Free Service at Vaishno Devi Mandir : वैष्णो देवी यात्रा में फ्री में मिलती हैं ये सेवाएं

Free Service at Vaishno Devi Mandir : हर साल लाखों भक्त वैष्णो देवी का दर्शन करने के जाते हैं. भारत में वैष्णो देवी की बहुत मान्यता है.

इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे वैष्णो देवी यात्रा के दौरान भक्तों को कौन सी सेवाएं फ्री में मिलती है. आइए लेते हैं वैष्णो देवी मंदिर से जुड़ी अहम जानकारी…

वैष्णो देवी में फ्री विश्राम हॉल || Vaishno Devi Free Vishram Hall

यात्रियों की सुविधा के लिए अर्धकुवारी, सांझीछत और भवन में कई हॉल बनाए गए हैं.  तीर्थयात्री पवित्र देवी के दर्शन के लिए या आगे बढ़ने से पहले अपनी बारी का इंतजार करते हुए यहां आराम कर सकते हैं.

ये हॉल निःशुल्क उपलब्ध हैं लेकिन इनकी उपलब्धता पहले आओ-पहले पाओ के आधार पर है. तीर्थयात्री इन हॉल में रात भी बिता सकते हैं. यहां शौचालय की सुविधा उपलब्ध कराई गई है.

वैष्णो देवी में फ्री मेडिकल फेसिलिटी || Vaishno Devi Free Medical Facility

तीर्थयात्रियों की सुविधा के लिए इन आवास इकाइयों के निकट के क्षेत्र में कंबल स्टोर, शौचालय ब्लॉक, भोजनालय और खानपान इकाइयां और एक चिकित्सा सहायता केंद्र खोला गया है.

Vaishno Devi Yatra Budget : वैष्णो देवी यात्रा जाने पर कितना खर्च होता है? आइए जानते हैं

भारी भीड़ के दिनों में, निहारिका परिसर में कटरा में मुफ्त आवास भी उपलब्ध कराया जाता है.

नए बस स्टैंड (बस स्टैंड नंबर II) से सटे यात्रा पर्ची काउंटर II (YRC-II) के पास शेड के रूप में आवास भी उपलब्ध कराया गया है.

आवास के अलावा कंबल भी नि:शुल्क उपलब्ध कराया जाता है.

Maa Vaishno Devi Mandir Yatra – इन साधनों से करें मां वैष्णो देवी की यात्रा, पहली बार जा रहे हैं तो जरूर पढ़ें

वैष्णो देवी में फ्री लंगर सेवा || Vaishno Devi Free Langar Seva

वैष्णो देवी यात्रा के लिए बनाए गए नए ताराकोटे मार्ग पर फ्री लंगर की सुविधा भी मिलती है.

यहां कोई भी श्रद्धालु आकर निशुल्क भोजन ग्रहण कर सकता है. ध्यान रहे कि यहां थालियों को भक्त ही साफ करते हैं.

वैष्णो देवी में फ्री जल और शौचालय || Free Water and Toilet at Vaishno Devi

ताराकोटे मार्ग के जरिए जब आप वैष्णो देवी की यात्रा करते हैं, तो रास्ते में आपको अत्याधुनिक शौचालय और जल की सुविधा मिलती है.

ये दोनों चीजें सभी के लिए निशुल्क हैं.

 

Komal Mishra

मैं कोमल... तो चलिए अपनी लेखनी से आपको घुमाती हूं... पहाड़ों की वादियों में और समंदर के किनारे

error: Content is protected !!