जानें, Christmas और new year के लिए दिल्लीवाले कहा कर रहे हैं घूमने की तैयारी

Christmas : क्रिसमस और नए साल का जश्न मनाने के लिए दिल्लीवाले घूमने की योजनाएं बना रहे हैं. एयरलाइंस और टूर एंड ट्रैवल्स इंडस्ट्री के अधिकारियों और एक्सपर्ट्स का कहना है कि फिलहाल इंटरनेशनल सेक्टर पर तो पाबंदी है, (Christmas) लेकिन काफी लोग डोमेस्टिक सेक्टर यानी घरेलू यात्रा के लिए बुकिंग करा रहे हैं.

दिल्लीवाले खासतौर से गोवा, शिरडी, राजस्थान और पहाड़ों की ओर जाने को तरजीह दे रहे हैं. पहाड़ों में जाने के लिए लोग हवाई मार्ग से कहीं अधिक सड़क मार्ग को प्राथमिकता दे रहे हैं. हालांकि उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश घूमने जाने वालों को वहां के नए नियमों से थोड़ी मायूसी हुई है. फिर भी लोग पहाड़ों पर घूमने की प्लानिंग कर रहे हैं.

भारत की इस पहाड़ी से निकलता है नीला सोना, अंग्रेजी हुकूमत भी रह गई थी दंग, क्या है ये तिलिस्म

फेडरेशन ऑफ असोसिएशन ऑफ टूरिज्म एंड हॉस्पिटैलिटी के महासचिव सुभाष गोयल का कहना है कि जिन-जिन देशों में भारत से फ्लाइट्स आ-जा रही हैं, अगर उन देशों के लिए भी टूरिस्ट वीजा देना शुरू कर दिया जाए, तो बहुत अच्छा हो. फिर धीरे-धीरे शेड्यूल फ्लाइट्स शुरू की जाएं. इससे घर पर कैद हो रहे लोग घूमने निकल सकेंगे

भारत बनाएगा Brahmaputra River पर सबसे लंबा पुल, जुड़ जाएंगे वियतनाम और भूटान

वहीं, लग्जरी वेकेशंस एंड हॉलिडेज कंपनी के डायरेक्टर आर के अरोड़ा का कहना है कि जिस तरह से कोरोना काल से पहले ग्रुप्स घूमने जाते थे, ऐसा अभी नहीं हो रहा है, लेकिन लोग छोटी-छोटी दूरियों वाले टूरिस्ट स्पॉट पर घूमने जा रहे हैं. यह अच्छे संकेत हैं. इसमें भी काफी लोग अपनी गाड़ियों से जाना पसंद कर रहे हैं.

Jaisalmer War Museum में दिखाई जाती है लोंगेवाला की लड़ाई

एविएशन एक्सपर्ट रज्जी राय का कहना है कि जिस तरह से कोरोना वैक्सीन की खबरें आ रही हैं, यह समझो कि घूमने वालों के लिए इंतजार ज्यादा लंबा नहीं रहेगा. फरवरी के बाद टूरिज्म इंडस्ट्री में तेजी आने वाली है. विस्तारा और एक अन्य एयरलाइंस का कहना है कि डोमेस्टिक के कई सेक्टर में अच्छी ग्रोथ देखने को मिल रही है. दिल्ली से गोवा, जम्मू-कश्मीर, राजस्थान के कुछ सेक्टर, शिरडी और पहाड़ों के लिए एडवांस में अच्छी बुकिंग मिलने लगी हैं. दिल्लीवाले अब किसी भी तरह से बाहर निकलना चाह रहे हैं.

Komal Mishra

मैं कोमल... तो चलिए अपनी लेखनी से आपको घुमाती हूं... पहाड़ों की वादियों में और समंदर के किनारे