Paragliding Tips – पैराग्लाइडिंग करते समय किन बातों का रखना होता है ख्याल

Paragliding Tips – खुले आसमां में पंछियों की तरह उड़ना किसे अच्छा नहीं लगता. सभी की चाहत होती है कि काश वे भी पंछियों की तरह आसमां की सैर कर सकें. वायुयान ने आसमां में उड़ने की सुविधा तो मुहैया कराई, लेकिन इसमें वह मजा कहां, जो अपने पंखों पर बगैर किसी रोक-टोक के उड़ने में है.

आसमां में उड़ने की लोगों की इसी चाहत ने पैराशूट को जन्म दिया. पैराशूट में आप अपने मनमुताबिक आसमां की सैर कर सकते हैं, धरती से हजारों फुट ऊपर से धरती को निहार सकते हैं और बादलों के साथ काफी करीब से आसमां को अनुभव कर सकते हैं. पैराशूट के सहारे आसमां और बादलों की सैर करना ही Paragliding है.

आसमां में उड़ने की चाहत ने Paragliding का दायरा काफी बढ़ा दिया है. पिछले कुछ समय से युवाओं में पैराग्लाइडिंग को लेकर गजब का क्रेज देखा जा रहा है. बात चाहे समर वेकेशन की हो या फिर किसी अन्य मौके पर दो-तीन दिनों की छुट्टियों की, युवाओं की पहली पसंद होती है पैराग्लाइडिंग करना. इन्हें जब भी मौका मिलता है, आसमां की सैर करने के लिए निकल पड़ते हैं.

Nainital Full Travel Guide 2020 : कम बजट में ऐसे करें झीलों के शहर की यात्रा

पैराग्लाइडिंग क्या है?

पैराग्लाइडिंग आसमान की बुलंदिओं को छूने का एक अदभुत खेल है. इस खेल में पायलट एक ऐसे विमान में उड़ान भरता है जो कि बिना इंजन के होता है और जिसे पायलट द्वारा रस्सिओं की सहायता से कंट्रोल किया जाता है.  इस खेल में पायलट को एक ऊंचाई वाले स्थान (पहाड़ी) पर जाना होता है. जहां से पायलट को फेब्रिक विंग के निचे हर्नेस में बैठ कर उडान भरनी होती हैं. इस खेल में व्यक्ति पक्षियों की तहर हवा में उड़ सकता है, पैराग्लाइडिंग के इस खेल में पायलट घंटो तक उड़ान भर सकता है.

पैराग्लाइडिंग में एक घंटे में 5 से 7 किमी तक का सफर किया जा सकता है. इस खेल में पायलट को ऊंचाई वाले स्थान से निचे की ओर समतल धरातल यानि खुला मैदान की तरफ आना होता है. यह पायलट पर निर्भर करता है कि वह कितनी देर अपने को हवा में रख सकता है. पायलट को दिशा देने में हवा का रुख भी महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है. पैराग्लाइडिंग का रोमांच दिन ब दिन लोगों में बढ़ता ही जा रहा हैं. रोमांच से भरा यह खेल भारत में भी उतना ही पापुलर है जितना कि विदेशों में.

पैराग्लाइडिंग करते समय ध्यान रखने वाली बातें

पैराग्लाइडिंग करने के लिए ध्यान रखने योग्य सबसे पहली बात, खराब मौसम में कभी पैराग्लाइडिंग ना करे.
पैराग्लाइडिंग करने के लिए आप मानसिक रूप से तयार हों.
पैराग्लाइडिंग करते समय हेल्मेट जरुर पहने.
पेराग्लिडिंग करने से पहले अपने हर्नेस और रिजर्व्ड पैराशूट की अच्छी तरह जांच कर लें
आरामदायक वस्त्र पहन कर पैराग्लाइडिंग करे
अच्छे प्रशिक्षक के साथ ही उड़ान भरें
तेज हवा में उड़ने की कोशिश ना करें
पैराग्लाइडिंग के लिए बालिग होना जरूरी है.

पैराग्लाइडिंग के लिए जरूरी हैं इंस्ट्रक्टर

पैराग्लाइडिंग एक ऐसा एडवेंचरस गेम है, जिसे बगैर ट्रेनिंग और गाइडेंस के नहीं किया जा सकता. पैराग्लाइडिंग करने के लिए सही ट्रेनिंग और गाइडेंस की अत्यधिक जरूरत पड़ती है, युवाओं को पैराग्लाइडिंग की ट्रेनिंग और उसके गूढ़ रहस्यों के बारे में बताने का काम करते हैं.

Komal Mishra

मैं कोमल... तो चलिए अपनी लेखनी से आपको घुमाती हूं... पहाड़ों की वादियों में और समंदर के किनारे