जयपुर के ट्रिप में अगर आप बिड़ला मंदिर नहीं गए, तो टूर रह जाएगा अधूरा

Birla temple – भारत के कुछ मशहूर मंदिरों में गुलाबी शहर जयपुर का भव्य बिड़ला मंदिर एक है. देशभर में अपनी महिमा के लिए प्रसिद्ध लक्ष्मी नारायण मंदिर को बिड़ला मंदिर के नाम से जाना जाता है और ये गुलाबी शहर का गौरव है. इसकी संरचना 1988 में बिड़ला कंपनी समूह ने की थी जो देश भर में कई प्रतिष्ठित मंदिर बनाने में अग्रणी रहा है. इस मंदिर के तीन गुंबद हैं जो कि धर्म के प्रति तीन दृष्टिकोण को दिखाते हैं. यह मंदिर सफेद संगमरमर से बना है और शांतिपूर्ण प्रभाव देता है.

इस मंदिर की सबसे महत्वपूर्ण चीज यहां की लक्ष्मीनारायण की शानदार प्रतिमा है जो पत्थर के एक ही टुकड़े से बनाई गई है. कला का एक और आश्चर्य यहां भगवान गणेश की मूर्ति के रूप में भी है. मंदिर की आंतरिक सज्जा विभिन्न हिंदू देवी देवताओं के पौराणिक चित्रों से की गई है. यहां संगमरमर की एक विशाल दीवार है जिस पर कई पौराणिक घटनाएं दर्शाई गई हैं. मंदिर का बाहरी हिस्सा भी इसके आंतरिक हिस्से जितना ही सुंदर है और इसकी सीढि़यां भी संगमरमर से बनी हैं. यहां कई देवी देवताओं की मूर्तियां और चित्र हैं जो इस जगह को एक अलग आकर्षण देते हैं. साथ ही यहां कई महापुरुषों, दार्शनिकों और बड़ी उपलब्धियां हासिल कर चुके लोगों के भी चित्र हैं, जैसे सुकरात, ईसाई, बुद्ध और जरथुस्त्र.

Jaipur Tour Guide – पिंक सिटी में घूमने लायक 12 जगहें, यहां के Forts की दुनिया है दीवानी

इस मंदिर में एक  म्यूजियम भी है जिसमें बिड़ला परिवार के पूर्वजों से संबंधित कई वस्तुएं हैं. यह संग्रहालय दर्शकों के लिए सुबह 8 बजे से 12 बजे तक और शाम 4 बजे से 8 बजे तक खुला रहता है. मंदिर के आसपास हरेभरे पेड़ हैं जो मंदिर के माहौल में शांति जोड़ते हैं. यहां पूरे दिन भक्तों की भीड़ लगी रहती है. त्यौहार के मौसम में यहां विशेष रूप से ज्यादा भीड़ रहती है.

Ajmer Sharif Dargah Tour – जानें अजमेर दरगाह के Rules, यहां अकबर के कढ़ाहे में बनती है बिरयानी

History of Birla Mandir

जयपुर अपने किलों, महलों, स्मारकों और इतिहास की विरासत के लिए मशहूर है, साथ ही यहां देश के सबसे बेहतरीन मंदिर भी मौजूद हैं. इस मंदिर का निर्माण बिड़ला समूह ने करवाया है. बिड़ला समूह ने देश में कई मशहूर मंदिरों का निर्माण करवाया है. यह मंदिर भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी को समर्पित है. इसी वजह से इस मंदिर को पहले लक्ष्मी नारायण मंदिर के नाम से जाना जाता था. जिस जमीन पर इस मंदिर का निर्माण हुआ वो महाराजा ने ही बिड़ला को दी थी और इस जमीन के बदले मात्र एक रुपया लिया था.बिरला परिवार ने वर्ष 1988 में यहां मंदिर का निर्माण किया तभी से यह मंदिर तीर्थ यात्रियों के लिए एक दर्शनीय स्थल बन गया है.

भीलवाड़ा ( Bhilwara ) की वो 11 जगहें, जहां आपको जाना चाहिए

Birla Mandir Festivals

जन्माष्टमी के त्यौहार को बिड़ला मंदिर में बड़ी ही धूम-धाम के साथ मनाया जाता है. इस खास मौके को चमचमाती रोशनी और तेल के दीपक के साथ सजाया जाता है. इस दिन भारी संख्या में पर्यटक भगवान कृष्ण का आशीर्वाद लेने के लिए आते हैं.

Rules to follow in Birla Mandir

बता दें कि इस मंदिर में आप कैमरा या फोन लेकर नहीं जा सकते.
इस मंदिर में तस्वीरें लेना और विडियों बनाने की अनुमति नहीं है
मंदिर के बरामदे में घूमना भी सख्त मना
जो भी लोग इस मंदिर की यात्रा पहली बार कर रहे हैं तो उन्हें शाम के समय इस मंदिर के दर्शन के लिए जाना चाहिए. क्योंकि यह मंदिर शाम के समय मंदिर देखने में बहुत सुंदर लगता है.
इस मंदिर की आरती काफी मनमोहक होती है इसलिए आप अपनी यात्रा की योजना ऐसी बनाए कि मंदिर आरती में शामिल हो सके.

Ajmer Tour Guide in Hindi – अजमेर में ये 16 जगहें हैं बेहतरीन, जरूर घूमने जाएं

Birla Mandir Location

प्रसिद्ध बिड़ला मंदिर जयपुर के मोती डूंगरी किले के निचले इलाके में स्थित है. यह पूरा इलाका हरियाली से घिरा है जिससे यहां शांति का प्रभाव पैदा होता है.

Best Time to visit Birla Mandir

बिरला मंदिर जाने का सबसे अच्छा समय मार्च से लेकर अक्टूबर के महीनों का होता है क्योंकि राजस्थान एक रेगिस्तानी राज्य है और यहां गर्मियों के मौसम में बहुत तेज गर्मी पड़ती है. अप्रैल से लेकर जून तक यहां गर्मी का मौसम होता है. यह समय जयपुर शहर में छुट्टियों का आनंद लेने और यहां के विभिन्न स्थलों को घूमने के लिए काफी अच्छा है. इन महीनों में दिन बेहद अनुकूल होते हैं.

How to Reach Birla Mandir

By Air – अगर बिरला मंदिर देखने के लिए राजस्थान की राजधानी जयपुर जा रहे हैं तो आपको बता दें कि हवाई जहाज द्वारा जयपुर की यात्रा करना आपके लिए बेहद आरामदायक साबित हो सकता है.सांगानेर हवाई अड्डा भारत के प्रमुख शहरों से नियमित रूप से चलने वाली कई एयरलाइनों से जुड़ा हुआ है. सांगानेर हवाई अड्डे से जवाहर लाल नेहरु मार्ग के माध्यम से बिरला मंदिर की दूरी करीब 8.4 किलोमीटर है जिसके लिए किसी भी टैक्सी या कैब की मदद ले सकते हैं.

किसानों को रोजगार देने के लिए बनवाया गया था Umaid Bhawan, मिल चुका है Best Hotel का ख़िताब

ByTrain – अगर आप बिरला मंदिर की यात्रा ट्रेन से करना चाहते हैं तो बता दें कि जयपुर रेलवे स्टेशन भारत के कई प्रमुख शहरों से एक्सप्रेस ट्रेनों की मदद से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है. जयपुर रेलवे स्टेशन से आप कैब या टैक्सी की मदद से बिरला मंदिर तक पहुँच सकते हैं. जयपुर रेलवे स्टेशन से बिरला मंदिर की दूरी लगभग 5.3 किलोमीटर है.

By Road – बिरला मंदिर के लिए आप सड़क मार्ग या बस से भी यात्रा कर सकते हैं क्योंकि राजस्थान राज्य सड़क परिवहन निगम RSRTC राजस्थान राज्य के भीतर जयपुर और प्रमुख शहरों के बीच कई लक्जरी और डीलक्स बसें चलाता है. आप जयपुर के लिए भारत के कई प्रमुख शहरों जैसे नई दिल्ली अहमदाबाद, उदयपुर, वडोदरा, कोटा और मुंबई जैसे शहरों से बस ले सकते हैं.

Komal Mishra

मैं कोमल... तो चलिए अपनी लेखनी से आपको घुमाती हूं... पहाड़ों की वादियों में और समंदर के किनारे