क्या ट्रेनों में अब नहीं मिलेगा खाना, जानिए क्या है भारतीय रेलवे का नया प्लान

indian railway- अगर आप हाल फिलहाल में ट्रेन से सफर करने वाले हैं तो खाना घर से ही पैक करके ले जाएं, क्योंकि कोरोना  महामारी की वजह से रेलवे ने फिलहाल ट्रेनों में खाना सर्व  करने पर रोक लगा रखी है. इतना ही नहीं, ट्रेनों में कंबल, बेडशीट और तकिया भी नहीं दिया जा रहा है. रेलवे इस सिस्टम को हमेशा के लिए लागू करने पर विचार कर रहा है. यानी अब यही नया न्यू नॉर्मल बन जाएगा.

इन रूट्स पर 40 Clone Trains चलने से अब मिलेगी सिर्फ़ कन्फर्म टिकट

Railways is preparing this

कुछ दिन पहले से ही ये रेलवे की एक योजना चर्चा में है कि ट्रेनों में थर्ड एसी कोच की संख्या बढ़ाई जाएगी. सूत्रों के हवाले से मिली खबर के मुताबिक रेल मंत्रालय, करीब 300 ट्रेनों में पैंट्री कार को हटाकर उनकी जगह पर थर्ड एसी कोच लगाने की तैयारी कर रहा है. इससे भले ही यात्रियों को खाना सर्व नहीं होगा, लेकिन उन्हें कन्फर्म सीट मिलने की संभावना बढ़ जाएगी. साथ ही रेलवे की यात्री किराए से कमाई भी बढ़ेगी.

indian railway : railway will not serve food in trains as ac coaches will replace pantry cars what is next plan of railway
indian railway : railway will not serve food in trains as ac coaches will replace pantry cars what is next plan of railway

Indian Railway ने दीवाली और दशहरा पर यात्रियों को दिया तोहफा, चलेगी 38 स्पेशल ट्रेनें

Now you will get food in trains

indian railway-अब सवाल ये उठता है कि अगर ट्रेनों में पैंट्री कार हट जाएंगी तो क्या यात्रियों को खाना मिलेगा ही नहीं? ऐसे में तो लंबी दूरी की यात्रा करने वाले मुसाफिरों की मुश्किलें बढ़ जाएंगी. इसी को ध्यान में रखते हुए रेलवे अपने यात्रियों को खाना उपलब्ध कराने के लिए अलग से एक सिस्टम तैयार कर रहा है.

बढ़ाइए अपना GK, जानें, हिमालय के ऊपर से क्यों नहीं उड़ते हैं विमान?

इस नए सिस्टम के तहत मुसाफिरों को सफर के दौरान खाना उपलब्ध कराने के लिए रेलवे लगभग सभी बड़े स्टेशनों के पास IRCTC संचालित बेस किचन तैयार कर रहा है, इसके जरिये जिन ट्रेनों से पैंट्री कार हटाई जाएगी उनमें खाना उपलब्ध कराया जाएगा. यही नहीं ट्रेन में यात्रियों को ई-कैटरिंग या ऑनलाइन फ़ूड आर्डर करने का विकल्प दिया जाएगा.

Navratri में सैलानियों के लिए खुला उत्तराखंड का आनंद वन, देहरादून ट्रिप का मजा हो जाएगा दोगुना

इस कदम के जरिये रेलवे एक साथ दो लक्ष्य हासिल करना चाहती है. एक तरफ जहां थर्ड एसी कोच के जरिये रेलवे अपनी आमदनी बढ़ाना चाहता है वहीं ई-कैटरिंग को विस्तार देना चाहता है. सूत्रों के मुताबिक रेल्वे किसी भी कॉन्ट्रोवर्सी से बचने के लिए दबे पांव इस कदम को पूरा करना चाहती है.

Komal Mishra

मैं कोमल... तो चलिए अपनी लेखनी से आपको घुमाती हूं... पहाड़ों की वादियों में और समंदर के किनारे

error: Content is protected !!