Unique village : उत्तर प्रदेश में स्थित एक ऐसा गांव जहां बाहर से ना बारात आती है, ना जाती है

Unique village: जिले में एक ऐसा गांव भी है जहां ना तो कहीं बाहर से बारात आती है, ना ही बारात गांव से बाहर जाती है. और तो और गांव का कोई भी शख्स किसी भी अपराध के सिलसिले में जेल में नहीं है. गांव का अपना अलग कानून है और कानून नहीं मानने वालों पर बाकायदा जुर्माना भी लगाया जाता है.

उत्तराखंड में इस गांव को क्यों कहते हैं पनीर वाला गांव?

ये अनोखा गांव उत्तर प्रदेश के रामपुर जिले के स्वार इलाके में हैं. यहां के दौंकपुरी टांडा गांव के लड़के और लड़कियों की शादी गांव में ही कराई जाती है, ताकि वो भविष्य में भी महफूज रहें. अपनी इस परंपरा के लिए दौंकपुरी टांडा पूरे इलाके में मशहूर है.

गांव में होने वाली शादियों में बिल्कुल भी फिजूलखर्ची नहीं होने दी जाती. रीति-रिवाज सारे होते हैं, लेकिन बैंड-बाजे पर पूरी तरह से पाबंदी है. न डीजे बजाया जाता है और न ही किसी तरह का कोई हंगामा किया जाता है. यही नहीं बारात के पहुंचने का भी समय पहले ही तय कर लिया जाता है और निर्धारित समय पर बारात के नहीं पहुंचने पर प्रति मिनट 100 रुपये के हिसाब से जुर्माना लगाया जाता है.

यूपी में है दामादों का गांव, जहां लड़की नहीं दामाद किए जाते हैं विदा

हालांकि गांव के अपने नियम-कायदे तो हैं, लेकिन सरकारी मदद के अभाव में दौंकपुरी टांडा गांव भी विकास से कोसों दूर है. गांव में अपने अलग कानून भी है और उल्लंघन करने वालों पर जुर्माने की व्यवस्था भी है.

Komal Mishra

मैं कोमल... तो चलिए अपनी लेखनी से आपको घुमाती हूं... पहाड़ों की वादियों में और समंदर के किनारे

error: Content is protected !!