इस जगह पर हनुमान जी की पूजा एक स्त्री के रूप की जाती है

Female hanuman- भारत में हनुमान जी के कई प्रसिद्ध मंदिर हैं, लेकिन आज हम आपको एक अनोखे मंदिर के बारे में जानकारी दे रहे हैं. सभी जानते हैं कि हनुमानजी बाल ब्रह्मचारी हैं. लेकिन छत्तीसगढ़ के इस मंदिर में हनुमान जी की पूजा एक स्त्री के रूप में होती है. यह मंदिर छत्तीसगढ़ के बिलासपुर शहर से लगभग 25 किलोमीटर दूर रतनपुर में स्थित है. इस मंदिर में हनुमान जी को पुरुष नहीं बल्कि स्त्री के रूप में पूजा जाता है. इस अनोखे मंदिर की स्थापना के पीछे की पौराणिक कथा भी काफी दिलचस्प है.

This unique temple is located in Bilaspur district

जी हां, आपने सही पढ़ा. और शायद, यह पूरी दुनिया में मौजूद इकलौता मंदिर भी है जहां भगवान हनुमान की पूजा एक महिला के रूप में की जाती है. रतनपुर के गिरजाबांध में मौजूद इस मंदिर में ‘देवी’ हनुमान की मूर्ति है. इस मंदिर के प्रति लोगों में काफी आस्था है. ऐसा माना जाता है कि जो कोई भी यहां पूजा अर्चना करता है, उसकी मनोकामना पूरी होती है.

Hanumangarhi Mandir – मुस्लिम शासक शुजाउद्दौला ने बनाया था मंदिर, हनुमान यहीं से करते थे अयोध्या की पहरेदारी

The statue is thousands of years old

गिरजाबांध स्थित हनुमान मंदिर सदियों से इस क्षेत्र में अस्तित्व में है. माना जाता है कि हनुमान जी की यह प्रतिमा दस हजार साल पुरानी है. किंवदंती है कि मंदिर का निर्माण पृथ्वी देवजू नाम के राजा ने कराया था. राजा पृथ्वी देवजू हनुमान जी के बहुत बड़े भक्त थे औऱ उन्होंने कई सालों तक रतनपुर पर शासन किया था. माना जाता है कि वह कुष्ठ रोग से पीड़ित थे.

Hanuman ji came in the dream of the king

कहा जाता है कि एक रात राजा के सपने में हनुमान जी आए और उन्हें मंदिर बनाने का निर्देश दिया. राजा ने मंदिर का निर्माण शुरू करवाया. जब मंदिर काम पूरा होने वाले था, तब राजा के सपने में फिर हनुमान जी आए और उन्हें महामाया कुंड से मूर्ति निकाल कर मंदिर में स्थापित करने के लिए कहा.

Ashok Vatika – जानें कहां है रावण की अशोक वाटिका, जहां पर हनुमान जी के पैरों के निशान आज भी हैं मौजूद

The idol was revealed in female form

राजा ने हनुमान जी के निर्देशों का पालन किया और कुंड से मूर्ति निकाली गई. लेकिन हनुमान जी की मूर्ति को स्त्री रूप में देखकर हैरान रह गए. फिर महामाया कुंड से निकली मूर्ति को पूरे विधि विधान से मंदिर में स्थापित किया गया. मूर्ति स्थापना के बाद राजा की बीमारी पूरी तरह से ठीक हो गई.

Best time to visit

रतनपुर में काफी ज्यादा गर्मी पड़ती है, इसलिए सर्दियों के दौरान आप यहां की यात्रा आना अच्छा रहेगा. इस जगह की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर और मार्च के बीच है. अगर आप ऐसे कई और विचित्र जगहों के बारे में देखना चाहते हैं, तो आपको एक बार छत्तीसगढ़ जरूर आना चाहिए.

शाकुम्भरी देवी शक्तिपीठ जहां होती है भक्तों की हर मनोकामना पूरी

Very easy to reach Ratanpur

आप रतनपुर बेहद आसानी से पहुंच सकते हैं. यहां से सबसे निकटतम हवाई अड्डा रायपुर का स्वामी विवेकानंद एयरपोर्ट है, जो कि यहां से लगभग 140 किमी दूर है. यहां से बिलासपुर के लिए सीधी टैक्सी और बस सेवा उपलब्ध है. वहां से आप रतनपुर के लिए कैब ले सकते हैं. रतनपुर पहुंचने के लिए हवाई अड्डे से लगभग पांच घंटे लगेंगे. बिलासपुर जंक्शन रेलवे स्टेशन निकटतम रेलवे स्टेशन है, जो रतनपुर (25 किमी दूर) की सेवा करता है. स्टेशन के बाहर से कैब और बसें आपके गंतव्य के लिए उपलब्ध हैं.

Komal Mishra

मैं कोमल... तो चलिए अपनी लेखनी से आपको घुमाती हूं... पहाड़ों की वादियों में और समंदर के किनारे

error: Content is protected !!