Bullet train से अब आप जेवर से आगरा आप पहुंच सकेंगे बस 33 मिनट में

bullet train- दिल्ली से वाराणसी के बीच चलने वाली बुलेट ट्रेन की प्रारंभिक रिपोर्ट तैयार की जा रही है. इसका फायदा नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट जेवर को भी मिलेगा. बुलेट ट्रेन के जरिए दिल्ली से जेवर एयरपोर्ट की 62.5 किलोमीटर की दूरी 21 मिनट में तय हो सकेगी. जबकि जेवर से आगरा आप 33 मिनट में पहुंच जाएंगे.

दिल्ली से वाराणसी के बीच बुलेट ट्रेन चलाई जानी है. इसकी डीपीआर के लिए काम शुरू हो गया है. प्रारंभिक रिपोर्ट को अंतिम रूप दिया जा रहा है. इसका फायदा गौतम बुद्ध नगर जिले को भी मिलेगा. इस रूट का यह पहला जिला होगा, जहां पर दो स्टापेज तय किए जा रहे हैं. पहला नोएडा के सेक्टर-148 में और दूसरा स्टेशन जेवर एयरपोर्ट के पास बनाया जाएगा. सबसे अधिक फायदा जेवर एयरपोर्ट को मिलेगा.

देश के ये 12 मंदिर साबित करते हैं कि यौन संबंध को लेकर हमारे पूर्वज कितने सहज थे

दरअसल एयरपोर्ट को दिल्ली से जोड़ने के लिए कई विकल्पों पर काम चल रहा है. बुलेट ट्रेन से सबसे कम समय में यात्री दिल्ली से जेवर एयरपोर्ट तक पहुंच सकते हैं. बुलेट ट्रेन दिल्ली के सरायकाले खां से शुरू होगी. दिल्ली से नोएडा सेक्टर 148 होते हुए जेवर एयरपोर्ट तक पहुंचेगी. यह दूरी करीब 21 मिनट में तय हो जाएगी. दिल्ली के लोगों को जेवर एयरपोर्ट तक पहुंचने में बहुत आसानी होगी. यह ट्रेन ट्रेन 300 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक की रफ्तार से दौड़ेगी.

क्या ट्रेनों में अब नहीं मिलेगा खाना, जानिए क्या है भारतीय रेलवे का नया प्लान

Train Will stop at these stations

प्रारंभिक रिपोर्ट बताती है कि दिल्ली-वाराणसी रूट पर नोएडा सेक्टर-148, जेवर एयरपोर्ट, मथुरा, आगरा, कन्नौज, इटावा, लखनऊ, रायबरेली, प्रयागराज व भदोही में ट्रेन रुकेगी. इस रूट का आखिरी स्टेशन वाराणसी होगा. इस ट्रेन से दिल्ली से जेवर तक 21 मिनट, जेवर से आगरा तक 33 मिनट, दिल्ली से लखनऊ तक 2.5 घंटे और दिल्ली से वाराणसी तक पहुंचने में चार घंटे का समय लगेगा.

इन रूट्स पर 40 Clone Trains चलने से अब मिलेगी सिर्फ़ कन्फर्म टिकट

The project will be completed in four phases

दिल्ली-वाराणसी रूट की प्रारंभिक रिपोर्ट बताती है कि यह परियोजना 4 चरणों में पूरा होगी. पहला चरण दिल्ली से आगरा, दूसरा चरण आगरा से लखनऊ, तीसरा चरण लखनऊ से प्रयागराज और चौथा चरण प्रयागराज से वाराणसी तक का होगा.

Komal Mishra

मैं कोमल... तो चलिए अपनी लेखनी से आपको घुमाती हूं... पहाड़ों की वादियों में और समंदर के किनारे