https://business.facebook.com/settings/security/business_verification?business_id=361906945015389

कालापानी को किसने दिया ये नाम ? कहां पर स्थित है कालापानी ? क्या है कालापानी का इतिहास ?

कालापानी ( Kalapani ) का नाम सुनकर आपको लगा होगा कि हम आपसे उस क्रूर सजा का जिक्र करेंगे जो अंग्रेजों के जमाने में दी जाती थी। या फिर आपने सोचा होगा कि हम 1958 में अभिनेता देवा आनंद साहब की फिल्म कालापानी ( Kalapani ) की बात करेंगे। तो आप गलत सोच रहे हैं, हम आपको लिए चलेंगे विशाल दर्रे और पहाड़ियों के बीच जिसे कालापानी ( Kalapani ) करते हैं, आपको बताएंगे क्यों इस इलाके को कालापानी कहते हैं, ये  कौनसे देश के बेहद करीब है? क्या यहां पर इंसानी बस्ती है? और कैसा रहता है यहां का तापमान? तो देर मत किजिए, और जान लिजिए कालापानी ( Kalapani ) को

कालापानी कहां स्थित है? : कालापानी उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले के पूर्वी कोने का एक क्षेत्र है। कालापानी की ऊंचाई 11788 फीट है। कालापानी से पिथौरागढ़ से 101 किलोमीटर की दूरी पर है। कालापानी भारतीयों का तीर्थ स्थल है। रं समुदाय के लोग यहां पर अस्थि विसर्जन करते हैं। कालापानी को ही भारत काली नदी का उद्गम स्थल मानता है। यहां आईटीबीपी ने काली माता का मंदिर भी बनाया है, जिसकी देखरेख आईटीबीपी ही करती है।

काली मंदिर के गर्भगृह से ही काली नदी निकलती है। यहीं काली नदी कालापानी से भारत और नेपाल दोनों देशों का सीमांकन करती है। आगे चलकर टनकपुर में यह शारदा नदी बन जाती है। कालापानी में भारतीय सुरक्षा एजेंसियां हर वक्त मुस्तैद नजर आती हैं। यहां सीमाओं की सुरक्षा के लिए सेना के साथ आईटीबीपी और एसएसबी तैनात हैं। कालापानी में 1962 के भारत-चीन युद्ध के दौरान बनाए गए बंकर आज भी मौजूद हैं।

इस क्षेत्र में संचार की कोई सुविधा नहीं है। केवल सुरक्षा एजेंसियों के पास सेटेलाइट फोन या वायरलेस रहते हैं। कालापानी से करीब 12 किलोमीटर दूर चीन की ओर नाभीढांग है। यह इलाका भारत के सुरक्षा के लिहाज से सबसे अहम है। प्रसिद्ध ओम पर्वत भी यहीं मौजूद है।

कालापानी का इतिहास ? : मूल तौर पर कालापानी नेपाल के पश्चिमी सीमाई इलाके में आता है। 1815 में जब ब्रिटिश सेनाओं का युद्ध गोरखाओं से हुआ था, तो उन्होंने इस इलाके को जीत लिया था। इसके बाद ये भारतीय भूमि का हिस्सा बन गया। उस समय ब्रिटिश सरकार और नेपाल सरकार के बीच सुगौली नामक संधि हुई, जिसके बाद नेपाल के महाराजा ने ये इलाका ब्रिटिश भारत को सौंप दिया था। मगर नेपाल का दावा है कि कापालानी और लुपलेख को उसने ईस्ट इंडिया कंपनी से हासिल किया था।

क्या है कालापानी विवाद ? : कालापानी 372 वर्ग किलोमीटर का एक क्षेत्र है। इस क्षेत्र पर चीन, नेपाल और भारत की सीमा मिलती है। वहीं,  भारत इसे उत्तराखंड का हिस्सा मानता है जबकि नेपाल इसे अपने नक्शे में दिखाता है।

कालापानी क्षेत्र का तापमान : कालापानी इलाके में गर्मियों के दिनों में भी गर्मियां कम पड़ती है। जबकि सर्दियों में यहां पर खून जमा देने वाली ठंड पड़ती है। यहां पर पारा माइनस में चला जाता है। साथ ही बर्फबारी भी खूब होती है।

Sandeep Jain

पत्रकार की नजर से.....चलो घूम आते हैं