवाई अड्डे, कानपुर, उत्तर प्रदेश से 134 किमी दूर है

ट्रेन से कैसे पहुंचें महोबा || How to reach Mahoba by Train

महोबा से भी नियमित ट्रेनों के माध्यम से देश के अन्य महत्वपूर्ण शहरों तक पहुंचा जा सकता है. झांसी जंक्शन, खजुराहो और बांदा जैसे स्टेशन पास में हैं.

रेलवे स्टेशन (ओं): महोबा जंक्शन (MBA)

बस से कैसे पहुंचें महोबा || How to reach Mahoba by Bus

महोबा बस से जुड़ा हुआ है.

बस से जुड़े प्रमुख स्थानों में छतरपुर-मध्य प्रदेश, नौगांव-मध्य प्रदेश, बांदा, हमीरपुर, कानपुर, हरपालपुर, मौरानीपुर, झांसी, ओरचा-मध्य प्रदेश, बरूसागर, खजुराहो-मध्य प्रदेश हैं.

Komal Mishra

मैं कोमल... तो चलिए अपनी लेखनी से आपको घुमाती हूं... पहाड़ों की वादियों में और समंदर के किनारे

error: Content is protected !!