What is Orange Red Green and Yellow Alert : जानिए रेड, ऑरेंज, येलो और ग्रीन अलर्ट का मतलब

What is Orange Red Green and Yellow Alert : हर साल मॉनसून के मौसम में मौसम विभाग से ऑरेंज, रेड, ग्रीन और येलो अलर्ट जैसे शब्द जरूर सुने होंगे. भारत में  भारतीय मौसम विभाग (IMD) मौसम की स्थिति के अनुसार चार अलग-अलग रंग कोड का उपयोग करके ये अलर्ट जारी करता है.

चेतावनी देने के लिए कई एजेंसियों के सहयोग से रंगों का चयन किया जाता है.(What is Orange Red Green and Yellow Alert) ये अलर्ट खराब मौसम की तीव्रता के आधार पर जारी किए जाते हैं और तीव्रता के साथ रंग बदलते रहते हैं. इस आर्टिकल में हम बताएंगे कि ये अलर्ट क्या हैं और मौसम की स्थिति के बारे में जनता को सचेत करने के लिए किस रंग कोड का इस्तेमाल क्यों किया जाता है.

रेड अलर्ट || Red Alert

जब भी देश के किसी भी हिस्से में तेज बारिश के साथ 130 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा की गति वाला साइक्लोन आता है, तो मौसम विभाग द्वारा तूफान की सीमा के भीतर आने वाले क्षेत्रों के लिए रेड अलर्ट जारी किया जाता है और प्रशासन से आवश्यक कदम उठाने के लिए कहा जाता है. आसान शब्दों में रेड अलर्ट का मतलब खतरनाक स्थिति है.

भारत में हाईवे पर ‘Milestones’, Yellow, Green और Orange रंग के क्यों होते हैं

मौसम विभाग के अनुसार जब मौसम खतरनाक होता है और भारी नुकसान की आशंका रहती है तो रेड अलर्ट जारी किया जाता है.  इस प्रकार के अलर्ट की घोषणा तभी की जाती है जब 30 मिमी की संभावना हो और इसके कम से कम 2 घंटे तक जारी रहने की संभावना हो. (What is Orange Red Green and Yellow Alert)ज्यादातर मामलों में जोखिम बढ़ने पर लोगों को निचले इलाकों में रहने से निकाल दिया जाता है.

ऑरेंज अलर्ट ||Orange Alert

मौसम विभाग ने लोगों को खतरे के प्रति जागरुक करने के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है. ऑरेंज अलर्ट येलो अलर्ट को अपडेट करके जारी किया जाता है. अगर यह अलर्ट मौसम विभाग की ओर से जारी किया गया है तो चक्रवातों के कारण भीषण मौसम की आशंका है.

जिससे सड़क और हवाई परिवहन को नुकसान होने के साथ-साथ जान-माल का भी नुकसान हो सकता है. इसलिए लोगों को अपने घरों में ही रहने की सलाह दी जाती है क्योंकि प्रभावित क्षेत्र में खतरनाक बाढ़ की प्रबल संभावना है. इस तरह के अलर्ट की अधिसूचना में लोगों को प्रभावित क्षेत्र से बाहर निकालने की योजना तैयार करनी होती है.

Phone Number Tracking : लोकेशन के साथ कैसे करें फोन ट्रैक

येलो अलर्ट|| Yellow Alert

मौसम विभाग येलो अलर्ट का इस्तेमाल लोगों को अलर्ट करने और खतरे से अलर्ट रहने के लिए किया जाता है. आसान शब्दों में, इसका अर्थ है कि यह अलर्ट Just Watch का संकेत है. इस प्रकार की चेतावनी में 7.5 से 15 मिमी तक बारिश होने की संभावना है जो अगले 1 या 2 घंटे तक जारी रहने की संभावना है जिससे बाढ़ की संभावना है.

ग्रीन अलर्ट || Green Alert

कई बार मौसम विभाग की ओर से ग्रीन अलर्ट जारी किया जाता है जिसका मतलब है कि संबंधित जगह पर कोई खतरा नहीं है.

Komal Mishra

मैं कोमल... तो चलिए अपनी लेखनी से आपको घुमाती हूं... पहाड़ों की वादियों में और समंदर के किनारे

error: Content is protected !!