Tuesday, February 27, 2024
Travel Blog

Supaul Tourist Place : सुपौल में घूमने ये जगहें हैं बेहतरीन

Supaul Tourist Place : सुपौल बिहार राज्य में जिला है. यह जगह नेपाल की सीमा से ज्यादा दूर नहीं है. यह जिले के प्रशासन का मुख्यालय है. कोसी नदी सुपौल क्षेत्र से होकर बहती है. इसने अपना मार्ग बदल लिया और फिर वही मार्ग अपना लिया जो यह 200 वर्ष पहले अपनाता था.जिससे सुपौल जिले के कई हिस्सों में बाढ़ आ गयी. आज के आर्टिकल में हम आपको बताते हैं सुपौल में घूमने की जगहों के बारे में…

सुपौल का इतिहास || History of Supaul

इसका एक समृद्ध इतिहास है. यह हिंदुओं की पौराणिक कथाओं में मत्स्य पालन का क्षेत्र रहा है. वेदों के काल से ही यह मिथिलांचल का हिस्सा रहा है.अपाडनिगम और अंगुटारन जैसे दो सबसे पुराने लोकतंत्र हैं. ये बौद्धकाल में अस्तित्व में हैं, कोसी नदी को बिहार राज्य का शोक माना जाता है, प्रमुख सहायक नदियां सुरसर, मिर्चिया, भेंगे, तिलावे, काली आदि हैं। मिट्टी का प्रकार रेतीला है. यह कोसी प्रमंडल का हिस्सा है. यह इस जिले के प्रशासन का मुख्य मुख्यालय है. यहां एक सार्वजनिक क्लब है जो 100 साल पुराना है. यह सड़क और रेल मार्ग से राज्य और देश की राजधानी से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है.

धरहरा || Dharahara

यह गांव 2010 में तब सुर्खियों में आया जब यह पता चला कि जब एक लड़की का जन्म होता है, तो परिवार कम से कम दस पेड़ लगाते हैं. पेड़ कई पीढ़ियों से लगाए जा रहे हैं, और उनमें से अधिकांश आम और लीची हैं. इस स्थान पर पर्यटक बड़ी संख्या में जाते हैं.

विष्णु मंदिर || Vishnu Temple 

यह देश भर के भक्तों के लिए एक फेमस जगहें हैं. यह एक विष्णु मंदिर है. विष्णु को हरि और नारायण भी कहा जाता है. इस मंदिर में कई उपासक भगवान विष्णु की पूजा करने के लिए एकत्र हुए. उन्हें सर्वोच्च ईश्वर के रूप में चित्रित किया गया है.

टिंटोलिया || tintolia

यह काली मंदिर है. पूरे भारत से कई उपासक जाते हैं.  देवी काली शक्ति का प्रतीक हैं. वह समय और परिवर्तन की देवी हैं. तीर्थयात्री बड़ी संख्या में इस स्थान पर आते हैं. देवी काली को भगवान शिव की पत्नी के रूप में चित्रित किया गया है. शिव देवी काली के रास्ते में खड़े हैं, और शिव पर उनका पैर उनके क्रोध को शांत करता है.

कोसी नदी || Kosi River

घूमने लायक एक और दिलचस्प जगह कोसी नदी है. यह एक सीमा-पार नदी है जो बिहार और नेपाल दोनों से होकर बहती है.  इसे सात सहायक नदियां कहा जाता है. नदी बेसिन के चारों ओर कई पर्वतमालाएं हैं.  यह उत्तर में यारलुंगत्संगपो नदी, पश्चिम में गंडकी और पूर्व में महानंदा को विभाजित करती है.  पिछले 250 वर्षों के दौरान कोसी नदी का मार्ग बदल गया है। मोटी गाद के कारण यह अस्थिर है.

इस नदी की दो सहायक नदियाँ हैं.  नदी में मछली पकड़ना एक महत्वपूर्ण उद्योग है. यह घूमने के लिए एक बेहतरीन जगह है. पिकनिक क्षेत्रों में बिव्हा नेशनल पार्क, कोशी हाई डैम, कटिया पावर प्रोजेक्ट, लैटोना चर्च और अजगैबी काली मंदिर शामिल हैं. हरदी में घूमने लायक एक और गंतव्य चौघारा है, जो प्रसिद्ध योद्धाओं अल्लाह और रुदाल का ऐतिहासिक जन्मस्थान है. तो देखने के लिए बहुत सारी साइटें हैं.

कपिलेश्वर मंदिर|| Kapileshwar Temple

कपिलेश्वर मंदिर सुपौल में एक प्राचीन भारतीय मंदिर है. इस मंदिर में भगवान शिव की पूजा की जाती है.  महाशिवरात्रि के दौरान बड़ी संख्या में श्रद्धालु पूजा-अर्चना करते हैं.

हनुमान मंदिर || Hanuman Temple

यह हनुमान-समर्पित मंदिर सुपौल के मध्य में स्थित है. इस मंदिर की दीवारों पर बनी मूर्तियों के कारण कई लोग इस मंदिर के दर्शन के लिए लंबी दूरी तय करते हैं।

सुपौल कैसे पहुंचे || how to reach supaul

हवाईजहाज से कैसे पहुंचे || how to reach supaul By Air

नियमित उड़ानें सुपौल को देश के बाकी प्रमुख शहरों से नहीं जोड़ती हैं। निकटतम हवाई अड्डा विराटनगर में है, जो 77 किलोमीटर दूर है.

हवाई अड्डे: विराटनगर हवाई अड्डा

ट्रेन से कैसे पहुंचे || how to reach supaul By Air

देश के अन्य प्रमुख शहरों से सुपौल के लिए कोई नियमित ट्रेनें नहीं हैं। निकटतम रेलवे स्टेशन कटिहार में है, जो 115 किलोमीटर दूर है.

सड़क के रास्ते कैसे पहुंचे || how to reach supaul By Air

सड़क मार्ग द्वारा पटना से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है.

Komal Mishra

मैं हूं कोमल... Travel Junoon पर हम अक्षरों से घुमक्कड़ी का रंग जमाते हैं... यानी घुमक्कड़ी अनलिमिटेड टाइप की... हम कुछ किस्से कहते हैं, थोड़ी कहानियां बताते हैं... Travel Junoon पर हमें पढ़िए भी और Facebook पेज-Youtube चैनल से जुड़िए भी... दोस्तों, फॉलो और सब्सक्राइब जरूर करें...

error: Content is protected !!