Amarnath Yatra 2022: 2 साल बाद अमरनाथ यात्रा की शुरुआत, यात्रा से पहले यहां लें हर जानकारी

Amarnath Yatra 2022: जम्मू और कश्मीर ( Jammu-Kashmir ) में स्थित अमरनाथ जी की यात्रा 3 के अंतराल के बाद 30 जून 2022 से शुरू हो चुकी है. इस पावन यात्रा के लिए श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड (Shri Amarnath Shrine Board) ने हर तरह की तैयारी कर रखी है. तीर्थयात्रियों को टेंट से लेकर स्वास्थ्य सुविधा तक उपलब्ध करवाई जा रही है. लंगर का भी इंतजाम किया गया है. अमरनाथ यात्रा कश्मीर में दो रास्तों, पहलगाम और बालटाल (Pahalgam and Baltal Route) से होती है. जम्मू और कश्मीर प्रशासन भी इस यात्रा में श्राइन बोर्ड के साथ जुटा हुआ है. आइए जानते हैं कि अमरनाथ यात्रा 2022 क्या पूरा शेड्यूल (Amarnath Yatra 2022 Schedule) क्या है? इस यात्रा में श्राइन बोर्ड ने भक्तों के लिए क्या क्या सुविधाएं (Facilities during Amarnath Yatra) दी हुई हैं और अगर आप भी यात्रा पर जा रहे हैं, तो इसके लिए तैयारी कैसे करें?

इस साल आतंकवादियों से अधिक खतरा होने के कारण यात्रा के आसपास सुरक्षाकर्मियों की सामान्य संख्या से लगभग 3-4 गुना अधिक तैनाती की गई है. तीर्थयात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (RFID) टैग और ड्रोन सर्विलांस का इस्तेमाल किया जा रहा है.

2019 में, पिछली बार यात्रा आयोजित की गई थी, सरकार ने जम्मू और कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने से पहले तीर्थयात्रा को बीच में ही रद्द कर दिया था.

Amarnath Yatra: कैसे करें रजिस्ट्रेशन? यात्रा रूट, पूरी जानकारी

अमरनाथ यात्रा का महत्व || Importance of Amarnath Yatra

हिमालय की ऊंचाई पर स्थित भगवान शिव की गुफा की अमरनाथ यात्रा को देश के सबसे प्रतिष्ठित तीर्थों में से एक माना जाता है. हर साल, लाखों तीर्थयात्री यहां यात्रा करते हैं.

एक पौराणिक कथा के आधार पर, जब भगवान शिव ने पार्वती को अपनी अमरता (अमर कथा) का रहस्य बताने का फैसला किया, तो उन्होंने दक्षिण कश्मीर में हिमालय के अंदर स्थित अमरनाथ गुफा को चुना. गुफा की खोज 1850 में बूटा मलिक नाम के एक मुस्लिम चरवाहे ने की थी. मलिक अपने जानवरों के झुंड के साथ पहाड़ों में थे, जब एक सूफी संत ने उन्हें कोयले का एक थैला दिया. घर लौटने के बाद, मलिक ने बैग खोला, और उसे सोने से भरा हुआ पाया. खुश होकर चरवाहा संत को धन्यवाद देने के लिए पहाड़ों की ओर दौड़ा, लेकिन वह उसे नहीं मिला.

इसके बजाय, उन्होंने गुफा और प्रसिद्ध बाबा बर्फानी को पाया. यह गुफा की छत में एक फांक से पानी के प्रवाह से बनता है.  जैसे ही पानी टपकता है, यह जम कर एक लंबा, चिकना बर्फ का डंठल बनाता है. यह हर साल मई में अपना पूर्ण आकार लेता है, जिसके बाद यह पिघलना शुरू हो जाता है और अगस्त तक यह केवल कुछ फीट की ऊंचाई पर होता है.

अमरनाथ यात्रा करने का रास्ता || Amarnath Yatra Route

अमरनाथ गुफा समुद्र तल से 3,888 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है और यहां केवल पैदल या टट्टू द्वारा ही पहुंचा जा सकता है. गुफा मंदिर तक काजीगुंड-अनंतनाग-पहलगाम और काजीगुंड-अनंतनाग-पुलवामा-श्रीनगर-बांदीपुर-गांदरबल-सोनमर्ग-बालटाल दो रास्तों के जरिए पहुंचा जा सकता है.

ये दो रास्ते हैं जिनसे तीर्थयात्री पवित्र स्थल की यात्रा कर सकते हैं. ज्यादातर लोग बालटाल मार्ग का इस्तेमाल करते हैं. बालटाल से 16 किमी का एक छोटा ट्रेक है जो एक खड़ी, घुमावदार पहाड़ी रास्ते के साथ मंदिर तक जाती है.  इस रास्ते से  तीर्थयात्रियों को 1-2 दिन लगते हैं.

दूसरा पहलगाम मार्ग है, जो गुफा से लगभग 36-48 किमी दूर है और इसे तय करने में 3-5 दिन लगते हैं. जबकि यह एक लंबी यात्रा है, यह थोड़ी आसान और कम खड़ी है.

Amarnath  2020 : हेल्थ चेकअप कहां कराएं, किस बैंक से मिलेगी मदद, यात्रा पर्ची, Full InformationYatra

अमरनाथ यात्रा जानें से पहले की तैयारी

यात्रियों को पर्याप्त ऊनी कपड़े ले जाने के लिए कहा गया है क्योंकि तापमान कभी-कभी 5 डिग्री सेल्सियस से नीचे गिर सकता है. छाता, विंड चीटर, रेनकोट और वाटर प्रूफ जूते अवश्य साथ रखें क्योंकि मौसम कभी भी बदल सकता है. कपड़े और खाने के सामान को एक उपयुक्त वाटर प्रूफ बैग में रखें ताकि सामान गीला न हो. पहचान पत्र/ड्राइविंग लाइसेंस और यात्रा परमिट ले जाएं.

सबसे जरूरी बात ये कि भक्त आधार या बायोमीट्रिक पहचान पत्र साथ लेकर ही जाएं.

अमरनाथ यात्रा के दौरान इन बातों का रखे ख्याल

ऐसे स्थानों पर न रुकें, जहां चेतावनी नोटिस दिया हों.
चप्पलों का प्रयोग न करें क्योंकि पवित्र गुफा के मार्ग पर खड़ी चढ़ाई हैं. लेस वाले ट्रेकिंग शूज ही पहनें.
रास्ते में कोई शार्ट कट न लगाएं क्योंकि ऐसा करना खतरनाक हो सकता है.
अपनी पूरी आगे/वापसी यात्रा के दौरान ऐसा कुछ भी न करें जिससे यात्रा क्षेत्र में प्रदूषण हो या पर्यावरण को नुकसान पहुंचे.
केंद्र शासित प्रदेश में प्लास्टिक का उपयोग पूरी तरह से प्रतिबंधित है और कानून के तहत दंडनीय है.

सुरक्षा की तैयारी

जम्मू और कश्मीर पुलिस केंद्र शासित प्रदेश के लोगों को अपने गाड़ियों और सामान की जांच करने की सलाह दे रही है, जो कि आईईडी हो सकती है.

मई की शुरुआत में, पुलिस को जम्मू शहर से लगभग 30 किलोमीटर दूर कनाचक के कांटीवाला-दयारन गांव में इंटरनेशनल बोर्डर के पास प्लास्टिक के लंच बॉक्स में 3 बमों का एक पैकेट मिला. इस तरह के छोटे चुंबकीय आईईडी फरवरी 2021 से नियमित अंतराल पर पाए गए हैं.

जम्मू के एसएसपी चंदन कोहली ने कहा कि जम्मू में अतिरिक्त बलों को तैनात किया जा रहा है ताकि तीर्थयात्रियों के ठहरने वाले सभी स्थानों के अलावा उनके टोकन और रजिस्ट्रेशन काउंटर को पूरी तरह सुरक्षित किया जा सके.

खतरे की आशंका के बावजूद प्रशासन ने तीर्थयात्रियों का स्वागत करने की मांग की. मई के अंत में, कश्मीर संभागीय कमिश्नर ने अधिकारियों को घाटी में सभी पंचायतों में अमरनाथ तीर्थयात्रियों का स्वागत करने वाले बैनर लगाने का निर्देश दिया, जो गुफा मंदिर के मार्ग पर आते हैं. जबकि पर्यटन विभाग और गैर-सरकारी संगठन मार्ग पर स्वागत बैनर लगाते हैं, यह पहली बार है जब सरकार ने विशेष रूप से उन्हें लगाने के लिए कहा है.

Amarnath Yatra Helpline Number

प्रशासन ने अमरनाथ यात्रा के लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए हैं. ये नंबर हैं:

Helpline No. 14464
Toll Free Number

Jammu: 18001807198
Sri Nagar: 18001807199

Amarnath Yatra Accommodation

श्री अमरनाथ जी श्राइन बोर्ड भक्तों के लिए कई तरह की सुविधाएं भी देता है. इसमें अकोमोडेशन, ट्रांसपोर्ट फैसिलिटी, लंगर, मेडिकल फैसिलिटी, क्लॉक रूम, टेलिकॉम फैसिलिटी, पिट्ठू पोनी पालकी आदि सेवाएं हैं.

श्री अमरनाथ जी की यात्रा के लिए प्राइवेट ऑपरेटर्स द्वारा हेलिकॉप्टर की सेवाएं संचालित की जाती हैं. आप ऑथोराइज एजेंट के माध्यम से ये बुकिंग करवा सकते हैं.

बालटाल के रास्ते ( Neelgrath-Panjtarni-Neelgrath ) पर दो ऑपरेटर हेलिकॉप्टर सेवाएं देते हैं. Global Vectra Helicorp Limited और Arrow AirCraft Pvt.Ltd. इसका वन वे किराया 2800 रुपये प्रति व्यक्ति है जबकि आने और जाने का किराया 5600 रुपये है. ये सिर्फ अमरनाथ यात्रा 2022 के लिए है. हालांकि GST के हिसाब से इनमें परिवर्तन भी हो सकता है.

वहीं, पहलगाम के रास्ते ( Pahalgam-Panjtarni-Pahalgam ) पर जो कंपनी हेलिकॉप्टर सेवा देती है उसका नाम Heritage Aviation Pvt. Ltd. है. इस रास्ते पर वन वे किराया 4200 रुपये है जबकि दोनों ओर का किराया 8400 रुपये है.

Accommodation Rates for Amarnath Ji Yatra

अमरनाथ यात्रा के लिए पहलगाम और बालटाल दोनों ही रास्तों पर अकोमोडेशन अवेलेबल है. रास्ते में बेस कैंप पर बने हट्स में 250 रुपये/प्रति बेड से लेकर 375 रुपये / प्रति बेड अवेलेबल है.

बेस कैंप के नाम हैं:

Baltal Base Camp M/s Murawah Tour & Travels, Mr.Noorani Ahmad Jara, Cell No.8491043552,

Nunwan Base Camp M/s Rocker Tour & Travels, Mr.Mohd Shafi Magray, Cell No.9419007477

Sheshnag Camp M/s Feroz Travels,Mohd Ramzan Bhat, Cell No.7006416261

Panjtarni M/s Kashmir Tourister & Travels. Mr.Mohd Imran Dar, Cell No.7006858109

बुकिंग पूरी रात के लिए होती है…

बालटाल और पहलगाम दोनों ही रास्तों पर आप टेंट भी किराए पर ले सकते हैं… दोनों ही रास्तों पर इनका किराया 275 रुपये से शुरू होकर 1050 रुपये तक जाता है.

अमरनाथ जी की यात्रा के लिए ट्रांसपोर्ट फैसिलिटी

Jammu and Kashmir State Road Transport Corporation (JKSRTC) अमरनाथ यात्रा 2022 के लिए ट्रांसपोर्ट फैसिलिटी उपलब्ध करवा रहा है. इसके लिए बुकिंग काउंटर भी खोले गए हैं, जहां सुबह से लेकर शाम तक बुकिंग कराई जा सकती है…

Jammu Division
Shri Amarnath Ji Yatri Niwas, Bhagwati Nagar, Jammu.
Rameshwari Mandir, Parade, Jammu.
T.R.C Jammu.
Railway Station, Jammu.
General Bus Stand, Jammu.

Kashmir Division
Nunwan, Pahalgam
Baltal, Sonamarg.
Srinagar Airport.
TRC, Srinagar.

जम्मू और श्रीनगर में ट्रांसपोर्ट का कंट्रोल रूम भी बनाया गया है. JKSRTC Toll free No. : 1800-180-7101 है. आप ट्रांसपोर्ट से जुड़ी जानकारी यहां क्लिक करके पा सकते हैं..

अमरनाथ यात्रा के दौरान लंगर की जानकारी

अमरनाथ यात्रा के दौरान कई जगह आप लंगर ग्रहण कर सकते हैं. बालटाल मार्ग पर आप जहां जहां लंगर ले सकते हैं, वे जगहें हैं:
1 Baltal Camp
2 Between Baltal & Domel
3 Domail
4 Railpathri
5 Brarimarg
6 Sangam
7 Holy Cave

वहीं, पहलगाम मार्ग पर आप जहां जहां लंगर ले सकते हैं, उन कैंप्स के नाम हैं

# Name of the Camp
1 Nunwan
2 Chandanwari
3 Between Chandanwari and Pissutop
4 Pissutop
5 Zojibal
6 Nagakoti
7 Sheshnag
8 Wavbal
9 Poshpathri
10 Kelnar
11 Panjtarni

Medical Facility at Amarnath Ji Yatra

अमरनाथ यात्रा के लिए मेडिकल फैसिलिटी भी अवेलेबल है. आप बेस कैंप पर ही जरूरत के मुताबिक स्वास्थ्य सुविधाएं ले सकते हैं. कई जगह डिस्पैंसरी की सुविधाएं भी हैं.

Amarnath Ji Yatra Cloak Room Facility

श्राइन बोर्ड क्लॉक रूम फैसिलिटी भी दे रहा है. 10 रुपये लेकर 24 घंटे तक के लिए सामान रखने की सुविधा दी जाती है.. ये सुविधा Nunwan, Baltal, Holy Cave में उपलब्ध है.

श्राइन बोर्ड कैफेटेरिया फैसिलिटी भी देता है. Neelhgarh Helipad (Baltal) पर हेलीपेड के वेटिंग लाउंज में ये फैसिलिटी है…

पार्किंग फैसिलिटी

हल्के और मीडियम श्रेणी के वाहन के लिए श्राइन बोर्ड पार्किंग फैसिलिटी भी देता है. हालांकि ये सुविधा सिर्फ बालटाल बेस कैंप पर ही उपलब्ध है. इनके रेट इस प्रकार है

1 Two wheelers 30/-
2 Light Motor Vehicles ( LMVs) 75/-
3 Medium Motor Vehicles ( MMVs) 150/-
3 Heavy Motor Vehicles ( MMVs) 225/-

Telecom Facility

अमरनाथ जी की पवित्र गुफा तक आपको BSNL की कनेक्टिविटी मिलती है. BSNL यात्रियों को स्पेशल यात्रा सिम उपलब्ध करवाता है. यात्रा सिम की कीमत 230 रुपये है. इसकी वैलिडिटी 10 दिन की होती है. इसमें हर रोज 1.5 GB का डेटा मिलता है और 20 हजार सेकेंड का फ्री टॉक टाइम…

BSNL का प्री लोडेड यात्रा सिम लेने के लिए आपको अड्रैस प्रूफ, पहचान पत्र और फोटोग्राफ जमा करना होता है.

Pithu Pony Palki की सुविधा भी श्राइन बोर्ड देता है. इसकी पूरी जानकारी आप यहां क्लिक करके पा सकते हैं

श्री अमरनाथ जी श्राइन बोर्ड की तमाम जानकारियां आपको एक ही प्लेटफॉर्म पर मिल जाती हैं… अमरनाथ जी की Live आरती, मौसम की जानकारी, हेलिकॉप्टर सर्विस बुकिंग की जानकारी सबकुछ के लिए यहां क्लिक करें…

Komal Mishra

मैं कोमल... तो चलिए अपनी लेखनी से आपको घुमाती हूं... पहाड़ों की वादियों में और समंदर के किनारे

error: Content is protected !!