Rishikesh-Karnaprayag Rail Project – सिर्फ ढाई घंटे में पहुंचेंगे ऋषिकेश से कर्णप्रयाग

उत्तराखंड में स्थित ऋषिकेश-कर्णप्रयाग ( Rishikesh-Karnaprayag Rail Project ) रेल परियोजना के लिए व्यासी-देवप्रयाग के बीच टनल और पुल बनाने की स्वीकृति सरकार से मिल गई है. इसके निर्माण के लिए केंद्र सरकार ने 1890 करोड़ रुपए स्वीकृत किये हैं. बताया जा रहा है कि अक्टूबर  महीने से यहां काम शुरू हो जाएगा. वहीं
ऋषिकेश-शिवपुरी और शिवपुरी-व्यासी के बीच काम शुरू कर दिया गया है.

व्यासी-देवप्रयाग के बीच करीब 18 किलोमीटर लंबी रेल लाइन पर चार टनल और चार छोटे-बड़े पुल बनाए जाने की योजना भी है.

Rishikesh Tour : ऋषिकेश जाएं तो इन 10 जगहों पर घूमना न करें Miss

यही नही, यहां लगभग 15 किलोमीटर लंबी चार सुंरगें और चार पुल बनाए जाएंगे. जिसमें सबसे बडी सुरंग करीब 9.5 किलोमीटर लंबी और सबसे छोटी 1.5 किलोमीटर लंबी होगी. वहीं दो और सुरंगें दो-दो किलोमीटर लंबी बनेगी. इस बीच यहां पर चार पुल भी बनाए जाएंगे. पहला पुल गंगा नदी पर देवप्रयाग-पौड़ी जनपद सीमा को जोड़ने वाला 150 मीटर लंबा पुल भी इसमें शामिल है. इन पुलों और टनल के निर्माण की ज़िम्मेदारी चार एजेंसियां को सौंपी गई हैं. यहां बनने वाले पुल और टनल के निर्माण कार्य को पांच साल में पूरा किया जाना है.

ऋषिकेश -कर्णप्रयाग ( Rishikesh-Karnaprayag Rail Project ) रेल परियोजना के निर्माण होने से ऋषिकेश से कर्णप्रयाग ( Rishikesh-Karnaprayag Rail Project )  तक का सफर अब करीब ढाई से तीन घंटे में तय होगा. परियोजना से चारधाम यात्रियों को बहुत सहूलियत मिलेगी. यही नहीं यहां के स्थानीय लोगों को भी बेहतर संपर्क कनेक्टिविटी मिल सकेगी. अब जब गैरसैंण को उत्तराखंड की ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने की घोषणा सरकार कर चुकी है तो इस प्रोजेक्ट के तहत गैरसैंण को भी रेल मार्ग से जोड़ने पर गंभीरता से विचार किया जा रहा है.

Rishikesh Travel Guide – फ्री में घूमिए ऋषिकेश, आने-जाने-खाने की यहां नो टेंशन!

ऋषिकेश-कर्णप्रयाग ( Rishikesh-Karnaprayag Rail Project ) रेलवे परियोजना के बीच 12 रेलवे स्टेशन बनेंगे. इन स्टेशनों में वीरभद्र, ऋषिकेश, शिवपुरी, ब्यास, देवप्रयाग, श्रीनगर, मलेथा, धारी देवी, घोलतीर, गौचर और कर्णप्रयाग शामिल हैं. ऋषिकेश-कर्णप्रयाग ( Rishikesh-Karnaprayag Rail Project ) रेल परियोजना भारतीय रेल की सबसे महत्वकांक्षी रेल परियोजनाओं में से एक है.

Uttarakhand Full Travel Guide : यहां लें उत्तराखंड के 41 Best Hill Station की पूरी जानकारी

जानकारी के अनुसार ऋषिकेश- कर्णप्रयाग ( Rishikesh-Karnaprayag Rail Project ) रेल लाइन प्रोजेक्ट पर कार्य तेजी से चल रहा है. बताया जा रहा है कि दिसंबर माह से पहले इस लाइन के सभी प्रोजेक्ट पैकेज आवंटित हो जाएंगे. ये निर्माण 125 किलोमीटर लंबी लाइन शुरू किया जाएगा.

Anchal Shukla

मैं आँचल शुक्ला कानपुर में पली बढ़ी हूं। AKTU लखनऊ से 2018 में MBA की पढ़ाई पूरी की। लिखना मेरी आदतों में वैसी शामिल है। वैसे तो जीवन के लिए पैसा महत्वपूर्ण है लेकिन खुद्दारी और ईमानदारी से बढ़कर नहीं। वो क्या है किमैं लोगों से मुलाक़ातों के लम्हें याद रखती हूँ,मैं बातें भूल भी जाऊं तो लहज़े याद रखती हूँ,ज़रा सा हट के चलती हूँ ज़माने की रवायत से,जो सहारा देते हैं वो कंधे हमेशा याद रखती हूँ।कुछ पंक्तिया जो दिल के बेहद करीब हैं।"कबीरा जब हम पैदा हुए, जग हँसे हम रोयेऐसी करनी कर चलो, हम हँसे जग रोये"