झारखंड के इस जगह पर मछली मारने के लिए गांव वाले करते हैं इलेक्ट्रिक करंट का इस्तेमाल

Fish: जंगलों में रहने वाले लोग एक जमाने में किसी जानवर जैसा ही जीवन जीते थे. गुफाओं में रहते थे. कच्चे मांस-मछलियों का भक्षण करते थे. पेड़-पौधों की पत्तियों और छालों से तन ढक लेते थे. सबसे पहले उसने आग जलाना सीखा. आधुनिक युग में तकनीक और विज्ञान से भी दोस्ती कर ली है.

सारंडा के ग्रामीण भी पीछे नहीं रहे. नदी-नालों में मछली मारने में भी वे नये-नये प्रयोग करने लगे हैं. विज्ञान का सहारा लेने लगे हैं. यह जोखिम भरा है, तो इसका रोमांच भी अलग ही है. सारंडा के दोदारी, दुईया, अगरवां व अन्य सुदूरवर्ती गांवों में लोग अब पारंपरिक व पौराणिक तरीके से मछली नहीं मारते.

Jadugora Tour : झारखंड के जादुगोरा घूमने के लिए है परफेक्ट

इन्होंने वैज्ञानिक तरीके से विद्युत करंट या सौर ऊर्जा का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है. बिजली के खंभों से सिंगल फेज बिजली लेकर लंबे तार को नदी-नालों के किनारे ले जाते हैं. करंट प्रवाहित तार को एक पतले बांस के डंडे की मदद से नदी-नालों के पानी में करंट प्रवाहित करते हैं.

jharkhand villagers using electric current and solar plate battery to catch fish from rivers
jharkhand villagers using electric current and solar plate battery to catch fish from rivers

बिजली का झटका लगते ही मछली बेहोश होकर पानी के ऊपर आ जाती है. वहां मौजूद लोग आसानी से उसे पकड़ लेते हैं. इस प्रक्रिया से काफी संख्या में मछलियां तो पकड़ लेते हैं. करंट लगने का जोखिम भी रहता है, लेकिन राहत की बात यह है कि पानी में जहां तार डाला जाता है, वहीं कुछ क्षेत्रों में करंट का हल्का असर रहता है.

Contact Us, for Tour Packages or Travel Query @ Gotraveljunoon@gmail.com

इसका प्रभाव सिर्फ मछलियों पर ही पड़ता है. पानी के अंदर कुछ दूरी पर मछली पकड़ने के लिए मौजूद लोगों पर इसका कोई असर नहीं होता. इसी तरह सोलर प्लेट व बैट्री का इस्तेमाल करके भी लोग मछली मार रहे हैं. इसमें जोखिम थोड़ा कम होता है.

jharkhand villagers using electric current and solar plate battery to catch fish from rivers
jharkhand villagers using electric current and solar plate battery to catch fish from rivers

लातेहार में Sunrise point से लेकर कई और जगहें हैं घूमने के लिए बेहतर

उल्लेखनीय है कि इस विधि से मछली मारना हमेशा जानलेवा साबित हो सकता है. ग्रामीणों को ऐसे तरीके अपनाने से बचना चाहिए. पारंपरिक व पौराणिक तरीके से ही मछली मारना चाहिए. थोड़ी-सी असावधानी बड़ी दुर्घटना को आमंत्रण दे सकती है.

Contact Us, for Tour Packages or Travel Query @ Gotraveljunoon@gmail.com

 

Komal Mishra

मैं कोमल... तो चलिए अपनी लेखनी से आपको घुमाती हूं... पहाड़ों की वादियों में और समंदर के किनारे