Agra Metro Project : ताजमहल के साथ इन Monuments तक ले जाएगी मेट्रो, टैक्सी-ऑटो के खर्च से मिलेगी राहत

Agra Metro Project: तीन-तीन विश्वदाय स्मारक होने के बावजूद अधिकांश पर्यटक सिर्फ ताजमहल देखने के बाद लौट जाते हैं. यमुना एक्सप्रेसवे बनने के बाद से लौटने वाले पर्यटकों की संख्या में न सिर्फ बढ़ोत्तरी हुई बल्कि कई स्मारक उपेक्षा का शिकार भी हो गए. मेट्रो ट्रेन के संचालन से इन स्मारकों पर फिर से रौनक लौटेगी. आवागमन की सहूलियत होने से पर्यटक ताजमहल देखने के बाद दूसरे स्मारकों तक भी पहुंचेंगे. इससे शहर में पर्यटकों का ठहराव भी बढ़ेगा.

मेट्रो ट्रेन शुरू होने से अकबर टाम्ब अब सीधे ताजमहल से जुड़ सकेगा. एमजी रोड, मदिया कटरा, दिल्ली गेट, भगवान टाकीज, खंदारी पर जाम की वजह से जो पर्यटक सिकंदरा स्थित अकबर टाम्ब जाने से कतराते थे, वह अब बिना किसी रूकावट के सीधे स्मारक के पास पहुंच सकेंगे. इसके आसपास के दूसरे स्मारक (जैसे मरियम टाम्ब, कांच महल) भी उनकी पहुंच में होंगे. दूसरा कारीडोर शुरू होने के बाद उपेक्षा का दंश झेल रहे रामबाग पर भी चहल-पहल बढ़ेगी. एत्मादद्?दौला नजदीक होने के कारण यहां भी पर्यटकों का ग्राफ बढ़ेगा. हाथीघाट, यमुनापार में जाम होने के कारण अधिकांश गाइड पर्यटकों को इन स्मारकों तक नहीं ले जाते.

Honeymoon in agra : प्यार के प्रतीक आगरा में मनाएं अपना हनीमून, यहां से लें पूरी जानकारी

पहला कारीडोर: सिकंदरा से ताज पूर्वी गेट कारीडोर पर एएसआई संरक्षित नौ स्मारक पड़ेंगे. इनमें ताजमहल, आगरा किला, अकबर टाम्ब, पत्थर का घोड़ा, गुरू का ताल, सलावत खां का मकबरा, सादिक खां का मकबरा, दिल्ली गेट, जामा मस्जिद हैं. इनमें से छह स्मारकों के पास मेट्रो स्टेशन होंगे सिकंदरा, गुरू का ताल, ताज पूर्वी गेट मेट्रो स्टेशन एलिवेटिड होंगे. ताजमहल, आगरा किला और जामा मस्जिद स्टेशन अंडरग्राउंड होंगे.

वृंदावन का निधिवन, जहां कन्हैया आज भी करते हैं लीला, ऐसा होता है नजारा

दूसरा कारीडोर: आगरा कैंट से कालिंदी विहार कारीडोर पर एएसआई संरक्षित चार स्मारक पड़ेंगे. इनमें रामबाग, दिल्ली गेट, रोमन कैथोलिक सेमेट्री और लाल मस्जिद हैं. इनमें से एक स्मारक के रामबाग के पास एलिवेटिड मेट्रो स्टेशन होगा.

इससे शहर में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा. अकबर टाम्ब जैसा बेहद खूबसूरत स्मारक सीधे ताजमहल से जुड़ जाएगा. इससे यहां भी पर्यटक बढ़ेंगे. अभी जाम की वजह से बहुत से पर्यटक यहां आना पसंद नहीं करते. मेट्रो ट्रेन योजना को विस्तार रूप देकर फतेहपुर सीकरी को भी इससे जोड़ना चाहिए.

Contact Us, for Tour Packages or Travel Query @ Gotraveljunoon@gmail.com

शमशुद्दीन, अध्यक्ष, एप्रूव्ड टूरिस्ट गाइड एसोसिएशन

जब से यमुना एक्सप्रेसवे शुरू हुआ है तो पर्यटक सीधे ताजमहल पहुंचता है और शहर के बाहर से ही निकल जाता है. पहले आगरा-दिल्ली हाईवे की तरफ से पर्यटक आते थे तो अकबर टाम्ब, मरियम टाम्ब पर रुक जाते थे. एक्सप्रेसवे की वजह से पर्यटकों ने यहां आना छोड़ दिया. मेट्रो ट्रेन शुरू होने से ये फिर से गुलजार हो सकेंगे.

राकेश चौहान, अध्यक्ष, होटल एंड रेस्टोरेंट एसोसिएशन

ये है पर्यटकों की स्थिति

स्मारक 2016-17 2017-18 2018-19 2019-20

ताजमहल 49,16,26,170 56,56,77,570 82,30,14,395 96,01,31,895

अकबर टाम्ब 1,10,99,565 1,07,31,660 1,38,08,890 1,12,54,235

रामबाग 10,88,235 10,72,545 19,13,635 22,24,395

मेट्रो बचाएगी समय और पैसा

किस स्टेशन से कितने यात्री करेंगे सफर

स्टेशन का नाम, वर्ष 2031, 2041

– सिकंदरा, 4800, 6400

– गुरु का ताल, 7200, 9400

– आइएसबीटी, 7800, 10600

– शास्त्री नगर, 8100, 10500

– विश्वविद्यालय, 10500, 13300

– आरबीएस कालेज, 10500, 13300

– राजा की मंडी, 18500, 19400

– आगरा कालेज, 10000, 13000

– एसएन मेडिकल कालेज, 10100, 13000
जामा मस्जिद, 9700, 12400

– आगरा किला, 9900, 12500

– ताजमहल, 8400, 10900

– फतेहाबाद रोड, 8400, 10000

– बसई, 4300, 5950

– ताज पूर्वी गेट, 6500, 10000

– आगरा कैंट, 2900, 3600

– सदर बाजार, 8800, 10700

– प्रतापपुरा, 11900, 14700

– कलक्ट्रेट, 12200, 15300

– सुभाष पार्क, 13500, 16600

– आगरा कालेज, 12000, 14900

– हरीपर्वत चौराहा, 12200, 15100

संजय प्लेस, 12600, 15600

– एमजी रोड, 12400, 15400

– सुल्तानगंज की पुलिया, 12100, 15200

– कमला नगर, 10600, 13600

– रामबाग, 7600, 13800

– फाउंड्री नगर, 7600, 13800

– मंडी समिति, 4900, 6200

संजय प्लेस, 12600, 15600

– एमजी रोड, 12400, 15400

– सुल्तानगंज की पुलिया, 12100, 15200

– कमला नगर, 10600, 13600

– रामबाग, 7600, 13800

– फाउंड्री नगर, 7600, 13800

– मंडी समिति, 4900, 6200

Contact Us, for Tour Packages or Travel Query @ Gotraveljunoon@gmail.com

Komal Mishra

मैं कोमल... तो चलिए अपनी लेखनी से आपको घुमाती हूं... पहाड़ों की वादियों में और समंदर के किनारे