घर बैठे घूमिए भारत के प्रमुख Tourist places, जीतिए Prize

tourist destination-कोरोना के चलते विदेशी पर्यटकों की आवाजाही जब बंद है, इसके साथ इसके अगले साल 2021 अक्टूबर तक सामान्य होने की उम्मीद है. ऐसे में डूब चुके पर्यटन क्षेत्र को फिर से उबारने के लिए घरेलू पर्यटन ही एक मात्र सराहा बचा है. जिसे सरकार पूरी ताकत के साथ आगे बढ़ाने में जुटी है. फिलहाल इसे लेकर नई-नई योजनाएं बनाने को लेकर काम चल रहा है. इनमें सबसे रोचक जो एक नई मुहिम शुरू की जा रही है, उनमें घर बैठे ही देश भर के प्रमुख पर्यटन स्थलों का आनलाइन भ्रमण कर सकेंगे. साथ ही ईनाम भी जीत सकेंगे.

इस पूरी मुहिम का मकसद पर्यटकों को लुभाना

tourist destination-फिलहाल इस पूरी मुहिम का मकसद पर्यटकों को लुभाना है. ताकि पर्यटकों की घूमने-फिरने में दिलचस्पी बनी रहे, ताकि कोरोना संक्रमण की स्थिति सामान्य हो, वह अपने आसपास के स्थलों का भ्रमण कर सकें. इसके साथ ही पर्यटन मंत्रालय एक और ऐसी योजना पर काम कर रहा है, जिसमें जो पर्यटक हर साल घूमने के लिए विदेश जाते है, उन्हें इस बार देश में ही घूमने का बेहतर विकल्प दिया जाए. एक रिपोर्ट के मुताबिक देश से हर साल करीब तीन करोड़ लोग घूमने के लिए विदेशों में जाते है. जो वहां लाखों करोड़ रुपये खर्च भी करते है. ऐसे में मंत्रालय की कोशिश है कि इन्हें इस बार देश भी घुमाया जाए. ऐसे पर्यटकों तक पहुंचने की योजना पर काम कर रहा है.

जानें- कैसे मिलेगा पुरस्कार

इस बीच मंत्रालय ने पर्यटकों को ईनाम देने की जो योजना बनाई है, उसके तहत पर्यटकों को मंत्रालय की ओर से चलाए जा रहे अभियान ‘देखो अपना देश’ वेबीनार सीरीज से जुड़ना होगा. जिसमें देश के नए-नए पर्यटकों स्थलों की जानकारी और अनूठी चीजों को दिखाया जाता है. पर्यटन मंत्रालय की ओर से चलाए जा रहे इस अभियान में अब तक तीन लाख से ज्यादा लोग जुड़ चुके है.

थाई एयरवेज की 30 नवंबर से नई सेवा शुरू, सवार होते ही धार्मिक मंत्रों का शुरू होगा जाप

इसके तहत वेबीनार खत्म होने पर पर्यटकों से उस पर्यटन स्थल से जुड़े पांच सवाल भी पूछे जाते है, जिसका जवाब देने पर उन्हें एक ई-सर्टिफिकेट दिया जाता है. योजना के तहत जो भी व्यक्ति ऐसे पांच सर्टिफिकेट हासिल करेगा, उसे मंत्रालय की ओर से एक पुरस्कार दिया जाएगा. हालांकि यह क्या होगा, इसे लेकर विचार विमर्श चल रहा है. मंत्रालय इसके साथ ही नेशनल बुक ट्रस्ट के साथ मिलकर भी बच्चों को पर्यटन से जुड़े रूझान पैदा करने के लिए एक योजना बना रहा है.

Komal Mishra

मैं कोमल... तो चलिए अपनी लेखनी से आपको घुमाती हूं... पहाड़ों की वादियों में और समंदर के किनारे

error: Content is protected !!